Hindusthan Samachar
Banner 2 रविवार, नवम्बर 18, 2018 | समय 15:35 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

पार्टी ने वादा निभाया तो कांग्रेस में पैराशूट वालों को भी मिलेगा टिकट

By HindusthanSamachar | Publish Date: Oct 13 2018 3:42PM
पार्टी ने वादा निभाया तो कांग्रेस में पैराशूट वालों को भी मिलेगा टिकट
 
भोपाल, 13 अक्टूबर (हि.स.)। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भोपाल में पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा था कि पार्टी सिर्फ जमीनी कार्यकर्ताओं को टिकट देगी, पैराशूट से उतरे नेताओं को विधानसभा चुनाव में उम्मीदवार नहीं बनाया जाएगा। लेकिन राहुल गांधी का यह फार्मूला फेल होता दिख रहा है। प्रदेश कांग्रेस ने अन्य पार्टियों से कांग्रेस में आए कई नेताओं से टिकट देने का वादा किया है। अब यदि पार्टी अपना वादा निभाती है, तो इन पैराशूट वाले नेताओं को टिकट देना ही पड़ेगा।
 
विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस के उम्मीदवारों की पहली सूची कभी भी जारी हो सकती है। सूत्रों के अनुसार इसे लेकर दिल्ली में केंदीय स्क्रीनिंग कमेटी की बैठक हो चुकी है। ऐसे में पार्टी के अंदरखाने में पैराशूट से आए यानी अन्य पार्टियों से कांग्रेस में आए नेताओं को लेकर भारती उत्सुकता है। गौरतलब है कि प्रदेश कांग्रेस ने हाल ही में अन्य पार्टियों के कई नेताओं को पार्टी में शामिल किया है। इन नेताओं को उस समय चुनाव में टिकट दिए जाने का भरोसा दिलाया गया था। इनमें भाजपा छोड़कर कांग्रेस में आई पद्मा शुक्ला, होशंगाबाद के पूर्व विधायक गिरिजाशंकर शर्मा, रीवा क्षेत्र के पूर्व विधायक अभय मिश्रा, रतलाम क्षेत्र के पूर्व विधायक पारस सकलेचा और रतलाम से ही पंचायतीराज के नेता डीपी धाकड़ आदि शामिल हैं। शर्मा और मिश्रा के परिवार वाले भाजपा में हैं।
 
सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस के प्रदेश नेतृत्व ने इन नेताओं को टिकट का वादा भी किया है। वहीं हाल ही में कांग्रेस में आई पद्मा शुक्ला को भी मंत्री संजय पाठक के खिलाफ टिकट मिलना तय माना जा रहा है। नसरुल्लागंज के किसान नेता अर्जुन आर्य के भी कांग्रेस में शामिल होने की खबर है और यह भी माना जा रहा है कि पार्टी उन्हें मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान के खिलाफ बुधनी से चुनाव लड़ा सकती है। हालांकि इस बारे में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने यह कहकर स्थिति स्पष्ट करने की कोशिश की है कि पार्टी जीतने वाले नेताओं को ही टिकट देगी, चाहे वे किसी भी पार्टी से आए हों। यदि ऐसा होता है, तो फिर कांग्रेस अधयक्ष राहुल गांधी के उस वादे का क्या होगा, जो उन्होंने 17 सितम्बर को भोपाल में इकट्ठे हुए पूरे प्रदेश के कार्यकर्ताओं से किया था।
हिन्दुस्था समाचार/केशव/ डॉ. मयंक
image