Hindusthan Samachar
Banner 2 मंगलवार, नवम्बर 20, 2018 | समय 03:27 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

हीरालाल अलावा को टिकट दिए जाने से जयस और कांग्रेस कार्यकर्ताओं में रोष

By HindusthanSamachar | Publish Date: Nov 7 2018 1:19PM
हीरालाल अलावा को टिकट दिए जाने से जयस और कांग्रेस कार्यकर्ताओं में रोष
धार, 07 नवम्बर (हि.स.)। विधानसभा चुनाव के पूर्व जय आदिवासी संगठन(जयस) ने बीते कुछ माह में आदिवासियों के हितों का हवाला देकर खूब आंदोलन किया और नेताओं की नींद उड़ाने का काम किया। समय-समय पर जयस के नेताओं और सरकार के बीच कई बार बैठक भी हुई किंतु कोई नतीजा सामने नहीं आया। जिसके फलस्वरूप जयस प्रमुख डॉ हीरालाल अलावा ने आदिवासी बाहुल्य क्षेत्रों की 80 सीटों पर विधानसभा चुनाव लड़ने की घोषणा कर दी। उनका प्रमुख फोकस कुक्षी विधानसभा को लेकर ही रहा। कांग्रेस और भाजपा से उन्होंने कई बार समझौते का प्रयास अपनी शर्तों के आधार पर किया किंतु उन्हें निराशा ही हाथ लगी। 80 सीटों पर लड़ने का ऐलान करने वाले अलावा ने कांग्रेस से समझौते में 40 सीटें मांगी और अब मात्र चार पर ही समझौता करने पर राजी होते हुए दिखाई दे रहे हैं । जानकारी के अनुसार उनकी सीट मनावर के अतिरिक्त रतलाम ग्रामीण जबलपुर और एक सिटी इंदौर से उन्होंने मांगी है। क्षेत्र में है बगावत, कांग्रेस ने जयस आदिवासी संगठन के मुखिया डॉ. हीरालाल अलावा को मनावर विधानसभा से टिकट तो दे दिया है किंतु क्षेत्र में बगावत हो रही है। अलावा के यूं पार्टी बदले जाने के बाद जयस में आक्रोश व्याप्त हो गया है। संगठन के अन्य पदाधिकारियों ने हीरालाल अलावा पर संगठन को धोख़ा देने का आरोप लगाया। जयस से फाउंडर मेंबर अरविंद मुजाल्दा ने अलावा के कांग्रेस से टिकट लेने पर गहरी नाराज़गी जताई है। वहीं कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने भी उन्हें टिकट दिए जाने का विरोध किया है और फल स्वरूप मनावर क्षेत्र में उनका पुतला जलाया गया । उमरबन के सब स्टेशन पर काग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता व पूर्व ब्लाक अध्यक्ष कालुसिंह पटेल के नेतृत्व में काग्रेस के कार्यकर्ता एकत्रित हुए और हीरालाल अलावा का विरोध कर पुतला जलाया व नारे बाजी की कार्यकर्ताओ की मांग की की यहां से स्थानीय को उम्मीदवार बनाया जाए। इसी प्रकार सनन चौराहा, टोकी उमरबन के साथ ही रालामंडल,बड़गांव, सिरसाला, करौंदिया, रणतलाव, खेड़ी बंजारी उटावड़ लुनेरा, गुलाटी, देवला,अजंदा आदि गांव में पुतला दहन व प्रवेश निषेध के फ्लेक्स लगाकर कार्यकर्ताओं ने विरोध प्रदर्शन किया है ।रालामंडल में तो चड्डी बनियान पहनकर कार्यकर्ताओं ने विरोध दर्ज कराया है। और मुर्दाबाद के नारे लगाए गए। नेताओं का कहना था इनकी उम्मीदवारी सहन नहीं की जाएगी।श्री अलावा का कार्यक्षेत्र कुक्षी तक सीमित है और यहां से दी टिकट दिया जाना केवल कांग्रेस को खत्म करने जैसा निर्णय है। 09 नवंबर के बाद लेंगे भावी निर्णय- कांग्रेस नगर अध्यक्ष रविंद्र पाटीदार ने कहा कि कांग्रेसी कार्यकर्ताओं के साथ विश्वासघात हुआ है अगर हमारी बातें नहीं मानी गई तो हम 09 नवंबर के बाद भावी निर्णय लेंगे। इस दौरान कांग्रेस भवन के बाहर एक बैनर भी लगा दिया गया, जिसमें लिखा था कि बाहरी उम्मीदवार हमें स्वीकार नहीं। इस निर्णय का कांग्रेस के वरिष्ठ नेता महेश जैन रामेश्वर पाटीदार, डॉ रमेश पाटीदार, महेंद्र सिंह पिपरीमान, जर्मन सिंह पंजाबी, बसंत उदासी सहित अन्य कई वरिष्ठ नेताओं ने अपने उद्बोधन में विरोध दर्ज कराया। पूर्व प्रत्याशी का यह है कहना- मनावर से पूर्व विधानसभा चुनाव में प्रत्याशी रहे निरंजन सिंह डावर का कहना है कि सरवन मती की बात कही थी किंतु बाहरी प्रत्याशी को यहां ठोक दिया गया है। मेरा नाम सर्वसम्मति मे सबसे ऊपर था। जिसे क्षेत्र में लोग नहीं जानते हैं उसे टिकट देना उचित नहीं है दिल्ली जा रहे हैं और प्रत्याशी बदलायेगे। जयस सामाजिक संगठन-जयस की राष्ट्रीय कोर कमेटी सदस्य व मनावर तहसील अध्यक्ष राजू एम सोलंकी कहा कि जयस एक सामाजिक संगठन है इसका राजनीति से कोई लेना देना नहीं है। डॉ अलावा ने आदिवासी समाज के साथ छल किया है, समाज जन चुनाव में करारा जवाब देंगे। हिन्दुस्थान समाचार / ज्ञानेन्द / मुकेश /सुभाष
image