Hindusthan Samachar
Banner 2 मंगलवार, अप्रैल 23, 2019 | समय 10:00 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

झामुमो जैसे शोषक से संथाल को मुक्त करना है : रघुवर दास

By HindusthanSamachar | Publish Date: Apr 7 2019 8:10PM
झामुमो जैसे शोषक से संथाल को मुक्त करना है : रघुवर दास
देवघर/रांची, 07 अप्रैल (हि.स.)। (अपडेट)। झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि संथाल परगना की तकदीर यहां के युवाओं के हाथ में है। आप युवा लोगों को वर्तमान सरकार की कार्यप्रणाली और विगत साढ़े चार साल में संथालपरगना में हुए विकास कार्य से अवगत कराएं। साथ ही यह भी बताएं की संथाल की धरती ने झारखंड को तीन-तीन मुख्यमंत्री दिया, लेकिन इन मुख्यमंत्रियों ने संथाल के विकास को लेकर कुछ नहीं किया। संथाल जहां था वहीं रह गया। वर्तमान सरकार ने साढ़े 4 साल में संथाल के विकास को लेकर कार्य किया है। मैं यह नहीं कहता कि बदलाव पूरी तरह हो गया, लेकिन राज्य गठन के बाद से 2014 तक विकास की गति जो रुकी ही हुई थी उसे 2014 के बाद बढ़ाया गया है। दास रविवार को देवघर में भारतीय जनता पार्टी द्वारा आयोजित कार्यक्रम में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि संथाल परगना सहित पूरे देश में लोकसभा चुनाव का शंखनाद हो चुका है। चुनाव का मैदान तैयार है। हमें यह जंग जितना भी है, जिस तरह मां भारती की रक्षा के लिए हमारे सैनिक सीमा पर तैनात रहते हैं। ठीक उसी प्रकार इस चुनावी युद्ध में युवाओं के सहयोग से संथाल के तीनों सीट पर विजय प्राप्त करना है और विरोधियों को परास्त भी। संथाल में विकास की अपार संभावनाएं हैं, लेकिन झारखंड मुक्ति मोर्चा ने जनजाति समाज का सिर्फ शोषण किया। अपनी अर्थ पेटी भरने का काम किया। कांग्रेस पार्टी ने देश मे 60 साल तक राज किया। बावजूद इसके संथाल में कोई बदलाव नहीं ला सकी। संथाल के गांव बुनियादी सुविधाओं से वंचित हैं। यहां की धर्म और संस्कृति के साथ छेड़छाड़ किया गया। इसका समर्थन कांग्रेस और झारखंड मुक्ति मोर्चा ने किया है। अब वक्त आया है कि संथाल को झारखंड मुक्ति मोर्चा से मुक्त किया जाए। इस कार्य में संथाल के युवाओं को महती भूमिका निभानी है। युवाओं को सुदूर ग्रामीण इलाकों में जाकर ग्रामीणों को इस बात से अवगत कराना है कि आखिर इतने वर्षों तक आपके जीवन में बदलाव क्यों नहीं आया। दास ने कहा कि सीएनटी और एसपीटी एक्ट का उल्लंघन नहीं किया, किया तो कोई बता दें। मुख्यमंत्री ने कहा कि 1995 से मैं विधायक हूं। इस दौरान मैं मंत्री, उप मुख्यमंत्री और अब मुख्यमंत्री बना हूं। लेकिन मैंने अपने पद का दुरुपयोग नहीं किया। मैंने सीएनटी और एसपीटी एक्ट का उल्लंघन नहीं किया। अगर किया हो तो मुझे कोई बता दे। जबकि जेएमएम के हेमंत सोरेन ने इस एक्ट का खुलकर उल्लंघन किया। 500 करोड़ की जमीन खरीदी। आखिर यह रुपए आए कहां से। पार्टी सिर्फ वंशवाद और परिवारवाद की राजनीति करती है। तभी तो पार्टी के प्रमुख पदों पर परिवार के लोग विराजमान हैं। साथ ही जेएमएम ने परिवार के लोगों को ही टिकट देने में प्राथमिकता दी है। संथाल के युवाओं को अवसर क्यों नहीं दिया। मुख्यमंत्री ने कहा कि 2014 में संथाल के जामा स्थित एक गांव में गया था। उस समय सुबह के 10 बज रहे थे और ग्रामीणों को नशे की हालत में देख कर बड़ी पीड़ा हुई थी कि आखिर झामुमो ने किस तरह संथाल के ग्रामीणों की हालत कर दी है। उस समय से ही संथाल को बदलने का संकल्प मैंने लिया था और संयोग से मैं मुख्यमंत्री बना तो संथाल के विकास को लेकर मेरी अलग ही सोच रही। यहां की भाषा और संस्कृति को अक्षुण्ण रखना है और विदेशी शक्तियों से सावधान भी रहना है। संथाल के विकास को लेकर जेएमएम हो या कांग्रेस दोनों ने दिलचस्पी नहीं दिखाई नहीं तो आज सिधो कान्हो की यह वीर भूमि की दशा और दिशा ही अलग होती। हिन्दुस्थान समाचार/चंदन/कृष्णा/राजीव
लोकप्रिय खबरें
फोटो और वीडियो गैलरी
image