Hindusthan Samachar
Banner 2 मंगलवार, नवम्बर 20, 2018 | समय 03:10 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

शारदीय नववर्ष कल से, उग्रतम संघर्ष होंगे राजनीतिक दलों में

By HindusthanSamachar | Publish Date: Nov 6 2018 7:56PM
शारदीय नववर्ष कल से, उग्रतम संघर्ष होंगे राजनीतिक दलों में
उज्‍जैन, 06 नवम्‍बर (हि.स.)। गुरुवार से शारदीय नववर्ष प्रारंभ हो जाएगा। ज्योतिषाचार्य पं. आनंदशंकर व्यास के अनुसार राजनीतिक दलों में परस्पर उग्रतम संघर्ष होंगे। प्रमुख सत्ताधीश रोगग्रस्त होंगे। प्रजा दुखी रहेगी। मध्यप्रदेश, राजस्थान व छत्तीसगढ़ में होने वाले विधानसभा चुनाव के अकल्पित चौंकाने वाले परिणाम होंगे। पं. व्यास के अनुसार मध्यप्रदेश में प्राकृतिक विपदा, वर्षा, बाढ़, रोगोपद्रव, आगजनी से जन-धन हानि होगी। छत्तीसगढ़ में प्राकृतिक विपदा से हानि होगी और हिंसक तत्वों के उत्पात बढ़ेंगे। राजस्थान में सत्ताधीशों के बीच उग्रतम संघर्ष होंगे, चूंकि इस समय इन राज्यों में चुनावी परिदृश्य है, इसके चलते समाज में अंतरविरोध की स्थिति रहेगी। छोटे से बड़े नेता परस्पर आरोप-प्रत्यारोप, अमर्यादित भाषा का उपयोग कर रहे हैं। यह स्तर निम्नतर होगा। नई पीढ़ी के समक्ष ऊहापोह की स्थिति रहेगी। भारतीय संस्कृति की विकृति राजनेताओं द्वारा दिए जाने वाले निम्न स्तर के बयानों से दिखाई दे रही है। विभिन्न राजनीतिक दलों के नेता और प्रवक्ता एक दूसरे के रहस्यों को जनता के सामने उजागर करेंगे। पं. व्यास ने हिस से चर्चा करते हुए बताया कि परिधावी वर्ष का आरंभ संवत्सर आरंभ के पूर्व हो चुका है। परिधावी संवत्सर में शनि के राज में रवि प्रधानमंत्री होंगे। परस्पर विरोधी पुत्र और पिता शनि-रवि के नेतृत्व वाला यह वर्ष अत्यंत संघर्ष का होगा। रवि के प्रधानमंत्री होने से राजभय रहेगा। धनेश मंगल होने से आर्थिक अस्थिरता रहेगी। बाजार में तेजी-मंदी, उतार-चढ़ाव रहेगा। जौ और गेहूं की खेती कम होगी। सत्ताधारी संकट में रहेंगे। कुछ महत्वपूर्ण नेताओं की क्षति संभव है। पश्चिम और पूर्व में हिंसक तत्वों का उत्पात रहेगा। भविष्यफल मेष- इस राशि के जातक क्रमश: प्रगति करेंगे। आर्थिक स्थिति में सुधार होगा। यश, सफलता प्राप्त होगी। गणपति की आराधना से विघ्न दूर होंगे। वृषभ- इस राशि के जातक पर शनि की ढैया का प्रभाव है। मित्र राशि का शनि होने से चिंता की बात नहीं है। चोट, एक्सीडेंट का भय रहेगा। भागीदार से असंतोष रहेगा। शिव और हनुमान की आराधना करें। मिथुन- इस राशि के जातक की आर्थिक स्थिति में सुधार होगा। एक्सीडेंट का भय रहेगा। किसी पर विश्वास कर कार्य न करें। वर्ष में गणपति की आराधना करें। कर्क- इस राशि के जातक के लिए यह वर्ष शुभ संकेत लेकर आएगा। पद-प्रतिष्ठा, सम्मान और अकस्मात धन की प्राप्ति होगी। वर्ष में राहू-केतु आराध्य हैं, गणपति की उपासना करें। सिंह- इस राशि के जातक के लिए उत्तरोत्तर प्रगति के संकेत हैं। धन, संपत्ति की अनुकूलता रहेगी। विशेष उपलब्धि के योग हैं। शिव और गणपति की आराधना से बाधाओं पर विजय प्राप्त होगी। कन्या- इस राशि के जातक पर शनि के ढैया का प्रभाव है। शनि की मित्रता होने से चिंता की बात नहीं। मन में भय, संशय व दुविधा रहेगी। वर्ष में शनि आराध्य हैं। तुला- इस राशि के जातक व्यापार और सर्विस में अनुकूलता महसूस करेंगे। आर्थिक स्थिति में सुधार होगा। कर्ज से मुक्ति मिलेगी। वर्ष में गणपति आराध्य हैं। वृश्चिक- इस राशि के जातक पर शनि की साढ़े साती का अंतिम चरण है। पूर्व के संघर्ष से मुक्ति मिलेगी। तंगाई, तनाव, शरीर कष्ट समाप्त होगा। शनि आराध्य है। धनु- इस राशि के जातक पर शनि की साढ़े साती का दूसरा ढैया है। राहत महसूस होगी। जमीन जायदाद से लाभ होगा। एक्सीडेंट का भय रहेगा। स्वजनों से धोखा संभव है। शिवजी और हनुमानजी की आराधना करें। मकर- इस राशि के जातक पर शनि का पहला ढैया है। राशि का स्वामी शनि होने से चिंता की बात नहीं। व्यय अधिक होगा। लंबे प्रवास के योग बनेंगे। तंगाई के लक्षण रहेंगे। समय मध्यम रहेगा। वर्ष में शनि आराध्य है। कुंभ- इस राशि के जातक की स्थाई संपत्ति का विस्तार होगा। समय अनुकूल प्रगतिकारक रहेगा। कार्य स्थल में बदलाव का मन रहेगा। चोट, एक्सीडेंट का भय रहेगा। वर्ष में गणपति आराध्य हैं। मीन- इस राशि के जातक के लिए वर्ष उपलब्धि वाला है। पद-प्रतिष्ठा और सम्मान मिलेगा। स्थाई संपत्ति का विस्तार होगा। आकस्मिक धन प्राप्त होगा। तीर्थ प्रवास होगा। गणपति की आराधना अवश्य करें। हिन्‍दुस्‍थान समाचार/क्षितिज
image