Hindusthan Samachar
Banner 2 रविवार, अप्रैल 21, 2019 | समय 03:54 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

आचार संहिता उल्लंघन की निगरानी के लिए उड़नदस्ता दल गठित: डीसी

By HindusthanSamachar | Publish Date: Apr 4 2019 7:18PM
आचार संहिता उल्लंघन की निगरानी के लिए उड़नदस्ता दल गठित: डीसी
खूंटी, 04 अप्रैल (हि. स.)। लोकसभा चुनाव के दौरान निर्वाचन क्षेत्र में चुनाव प्रचार पर अत्याधिक खर्च, नकद या घूस के रूप में वस्तुओं का वितरण, अवैध हथियारों, गोला-बारूद, शराब या असामाजिक तत्वों आदि की आवाजाही पर निगरानी रखने के लिए उड़नदस्ता दल का गठन किया गया है। जिला निर्वाचन पदाधिकारी सह उपायुक्त सूरज कुमार ने गुरुवार को बताया कि जिले में शांतिपूर्ण, निष्पक्ष और निर्भीक चुनाव कार्य सुनिश्चित कराने के निमित व्यापक तैयारियां की जा रही हैं। उन्होंने बताया कि उड़नदस्ता दल आदर्श चुनाव आचार संहिता के उल्लंघनों और संबंद्ध शिकायतों के मामलों पर भी कार्रवाई करेगा। संवेदनशील क्षेत्रों में परिस्थिति के आधार पर केंद्रीय अर्द्धसैनिक बल या राज्य सशस्त्र बल को भी उड़नदस्ता दल में शामिल किया जा सकता है। मतदाताओं को प्रभावित करने के लिए नकदी अथवा घूस की कोई भी वस्तु का वितरण या बाहुबल का इस्तेमाल करना आईपीसी की धारा- 171 ख और 172 ग के अंतर्गत अपराध है और लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम-1951 की धारा 123 के अंतर्गत भ्रष्ट आचरण है। डीसी ने बताया कि आईपीसी की धारा 171 ख के अनुसार कोई व्यक्ति निर्वाचन प्रक्रिया के दौरान किसी व्यक्ति को उसके मताधिकार का इस्तेमाल करने के लिए उत्प्रेरित करने के उद्देश्य से नकद या उपहार का लेन-देन करता है तो वह एक वर्ष तक के कारावास या जुर्माना अथवा दोनों का भागी होगा। उड़नदस्ते के प्रभारी पुलिस अधिकारी द्वारा रिश्वत लेने व देने वाले व्यक्तियों, अन्य व्यक्ति जिनसे निषिद्ध वस्तुएं जब्त की गई हैं या ऐसे अन्य असामाजिक तत्व जो गैरकानूनी गतिविधियों में लिप्त पाए गए हैं, उनके विरुद्ध शिकायतें/ एफआईआर तत्काल दर्ज की जायेगी। यदि उड़नदस्ते का घटनास्थल पर तत्काल पहुंच पाना संभव नहीं हो तो सूचना घटनास्थल के सबसे नजदीक मौजूद निगरानी दल या उस क्षेत्र के पुलिस स्टेशन को दी जानी है। इसके उपरांत इनके द्वारा त्वरित कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि स्थैतिक निगरानी दल (एसएसटी) में कार्यकारी मजिस्ट्रेट तथा पुलिसकर्मी चेकपोस्ट पर प्रतिनियुक्त किए गए हैं। कुछ निगरानी दलों में क्षेत्र की संवेदनशीलता के आधार पर केंद्रीय अर्द्धसैनिक बलों को भी शामिल किया जा रहा है। यह दल संवेदनशील बस्तियों पर चेकपोस्ट स्थापित करने और अपने क्षेत्र में अवैध शराब, रिश्वत की वस्तुओं या भारी मात्रा में नकदी, हथियार और गोला-बारुद के लाने-ले जाने तथा असामाजिक तत्वों की आवाजाही पर भी नजर रख रहा है। उपायुक्त ने बताया की इसके साथ ही जिले के वुलनारेबल बूथों पर सुरक्षा बलों द्वारा क्षेत्र के मतदाताओं को मतदान के लिए प्रोत्साहित करने के लिए कॉन्फिडेंस बिल्डिंग कार्यक्रम चलाया जा रहा है। इसमें एक भी मतदाता न छूटे का संदेश प्रेषित करते हुए जन सामान्य को आसन्न चुनाव में निष्पक्ष और स्वतंत्र मतदान के लिए आगे आने की अपील की जा रही है। हिन्दुस्थान समाचार/अनिल/राजीव
लोकप्रिय खबरें
फोटो और वीडियो गैलरी
image