Hindusthan Samachar
Banner 2 रविवार, नवम्बर 18, 2018 | समय 15:38 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

राजनीतिक दलों को दी नामांकन के साथ भरे जाने वाले शपथ पत्र की जानकारी

By HindusthanSamachar | Publish Date: Oct 20 2018 6:28PM
राजनीतिक दलों को दी नामांकन के साथ भरे जाने वाले शपथ पत्र की जानकारी
सीहोर, 20 अक्टूबर (हि.स.)। कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी तरुण कुमार पिथोड़े द्वारा शनिवार को विधानसभा निर्वाचन 2018 को लेकर कलेक्टर सभाकक्ष में राजनैतिक दलों की बैठक लेकर उन्हें नामांकन के साथ प्रत्याशियों द्वारा भरे जाने वाले शपथ पत्र की जानकारी दी। बैठक में पुलिस अधीक्षक राजेश चंदेल, अपर कलेक्टर विनोद कुमार चतुर्वेदी, उप जिला निर्वाचन अधिकारी मेहताब सिंह गुर्जर आदि उपस्थित थे।
 
जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि विधानसभा निर्वाचन 2018 के लिये राजनैतिक दल के प्रत्याशी-अभ्यर्थी द्वारा नामांकन के साथ भरे जाने वाले प्रारूप-26 (शपथ-पत्र) में सुप्रीम कोर्ट द्वारा संशोधन किया गया है। अभ्यर्थी के विरुद्ध यदि कोई आपराधिक प्रकरण लंबित है, तो उसकी सूचना आवश्यक रूप से बड़े एवं स्प्ष्ट शब्दों में समाचार पत्रों में देनी होगी एवं संबंधित राजनैतिक दल, जिससे अभ्यर्थी टिकट ले रहा-रही है, को भी सूचना देना आवश्य क होगा। संबंधित राजनैतिक दल ऐसे अभ्यर्थी जिन पर पूर्व में आपराधिक प्रकरण रहे है की जानकारी भी अनिवार्य रूप से अपनी बेवसाईट पर डालना अनिवार्य होगा।
 
अभ्यर्थी और संबंधित राजनैतिक दल ऐसे अभ्यूर्थी जिन पर पूर्व में आपराधिक प्रकरण रहे हैं के बारे में अपने क्षेत्र में व्या पक रूप से वितरित होने वाले समाचार पत्रों में कम से कम 12 के फोंट आकार में उचित स्था न पर एक घोषणा जारी करने के साथ ही इस संबंध में इलेक्ट्रानिक मीडिया में व्यापक प्रचार-प्रसार करना आवश्यक होगा। नामांकन वापस लेने की दिनांक से मतदान दिवस के 2 दिन पहले तक कम से कम 3 बार घोषणा पत्र का व्याकपक प्रचार-प्रसार किया जाना अनिवार्य है। अभ्यर्थी, जिला निर्वाचन अधिकारी को अपने निवार्चन व्यय लेखा के साथ उन समाचार पत्रों की प्रतियां जमा करेंगे, जिनमें इस संबंध में उनकी घोषणा प्रकाशित की गई थी।
 
जिला स्तरीय उपार्जन समिति की बैठक संपन्न
कलेक्टर तरुण कुमार पिथोड़े की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में शनिवार को जिला स्तरीय उपार्जन समिति की बैठक संपन्न हुई। बैठक में कलेक्टर ने डिफाल्टरों के विरुद्ध कार्यवाही करने के निर्देश दिए हैं। कलेक्टर ने मंडी सचिवों को निर्देशित किया कि उन समस्त किसानों की सूची उपलब्ध कराएं, जिन्होंने पिछले वर्ष मूंग व उड़द की खेती की थी। मूंग व उड़द के उर्पाजन का सत्यापन दो कर्मचारियों द्वारा किया जाए। जिनमें एक कर्मचारी राजस्व विभाग तथा दूसरा मंडी कार्यालय का होगा। कलेक्टर ने खरीदी केन्द्रों पर भंडारण, तौलकांटे आदि की व्यवस्था करने के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए हैं।
 
हिन्दुस्थान समाचार / मुकेश
image