Hindusthan Samachar
Banner 2 शनिवार, अक्तूबर 20, 2018 | समय 20:03 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

कांग्रेस सहित तमाम विपक्षी दल दलित विरोधी : नीरज पासवान

By HindusthanSamachar | Publish Date: Apr 11 2018 5:28PM
कांग्रेस सहित तमाम विपक्षी दल दलित विरोधी : नीरज पासवान
रांची, 11 अप्रैल (हि.स.)। प्रदेश भाजपा अनुसूचित जाति मोर्चा के अध्यक्ष नीरज पासवान ने कहा कि कांग्रेस सहित तमाम विपक्षी दल दलित विरोधी हैं। इन लोगों ने दलितों के लिए कुछ नहीं किया और आज दलितों के हितैशी बन रहे हैं। राज्य गठन के 17 वर्ष बाद अनुसूचित जाति आयोग का गठन हुआ है। इस पर सभी पार्टियों को खुश होना चाहिए था। लेकिन कांग्रेस ने चुनाव आयोग के पास जाकर कार्रवाई करने की मांग की है। यह कांग्रेस की दलित विरोधी मानसिकता को दर्शाती है। भाजपा इसकी निंदा करती है। नीरज पासवान बुधवार को पार्टी कार्यालय में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की नीयत और नीति ठीक नहीं है। कांग्रेस ने डॉ भीमराव अंबेडकर को संसद में जाने से रोका था। राज्य में 17 वर्ष बाद अनुसूचति जाति आयोग का गठन हुआ। 14 अप्रैल को डॉ अंबेडकर की जयंती है, सरकार ने दलितों को तोहफा देने का काम किया है। लेकिन आज कांग्रेस, झामुमो सहित अन्य पार्टियों दलितों की हितैशी बन रही हैं। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री रघुवर दास के इस निर्णय से दलितों में खुशी का माहौल है। लेकिन कांग्रेस को यह नहीं पच रहा है। वह निर्वाचन आयोग जाकर इस पर रोक लगाने की मांग करके दलितों को अपने वाजिब हक़ से वंचित करना चाहती है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने सभी प्रक्रिया पूरी करके ही इस आयोग का गठन किया है। भाजपा नेता और पूर्व विधायक समरी लाल ने कहा कि कांग्रेस शुरू से दलित विरोधी रही है। राज्य सरकार ने बाबा साहेब की जयंती के पूर्व दलितों को आयोग के रूप में बड़ा तोहफा दिया और कांग्रेस उसे भी रुकवाना चाह रही है। प्रदेश में कांग्रेस भी सरकार में रही। लेकिन कांग्रेस ने कभी दलितों के बारे में नहीं सोचा। अब दलित हितैशी होने का दिखावा कर रही है। लेकिन अब यह सब जनता जान चुकी है। नगर निकाय चुनाव में जनता इन्हें सबक सिखायेगी। कांग्रेस को मुख्यमंत्री को धन्यवाद देना चाहिए, न कि विरोध करना चाहिए। प्रदेश प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव ने कहा कि राज्य सरकार ने अनुसूचित जाति आयोग के गठन के संबंध में निर्वाचन आयोग को विधिवत सूचना भी दी है। फिर भी इस विषय पर कांग्रेस का विरोध समझ से परे है। उन्होंने कहा कि कांग्रेसी दलित प्रेम का नाटक बंद करें। इनके ही शीर्ष नेतृत्व ने भरपेट छोला भटूरा खा कर दलित हित के मुद्दे पर महात्मा गांधी के सामने उपवास रखने का नाटक किया था। उन्होंने कहा कि मंगलवार को कांग्रेस का एक प्रतिनिधिमंडल राज्य निर्वाचन आयोग से मिला, लेकिन उसमें कोई भी दलित नेता नहीं थे। कांग्रेस की सभी जिला में कमेटी है, लेकिन अनुसूचित जाति की कमेटी नहीं है। जबकि भाजपा की हर जिला में दलितों की कमेटी है। हिन्दुस्थान समाचार‍/कृष्ण/महेश
image