Hindusthan Samachar
Banner 2 मंगलवार, नवम्बर 20, 2018 | समय 03:41 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

तीन मंत्रियों को छोड़ अन्य को फिर मिला टिकट

By HindusthanSamachar | Publish Date: Nov 2 2018 3:43PM
तीन मंत्रियों को छोड़ अन्य को फिर मिला टिकट
अपडेट...भोपाल, 02 नवम्बर (हि.स.)। भारतीय जनता पार्टी की पहली सूची जारी होते ही चुनावी माहौल गरमा गया है। कई जगहों से विरोध के स्वर भी सुनाई दे रहे हैं। चौंकाने वाली बात यह रही कि सूची जारी होने से पहले जिन मंत्रियों का टिकट कटने की बात कही जा रही थी, उनमें से ज्यादातर अपनी टिकट बचाने में कामयाब रहे। भारतीय जनता पार्टी द्वारा विधानसभा चुनाव के लिए जारी की गई पहली सूची में मंत्री माया सिंह का टिकट कट गया है। मंत्री माया सिंह ग्वालियर पूर्व से विधायक थीं। पार्टी ने इस बार उनकी जगह पर सतीश सिकरवार को उम्मीदवार बनाया है। एक अन्य कद्दावर मंत्री गौरीशंकर शेजवार की जगह पर उनके बेटे मुदित शेजवार को उम्मीदवार बनाया गया है। वहीं, रामपुर बघेलान से विधायक और प्रदेश सरकार के मंत्री हर्ष सिंह का भी टिकट कट गया है। उनकी जगह बेटे विक्रमसिंह को टिकट दिया गया है। कुछ मंत्रियों के चुनाव क्षेत्र जरूर बदले गए हैं, लेकिन उन्हें पार्टी ने फिर से उम्मीदवार बनाया है। होशंगाबाद सीट को लेकर भी राजनीतिक हलकों में काफी कयासबाजी चल रही थी, लेकिन पार्टी ने वहां से डॉ सीतासरन शर्मा को फिर उम्मीदवार बनाकर अटकलों को विराम दे दिया है। पहली सूची में 27 वर्तमान विधायकों को दोबारा टिकट नहीं मिला है। पार्टी ने वनवास झेल रहे पूर्व मंत्री कमल पटेल को इस बार फिर से हरदा से टिकट दिया है। देवास से सांसद मनोहर ऊंटवाल को भी इस बार विधानसभा का टिकट दिया गया है। इन मंत्रियों को फिर मिला टिकट: नरोत्तम मिश्रा, जयभानसिंह पवैया, अर्चना चिटनिस, राजेन्द्र शुक्ला, गोपाल भार्गव, लालसिंह आर्य, भूपेंद्र सिंह, ललिता यादव, यशोधरा राजे सिंधिया, रुस्तम सिंह, रामपाल सिंह, ओमप्रकाश धुर्वे, सुरेंद्र पटवा, उमाशंकर गुप्ता, गौरीशंकर बिसेन, जयंत मलैया, विश्वास सारंग, संजय पाठक, विजय शाह, बालकृष्ण पाटीदार, अंतरसिंह आर्य, जालमसिंह पटेल, दीपक जोशी, पारस जैन आदि। घटिया सीट पर संशय: शुक्रवार सुबह जारी की गई सूची में भाजपा ने उज्जैन जिले घटिया सीट से विधायक सतीश मालवीय का टिकट काट दिया था। उनकी जगह पर अशोक मालवीय को टिकट दी गई थी। लेकिन दोपहर होते-होते इस सीट पर संशय की स्थिति बन गई। भाजपा की ओर से कहा गया कि टाइपिंग मिस्टेक के चलते अशोक मालवीय का नाम चला गया है। पार्टी की ओर से इस भूल को सुधारने की बात कही गई है। गौरतलब है कि वर्तमान विधायक सतीश मालवीय पार्टी में केंद्रीय मंत्री थावरचंद गहलोत के करीबी माने जाते हैं। हिन्दुस्थान समाचार /केशव/प्रतीक
image