Hindusthan Samachar
Banner 2 मंगलवार, नवम्बर 13, 2018 | समय 04:50 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

पूरे मन से दतिया के विकास में रात-दिन एक किया : डॉ.नरोत्तम

By HindusthanSamachar | Publish Date: Nov 5 2018 9:22PM
पूरे मन से  दतिया के विकास में रात-दिन एक किया : डॉ.नरोत्तम
दतिया, 05 नवम्‍बर (हि.स.)। आज में आपके सामने फार्म भरने जा रहा हूं। आपसे आशीर्वाद लेने आया हूं। एक भक्त की है अर्जी, गुदगर्ज की है गर्जी, आगे तुम्हारी मर्जी। मेरी सहानुभूति उनके साथ भी है जो पाँच साल तक सहानुभूति यात्रा निकालते हैं और जब टिकट का टाइम आता है तो चला मुरारी हीरो बनने बड़ी विचित्र स्थिति है हमारे सरपंच से टिकट के नाम पर खाना बनवा लिया, बटवा दिया, रैली में लोगों को बुलवा लिया और दोनों को मंच पर भी नहीं चढऩे दिया। मेरी ऐसे काँग्रेसियों से पूरी सहानुभूति है और पूरी सद्भावना ऐसा भाजपा में नहीं होता भारतीय जनता पार्टी अपने कार्यकर्ता को पूरा सीने से लगाकर रखती है और उसका ख्याल रखती है। उसका सम्मान करती है। उक्त बात भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी व मंत्री डॉ.नरोतम मिश्रा ने सोमवार को किलाचौक पर जन समुदाय के बीच आमसभा के दौरान कही। उन्होंने कहा कि एक बड़े नेता आये थे और उन्हें मंच पर भी नहीं जाने दिया। मेरे तो राष्ट्रीय नेता अमित शाह जी आते है तो कार्यकर्ता उनके साथ अपनी सेल्फी ले लेते है। हमारा छोटा से छोटा कार्यकर्ता मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के साथ बैठकर फोटो खिचवा लेता है। यह भारतीय जनता पार्टी है और वों काँग्रेंस पार्टी यह फर्क समझना पढ़ेगा। दो दलों का प्रत्याशी आपके सामने है एक मैं भारतीय जनता पार्टी का प्रत्याशी आपके सामने सेवक के रूप में खड़ा है, और काँग्रेेंस के वों शहनशाह आपके सामने दोनों दस साल तक वों विधायक रहे और दस साल तक आपने मुझे आर्शीवाद दिया। उनका कार्यकाल जोडोंगे तो 35 साल हो होगे और मेरा कार्यकाल जोडेगें तो 29 साल होगा। लेकिन दतिया में दस दस साल हम दोनों विधायक रहे। उनके दस साल और यह किलाचौक उन दस सालों में पानी के लिए धरना होता था, बिजली के लिए धरना होता था और इन दस सालों में एक भी पानी और बिजली के लिए धरना नहीं हुआ। ये उनके दस साल थे कि दतिया में गैंगवार होता था और एक साथ दो-दो चार-चार लोग मर जाते थे और इन दस सालों में एक भी गैंगवार नहीं हुआ आपकी दतिया में। उनके दस साल में दुकानदार ठीक से अपनी दुकानदारी नहीं कर पाता था इतने दादा लोग सामान ले जाते थे और इन दस सालों में किसी भी दादा की एक दुकानदार से सामान ले जाने की हिम्मत नहीं हुई। एक की भी हिम्मत नहीं हुई हमारे व्यापारी से बोलने की अगर हमारा व्यापारी रात को बड़ौनी भी अकेला चला जाये तो वह सुरक्षित घर पहुंचा।उनके दस सालों में जब तक बेटा घर न पहुंच जाये तो माँ बाप चिंता करते थे कि बेटा अभी तक घर क्यों नहीं लौटा और इन दस सालों में दतिया की बहिन,बेटी रात को 12 बजे भी घर चली जाये तो उससे कोई बोल नहीं सकता। वो दस साल याद करों हजरत का गैंग घूमा करता था, रामबाबू दयाराम गडरिया की गैंग घूमा करते थे, इन दस सालों में किसी की हिम्मत नहीं पढ़ी डाकू या गुड्डा गिर्दी करने की। ये दस सालें दोनों की है जब वों विधायक बने तो करन सागर पर कब्जा कर लिया और जब मैं विधायक बना तो करन सागर को लवालव भर दिया। ये दो विचारों का अन्तर है। पार्टियों का अन्तर है अभी एक डकैत सरदार सिंह गुर्जर लकारा वों कहता था कि मेरा तो उनसे प्रोटेक्षन मिलता है, संरक्षण मिलता है मेरे उनसे पारिवारिक रिस्ते थे और जब इनके डाकुओं से पारिवारिक रिस्ते होगे और जब यह पावर में आयेगे तो पावर में कौन आयेगा यह विचार करना दतिया वासियों जब वों दस साल विधायक थे अमानों बाई की हत्या हुई, बड्डे रावत की हत्या हुई, राजू कुशवाहा की हत्या होती थी और जब हम आपके आर्शीवाद से विधायक बने तो किसी की हत्या नहीं हुई। वो दिन याद करों जब दतिया का व्यापारी दतिया से पलायन करके जा रहे थे। जब मैँ दतिया आया मेरे पास दों व्यापारी आये और बोले कि आप कार्यालय मेरे यहाँ खोल लों और वह दस साल बाद बाटिका डूढता फिर रहा हॅू कार्यालय के लिए बाटिकाऐं ही नहीं मिल रही है। बोल रहे है हमारी तो बाटिकाऐं बुक है आज आसपास के लोग दतिया स्वयं चलकर आ रहे है। वों दस साल जब बिजली कभी-कभी आती थी और ये दस साल कि बिजली कभी-कभी जाती है। वों दस साल जब पीने का पानी पीने के लिए बिकता था आज हमारे 35 गाँव के लोग बिसलरी से भैंस नहा रहे है उन्होंने कहा कि दोस्तों मैं बैठा नहीं रहा। रात दिन मेहनत की। आपकी सेवा के लिए, और पूरे मन से डूबकर दतिया में विकास गंगा बहाई। मैं सेवक बनकर आपके सामने आया हॅू मैेने दस साल पहले तस्वीर बनाई और उस पर लिख दिया उड़ान भरता दतिया मेरा भैया भारती कहने लगा सड़ान भरता दतिया मैेंने इन दस सालों मेंं उनके लिए कभी गलत शब्द नहीं बोला और इन दस सालों में उन्होंने इन किलाचौक पर मेरे बारे में कभी अच्छा शब्द नहीं बोला वाणी और भाषा बताती है कि परिवार कैसा है मैं ज्यादा कुछ नहीं कहता आप वाणी और भाषा पर संयम रखो कैसी भाषा का प्रयोग करते हो आप, अपनी बात पूरी ताकत से कहिए की आपने इन दस सालों में क्या-क्या किया और मैंने जो 10 सालों में किया वों जनता खुद कहेगी आप भी जनता के पास जाओं और मैं भी जनता के पास जायेगे। अभी कुछ दिन पहले इनके बड़े नेता आये थे मण्डी प्रागण में उन्होंने कहा कि दतिया में मेडीकल कॉलेज हमने चालू कराया। अरे सिधिंया जी आप मेडीकल कॉलेज चालू करवा सकते थे तो शिवपुरी में क्यों नहीं करवाया। शिवपुरी में आज भी पानी बिकता है दोस्तों एक महिने के अन्दर घर-घर पानी हम पहुंचायेगे। एक साल के अन्दर 35 गाँव के अन्दर पानी आ जायेगा। और मेरे दोस्तों मेरा दतिया पंजाब बन जायेगा। आज भी मण्डी चले जाना मण्डी छोटी पड़ रही है ट्रॉलिय नहीं बन रही है। और एक साल बाद मण्डी को चिगाकर ही और ले जाना पढ़ेगा पहले दतिया एक से तीन किलों मीटर के बीच बशी थी। आज दतिया पाँच से दस किलों मीटर की बस गई है। रिछारी पर कचहेरी, झाँसी रोड़ पर न्यायालय, केन्द्रीय विद्यालय, मेडीकल कॉलेज, उनाव रोड़ पर हवाई पट्टी, जिला चिकित्सालय का विकास इस दौरान उन्होनें कई विकास कार्य गिनाये सभा को सांसद भागीरथ प्रसाद, निगम उपाध्यक्ष अवधेश नायक, वरिष्ठ भाजपा नेत्री सावित्री सिंह, सेंवढ़ा भाजपा प्रत्याशी राधेलाल बघेल, जिलाउपाध्यक्ष कुमकुम रावत, युवा प्रदेश कार्यसमिति सदस्य बृजमोहन शर्मा सहित अन्य कार्यकर्ताओं ने सम्बोधित किया। नामांकन से पूर्व निकली विशाल रैली नामांकन भरने से पूर्व भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी डॉ.नरोत्तम ने स्टेडियम ग्राउण्ड से रैली के साथ निकले इसके बाद वह माँ पीताम्बरा के दरवार में दर्शन किये इसके बाद खुली गाड़ी में जनता का आर्शीवाद लेने के लिए नगर के विभिन्न मार्गो से होते हुये किलाचौक मैदान पहुंचे इस दौरान जगह-जगह उनका नगरवासियों द्वारा स्वागत किया। इस अवसर पर भाजपा पूर्व जिलाध्यक्ष राधाकांत अग्रवाल, डॉ.रामजी खरे, रामशरण रूसिया,जिलाध्यक्ष विक्रम बुन्देला,नपाध्यक्ष सुभाष अग्रवाल, प्रदेश कार्य समिति सदस्य भूरे चौधरी, महिलामोर्चा जिलाध्यक्ष किरण गुप्ता, पूर्व जिलाध्यक्ष सुलक्षणा गगौटिया, नगर मण्डल अध्यक्ष रंजना भटनागर, वंदना तिवारी, सुमन दाँगी, शशि पस्तौर, गिरर्जा भार्गव, रेखारानी सोनी, पिंकी सगर, सीमा तिवारी, ब्रजेश दुवे, परशुराम शर्मा, योगेश सक्सैना, बल्लन गुप्ता, प्रशांत ढेंगुला, किसान मोर्चा अध्यक्ष वीर सिंह यादव, ब्रजेश ढेंगुला, नगर अध्यक्ष गोविन्द ज्ञानान, मण्डल अध्यक्ष जगदीश यादव, महामंत्री मनीराम शर्मा सहित काफी संख्या में कार्यकर्ता उपस्थित रहे। हिन्दुस्तान समाचार/संतोष/मुकेश/बच्चन
image