Hindusthan Samachar
Banner 2 रविवार, सितम्बर 23, 2018 | समय 03:03 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

चौदह दिन की न्यायिक हिरासत में भेजे गए पत्रकार उपेंद्र राय

By HindusthanSamachar | Publish Date: Jun 22 2018 6:46PM
चौदह दिन की न्यायिक हिरासत में भेजे गए पत्रकार उपेंद्र राय
नई दिल्ली, 22 जून (हि.स.)। दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने भ्रष्टाचार और धोखाधड़ी के मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा गिरफ्तार पत्रकार उपेंद्र राय को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। आज (शुक्रवार को) ईडी ने उपेंद्र राय की हिरासत की मांग नहीं की, जिसके बाद कोर्ट ने उसे 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया। पिछले 8 जून को सीबीआई कोर्ट से उपेंद्र राय को जमानत मिलने के बाद ईडी ने गिरफ्तार किया था। ईडी की ओर से पेश वकील एनके माटा और नीतेश राणा ने कोर्ट को बताया कि उपेंद्र राय लोगों से वसूली करता था। वह लोगों से कहता था कि पत्रकार होने के नाते हमारे पास आपके खिलाफ सूचना है। ईडी ने उपेंद्र राय पर करोड़ों रुपए वसूलने का आरोप लगाया।ईडी ने कहा था कि उपेंद्र राय के पास से कई दस्तावेज और पेन ड्राइव मिले हैं। ईडी ने कोर्ट को बताया था कि उपेंद्र राय अक्सर अपनी काली कमाई को ठिकाने लगाने के लिए विदेश जाता रहा है। उपेंद्र राय के वकील विजय अग्रवाल ने कहा था कि ईडी ने इस मामले में काफी गड़बड़ियां की हैं। हमारे मुवक्किल के खाते में जो भी रकम आई उसका हिसाब है और उसके लिए आयकर भी जमा किया गया है। पिछले 8 जून को स्पेशल सीबीआई जज संतोष स्नेही मान ने उपेंद्र राय को पांच लाख रुपए के मुचलके पर जमानत दी थी। उपेंद्र राय के ठिकानों पर 2 मई की रात में सीबीआई ने छापा मारा था और पूछताछ की थी। सीबीआई ने उपेन्द्र राय को 3 मई को गिरफ्तार किया था। उसके खिलाफ फर्जी दस्तावेज के जरिये ब्यूरो ऑफ सिविल एविएशन सिक्युरिटी से एयरपोर्ट में प्रवेश करने का पास हासिल करने का आरोप है। इसके अलावा फर्जी तरीके से पैसों के लेन-देन करने का भी आरोप है। पिछले 4 मई को कोर्ट ने 3 दिनों की सीबीआई रिमांड पर भेजा था। उसके बाद 7 मई को कोर्ट ने उपेन्द्र राय को और दो दिनों के लिए सीबीआई रिमांड पर भेजा था। 9 मई को कोर्ट ने 23 मई तक न्यायिक हिरासत में भेजा था। उसके बाद 23 मई को दोबारा कोर्ट ने 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजा था। उपेन्द्र राय पर 5 मई को दूसरी एफआईआर दर्ज की गई। दूसरी एफआईआर में आरोप लगाया गया है कि उसने व्हाइट लॉयन डेवलपर्स रियल इस्टेट प्राइवेट लिमिटेड से 15 करोड़ रुपये से ज्यादा रुपये वसूले थे। उपेन्द्र राय पर आरोप है कि उसने व्हाईट लायन से इनकम टैक्स का छापा और मीडिया में खबर रुकवाने के लिए ये रकम लिए। उपेंद्र राय सहारा मीडिया और तहलका के सीईओ रह चुके हैं। हिन्दुस्थान समाचार/संजय/आकाश
image