Hindusthan Samachar
Banner 2 मंगलवार, अप्रैल 23, 2019 | समय 09:54 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

कनकचास जंगल में मिला वज्रकीट

By HindusthanSamachar | Publish Date: Apr 6 2019 7:26PM
कनकचास जंगल में मिला वज्रकीट
बोकारो, 06 अप्रैल (हि.स.)। चंदनकियारी प्रखण्ड स्थित कालिकापुर सटे जंगल में शनिवार की सुबह ग्रामीणों ने वज्रकीट नामक एक जीव देखा। इसकी सूचना तत्काल वनविभाग के अधिकारी व बीडीओ को दी गयी। सूचना पर जंगल के उक्त स्थल पर वन विभाग के अधिकारी कर्मी वन क्षेत्र पदाधिकारी अजय कुमार व चंदनकियारी वनपाल सुरेंद्र भगत के नेतृत्व में रेस्क्यू के लिए पहुंचे। तब तक उक्त जीव जंगल मे ही किसी खोह में घुस चुका था। खोह को चिन्हित कर अधिकारियों ने उक्त वज्रकीट को निकालकर सुरक्षित स्थल पर ले जाने को लेकर रेस्क्यू कार्य शुरू किया। इसी दौरान ग्रामीणों ने वज्रकीट को ग्रामीणों ने ग्रामदेवता का स्वरूप बताते हुए इसे अन्यत्र ले जाने का विरोध करते हुए जंगल में ही रहने दिए जाने की बात कही। इसमे कनकचास गांव के तुलसी महिला स्वयं सहायता समूह के अध्यक्ष सीमा बनर्जी व सदस्य उर्मिला देवी ने अधिकारियों के समक्ष उक्त जीव के सुरक्षा का जिम्मा लेते हुए यहीं छोड़ने का आग्रह किया, जिस कारण वनविभाग के अधिकारी बैरंग लौट गए। 19 वर्ष पूर्व भी मिला था वज्रकीट बताया जाता है कि उक्त जीव झारखण्ड समेत देश के कई जगहों में पाए जाते हैं। इसका भोजन कीड़ा, दीमक व चींटी मुख्य है। यह जीव इस क्षेत्र में दुर्लभ है। वर्ष 2000 में कनकचास गांव के ही मकर गोराई के घर से ही इस तरह के वज्रकीट निकला था, जिसे ग्रामीणों ने उक्त जंगल में ही पूजा अर्चना के बाद छोड़ दिया था। हिन्दुस्थान समाचार/दीपक/वंदना
लोकप्रिय खबरें
फोटो और वीडियो गैलरी
image