Hindusthan Samachar
Banner 2 सोमवार, नवम्बर 19, 2018 | समय 03:01 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

2 नवम्बर से दाखिल होंगे नाम निर्देशन पत्र, कलेक्‍टर ने समझाई प्रक्रिया

By HindusthanSamachar | Publish Date: Oct 21 2018 7:15PM
2 नवम्बर से दाखिल होंगे नाम निर्देशन पत्र, कलेक्‍टर ने समझाई प्रक्रिया
दतिया, 21 अक्‍टूबर (हि.स.) । विधानसभा निर्वाचन 2018 के दौरान 2 नवम्बर से 13 दिसम्बर तक विधानसभा निर्वाचन की प्रक्रिया चलेगी। इस दौरान 2 नवम्बर को गजट नोटिफिकेशन के साथ नाम निर्देशन पर दाखिल होंगे 9 नवम्बर तक फार्म भरे जा सकेंगे। 12 नवम्बर को जांच एवं 14 नवम्बर को नाम वापसी के उपरांत इसी दिन चुनाव चिन्ह आवंटित होंगे। मतदान 28 नवम्बर तथा मतगणना 11 दिसम्बर को होगी। 
 
यह जानकारी कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन वीरेन्द्र सिंह रावत ने कलेक्ट्रेट कक्ष में रिटर्निंग आफीसर, सहायक रिटर्निंग आफीसर के साथ सर्विलेंस दलों को प्रशिक्षण देते हुये कही। इस दौरान अपर कलेक्टर टीएन सिंह, संयुक्त कलेक्टर वीवेक रघुवंशी, रिटर्निंग आफीसर दतिया अतेन्द्र सिंह गुर्जर, सेवढ़ा राकेश परमार, भाण्डेर आरएस वांकना सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे। प्रशिक्षण के दौरान नाम निर्देशन पत्र दाखिल करने, नाम निर्देशन पत्रों की जांच, नाम वापसी, प्रतीक चिन्हों का आवंटन आदि के संबंध में विस्तार से बताया गया। 
 
अभ्यर्थी को देना होगा अपराधों से संबंधित जानकारी
प्रशिक्षण में बताया गया कि नाम निर्देशन पत्रों के भाग 3 क में अभ्यर्थी को लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम 1951 के प्रावधानों के तहत् किसी अपराध या अपराध के लिए विधि के उल्लंघन के लिए सिद्ध दोष ठहराया गया है या किसी अपराध के लिए सिद्ध दोष ठहराया गया है, जिसके लिए उसे दो वर्ष या अधिक के कारावास से दंडित किया गया हो, हां या न में देना होगा। यदि उत्तर हां में है तो अभ्यर्थी को प्रथम सूचना रिपोर्ट, संख्याक, पुलिस थाना, जिला, राज्य, संबंद्ध अधिनियम की धारायें तथा अपराधों का विवरण जिनके लिए सिद्ध दोष ठहराया गया है दोष सिद्ध की तारीख न्यायालय का नाम, आरोपित दंड, कारावासों की अवधि, जुर्माने की राशि, कारागार से छूटने की तारीख अपील, अपील पेश करने की तारीख, न्यायालय का नाम, निपटारा हो गया है या नहीं, यदि निपटारा हो गया है तो निपटारे की तारीख, पारित आदेश की प्रकृति आदि से संबंधित जानकारी देना होगी।
 
इसके अलावा अभ्यर्थी को लाभ के पद धारण की जानकारी देनी होगी। यदि उत्‍तर हां में है तो धारित पद का ब्‍यौरा भी देना होगा। यदि अभ्यर्थी किसी न्यायालय से दिवालिया घोषित किया गया है तो उसकी जानकारी भी देनी होगी। इसके अलावा यदि अभ्यर्थी किसी विदेश देश के साथ राज निष्ठा या अनुशक्ति के अधीन है तो उसकी जानकारी भी देनी होगी। प्रशिक्षण के दौरान कलेक्टर द्वारा सर्विलेंस टीमों के पुलिस अधिकारियों को व्यापक प्रशिक्षण दिया गया। प्रशिक्षण के दैरान वाहनों की चैकिंग तथा किसी भी प्रकार की सूचना मिलने पर तत्काल मौके पर पहुंचने के निर्देश दिये गये। 
 
हिन्‍दुस्‍थान समाचार / उमेद 
image