Hindusthan Samachar
Banner 2 गुरुवार, अप्रैल 25, 2019 | समय 07:20 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

झारखंडः रामगढ़ में रामनवमी जुलूस पर पथराव, सीओ व पुलिसकर्मियों सहित एक दर्जन से अधिक घायल

By HindusthanSamachar | Publish Date: Apr 13 2019 7:37PM
झारखंडः रामगढ़ में रामनवमी जुलूस पर पथराव, सीओ व पुलिसकर्मियों सहित एक दर्जन से अधिक घायल
रामगढ़, 13 अप्रैल (हि.स.)। जिले के दुलमी प्रखंड अंतर्गत सिकनी गांव में रामनवमी जुलूस पर उपद्रवी तत्वों ने पथराव कर दिया। पथराव में दुलमी प्रखंड की अंचलाधिकारी किरण सोरेन, रजरप्पा थाने के कई सिपाहियों और एक दर्जन से अधिक ग्रामीणों को चोटें आई हैं। आधा दर्जन घायलों को स्थानीय सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया है। कुछ घायलों को रजरप्पा सीसीएल अस्पताल भी भेजा गया है। घटना की पुष्टि करते हुए एसपी निधि द्विवेदी ने बताया कि सिकनी में शनिवार शाम रामनवमी का जुलूस निकाला गया था। गांव के ही एक पट्टी में जब जुलूस पहुंचा तो वहां अचानक पथराव होने लगा। पथराव घरों की छतों से किए जाने की जानकारी मिली है। पथराव से जुलूस में अधिकांश लोगों को सिर में चोटें आई हैं। पथराव की सूचना पर दुलबी अंचलाधिकारी किरण सोरेन और रजरप्पा थाना प्रभारी कमलेश पासवान दलबल के साथ मौके पर पहुंचे। पथराव में दुलमी अंचलाधिकारी और रजरप्पा थाना प्रभारी को भी चोटें आई हैं। घटनास्थल पर भारी संख्या में पुलिस बल पहुंचने पर पथराव पर काबू पाया गया। पथराव से घायल लोगों में सीओ किरण सोरेन, रजरप्पा थाने के एएसआई अरुण सिंह के अलावा श्रीकांत महतो, मनोज महतो, कार्तिक मुंडा, जगदीश हजाम, पन्ना लाल महतो आदि ग्रामीण शामिल हैं। सिकनी गांव में रामनवमी जुलूस में शामिल युवक पन्नालाल महतो ने बताया कि जिस तरीके से जुलूस पर पथराव हुआ है और वहां जितनी ज्यादा संख्या में पत्थर गिरे हैं, उससे यह आशंका है कि सुनियोजित साजिश के तहत पथराव किया गया है। उन्होंने बताया कि एक मोहल्ले के घरों की छतों पर पहले से ही इसके लिए पत्थर जमा किए गए थे। उनका कहना था कि पथराव के दौरान जुलूस में शामिल भीड़ ऐसे फंस गई कि वहां से भागने का मौका नहीं लगा। अधिकांश ग्रामीणों को सिर पर चोट आईं क्योंकि घर की छतों से पथराव किया जा रहा था। सिकनी में ज्यादा पुलिस बल नहीं था तैनात: सीओ सदर अस्पताल में भर्ती दुलमी प्रखंड की अंचलाधिकारी किरण सोरेन ने बताया कि इससे पहले सिकनी में कभी कोई ऐसा हादसा नहीं हुआ था। इसलिए अधिक संख्या में पुलिस बल की तैनाती भी नहीं की गई थी। जैसे ही माहौल बिगड़ने और पथराव की सूचना मिली तो वह सीधे सिकनी गांव पहुंचीं। उन्होंने बताया कि पथराव के दौरान उन्हें भी सिर पर चोट लगी है। हिन्दुस्थान समाचार /अमितेश/वंंदना/सुनील/ संजीव
लोकप्रिय खबरें
फोटो और वीडियो गैलरी
image