Hindusthan Samachar
Banner 2 मंगलवार, नवम्बर 20, 2018 | समय 03:31 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

मध्य प्रदेश में भाजपा के 28 नेताओं के परिजनों को टिकट

By HindusthanSamachar | Publish Date: Nov 9 2018 6:32PM
मध्य प्रदेश में भाजपा के 28 नेताओं के परिजनों को टिकट
नई दिल्ली, 09 नवम्बर (हि.स.) । जब चुनाव को युद्ध की तरह लड़ा जायेगा और युद्ध जीतने के लिए सब कुछ जायज माना जायेगा, तो वह सब करना पड़ेगा जिसके विरोध में बोला जाता रहा है। राजनीति में वंशवाद के विरोध में सबसे अधिक भाजपा के शीर्ष नेता बोलते रहे हैं। अब स्थिति यह है कि भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय जैसे नेता अपने बेटे आकाश को विधानसभा का टिकट दिलवाने के लिए परिवारवाद की तरफदारी में खुलकर बोले। हालांकि पार्टी ने टिकट देकर केवल विजय वर्गीय को ही उपकृत नहीं किया, बल्कि प्रदेश की 230 विधानसीटों में से 28 सीटों पर भाजपा नेताओं के परिजनों को टिकट दिया गया है। इनमें से कुछ प्रमुख नाम गौरी शंकर सेजवार के पुत्र से लगायत कैलाश जोशी के बेटे दीपक जोशी, सुंदरलाल पटवा के भतीजे सुरेन्द्र पटवा, गौड राजा विजय शा व उनके भाई, थावर चन्द गहलोत के बेटे तक का है, जिन्हें टिकट दिया गया है। वरिष्ठ पत्रकार सुरेश मेहरोत्रा का कहना है कि राज्य भाजपा में इस बार टिकट बंटवारे में राज्य के दो नेताओं की अधिक चली है। पहला- शिवराज सिंह चौहान और दूसरा- नरेन्द्र सिंह तोमर। दोनों में ही बहुत अच्छी बनती है। कुछ ही सीटों पर केन्द्रीय नेतृत्व ने हस्तक्षेप किया है। वरिष्ठ पत्रकार शक्ति का कहना है कि विजय वर्गीय अपने बेटे आकाश को टिकट दिलवाने के लिए खुद विधानसभा चुनाव नहीं लड़ रहे हैं। वह चाहते थे कि उनके बेटे आकाश को इंदौर-2 विधानसभा सीट से टिकट दिया जाये। इसी विधानसभा क्षेत्र में कैलाश विजय वर्गीय का घर पड़ता है। यहां से वे पहले विधायक रह चुके हैं। यह इनका गढ़ है। लेकिन शिवराज सिंह चौहान ने यह नहीं होने दिया। अभी जहां से कैलाश विधायक हैं, उस सीट महू से भी उनके बेटे को टिकट नहीं दिया। टिकट दिया गया इंदौर -3 विधानसभा क्षेत्र से, जहां से लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन अपने बेटे मंदार के लिए टिकट मांग रही थीं। लेकिन मंदार को टिकट नहीं दिया गया। इसके चलते सुमित्रा महाजन के लोग नाराज हैं, और वे आकाश विजय वर्गीज का अंदर-अंदर विरोध कर रहे हैं। यह विधानसभा क्षेत्र महाराष्ट्रीयन बहुल है, जिसमें ब्राह्मणों की जनसंख्या अधिक है। इसलिए इस सीट पर भाजपा व उसके प्रत्याशी आकाश को नुकसान होने की संभावना है। इसकी एक वजह और भी है। जिस विधानसभा सीट महू से कैलाश विधायक हैं, वहां से उषा ठाकुर को टिकट दिया गया है। जो इंदौर-3 विधानसभा क्षेत्र से टिकट की दावेदार थीं। वह महू से चुनाव ही नहीं लड़ना चाहती थीं। इसलिए महू भेजने पर उन्होंने बयान दिया कि उनको जबरिया महू से टिकट दिया गया है। इसके कारण उनके समर्थक भी नाराज हैं। इस तरह से कैलाश के कारण इंदौर -3 और महू विधानसभा सीट यानी दो विधानसभा सीटें विवाद में आ गई हैं। सूत्रों का कहना है कि इस तरह की आपसी तनातनी 20 से अधिक सीटों पर है। जिसको लेकर संघ व भाजपा के बड़े नेता चिंतित है और किसी भी तरह से कार्यकर्ताओं की नाराजगी दूर करने की कोशिश में जुटे हैं। हिन्दुस्थान समाचार/कृष्णमोहन/पी.के.
image