Hindusthan Samachar
Banner 2 रविवार, नवम्बर 18, 2018 | समय 03:00 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

हिसाब बराबर करने उतरेंगे कई नेता

By HindusthanSamachar | Publish Date: Nov 5 2018 6:32PM
हिसाब बराबर करने उतरेंगे कई नेता
इंदौर, 05 नवम्बर (हि.स.)। इस बार मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव के दौरान कई विस सीटों पर हिसाब बराबरी का खेल होगा। कई सीटों पर भाजपा-कांग्रेस से ऐसे उम्मीदवार आमने-सामने है, जो पहले भी एक-दूसरे के खिलाफ चुनाव लड़ चुके हैं। मध्यप्रदेश की हरदा सीट पर भाजपा ने इस बार कई बार के विधायक और पूर्व मंत्री कमल पटेल को मौका दिया है। कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह के 10 साल के शासनकाल में भी कमल पटेल हरदा सीट को हमेशा बचाते रहे और विधानसभा में कांग्रेस सरकार के खिलाफ पुरजोर आवाज बुलंद करते रहे। लेकिन पिछले विस चुनाव में पटेल कांग्रेस के उम्मीदवार रामकिशोर दोगने से हार गए थे। जिसके बाद मध्यप्रदेश भाजपा के इस फायरब्रॉन्ड नेता कमल पटेल का राजनैतिक करियर समाप्त माना जा रहा था। अब कमल पटेल के पास हिसाब बराबर करने का मौका है। इसी तरह कांग्रेस सरकार में मंत्री रहे सत्यदेव कटारे के निधन के बाद हुए उप-चुनाव में कांग्रेस ने उनके बेटे हेमंत कटारे को खड़ा किया था। उस चुनाव में भाजपा के प्रत्याशी अरविंद सिंह भदौरिया थे। भदौरिया सहानुभूति लहर के चलते हेमंत कटारे से हार गए थे। अब एक बार फिर दोनों अपनी-अपनी पार्टियों से आमने-सामने हैं। इसी तरह दतिया सीट से भाजपा प्रत्याशी नरोत्तम शर्मा के खिलाफ कोर्ट चले जाने वाले राजेंद्र भारती को कांग्रेस ने अपना उम्मीदवार बनाया है। भारती-शर्मा की अदावत पुरानी है। इस चुनाव में एक बार फिर दोनों आमने-सामने हैं। इसी तरह खुरई विस सीट पर भाजपा सरकार में मंत्री रहे भूपेंद्र सिंह के सामने कांग्रेस के अरूणोदय चौबे हैं। दोनों ही एक-दूसरे को एक-एक बार हरा चुके हैं। ये तीसरा चुनाव होगा, जब दोनों उम्मीदवार एक-दूसरे के सामने हैं। इसी तरह पवई विस सीट पर कांग्रेस विधायक मुकेश नायक के सामने भाजपा के ब्रजेंद्र सिंह है। नायक कांग्रेस सरकार में मंत्री रहें हैं। वहीं उन्होंने 2013 में भाजपा सरकार में मंत्री ब्रजेंद्र सिंह को हराया था। इस बार दोनों एक बार फिर आमने-सामने हैं। इसी तरह लहार विस सीट पर कांग्रेस के गोविंद सिंह और भाजपा के रसाल सिंह के बीच फिर मुकाबला होगा। हिन्दुस्थान समाचार/निमिष/बच्चन
image