Hindusthan Samachar
Banner 2 गुरुवार, मार्च 21, 2019 | समय 21:01 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

पुलिस अपराध नियंत्रण के साथ ही सामाजिक सरोकार के लिए भी प्रतिबद्ध : आश्विनी कुमार सिन्हा

By HindusthanSamachar | Publish Date: Jan 18 2019 8:34PM
पुलिस अपराध नियंत्रण के साथ ही सामाजिक सरोकार के लिए भी प्रतिबद्ध : आश्विनी कुमार सिन्हा
दुर्गम और नक्सल प्रभावित क्षेत्र में सामुदायिक पुलिसिंग का आयोजन गुमला,18 जनवरी (हि.स.)। जिला मुख्यालय से करीब 85 किलोमीटर दूर झारखंड और छत्तीसगढ़ की सीमा पर आबाद डुमरी प्रखंड के लुचुतपाठ में शुक्रवार को एसपी आश्विनी कुमार सिन्हा के नेतृत्व में सामुदायिक पुलिसिंग का आयोजन किया गया। डुमरी प्रखंड की मझगांव पंचायत अंतर्गत घनघोर पहाड़ों के मध्य में स्थित लुचुतपाठ में जनजातीय आबादी 150 घरों में निवास करती है। जिले के इतिहास में पहली बार यहां इस प्रकार के आयोजन होने से ग्रामीण उमंग, उत्साह और उल्लास से लबरेज रहे। कार्यक्रम के दौरान ग्रामीण महिला, पुरुष, वृद्धों और बच्चों के बीच एसपी आश्विनी कुमार सिन्हा ने कम्बल, साड़ी, खेल सामग्री, कॉपी-पेन, लूंगी आदि का वितरण किया। इस मौके पर एसपी सिन्हा ने ग्रामीणों को संबोधित करते हुए कहा कि पुलिस सिर्फ अपराध नियंत्रण के लिए काम नहीं करती,अपितु अपने सामाजिक दायित्वों के निर्वहन के लिए भी प्रतिबद्ध है। गुमला जिला आदिवासी बहुल एक पिछड़ा जिला है। इस कारण यहां विकास कार्यों के लिए दूसरे जिले से अधिक धन राशि आती है। पुलिस समुदाय की समस्या के निराकरण के लिए काम करती है। पुलिस महत्वपूर्ण योजनाओं को टेकअप भी करती है। लुचुतपाठ गांव उग्रवाद प्रभावित गांव रहा है। लगातार पुलिसिया कार्रवाई से उग्रवादियों ने अपने पैर पीछे खींच लिये हैं। काफी हद तक गांव उग्रवाद मुक्त हो गया है। ग्रामीणों ने पुलिस को भी सूचना दिया है, जिसके चलते ग्रामीणों की कुछ समस्याएं काम हुई हैं। ग्रामीण भी पुलिस का सहयोग कर रहे हैं। यह क्षेत्र के लिए सुखद संकेत है। उन्होंने डायन प्रथा पर भी बोलते हुए कहा कि मेडिकल और शिक्षा की कमी है, मानव तस्करी भी एक गम्भीर समस्या है। उन्होंने कहा कि नेगेटिव सोंच से लोग दूर रहें। आपसे संवाद जारी रहे। थाना, एसपी, एसडीपीओ, इंस्पेक्टर ये सब सारे अधिकारी आपके है। हमेशा आपके लिए के लिए प्रशासन के द्वार खुले हुए हैं। पुलिस से संपर्क बनाए रखें। आपकी फरियाद जल्दी सुनी जाएगी। गैस मिल चुकी है,फिर भी राशन डीलर करता है केरोसिन लेने के लिए मजबूर कम्यूनिटी पुलिसिंग के इस कार्यक्रम में ग्रामीणों ने अपनी सबसे बड़ी समस्या के रूप में पेयजल व्यवस्था की मांग रखी। एक हजार की आबादी को पीने का पानी मयस्सर नहीं है। ग्रामीण आज भी लोधरघाटी, छुई झरिया, दराईखांचा नामक नाले से पीने के पानी की व्यवस्था करते हैं जो करीब गांव से करीब 2 किलोमीटर की दूरी पर है। ग्रामीणों ने पेयजल की समस्या को प्रमुखता से उठाया तो एसपी आश्विनी कुमार सिन्हा द्वारा भी उन्हें भरोसा दिया गया कि पानी और सड़क की समस्या का हर हाल में समाधान होगा। ग्रामीणों ने एसपी के समक्ष अपनी अगली समस्या के रूप में बताया कि जबरन मिट्टी का तेल लेने के लिए डीलर द्वारा उन्हें मजबूर किया जाता है। जबकि ग्रामीणों ने बताया कि उन्हें भोजन बनाने के लिए गैस भी मिल चुकी है। इस मौके पर एसडीपीओ चैनपुर अरविंद कुमार सिंह, इंस्पेक्टर चैनपुर जे एस. मुर्मू, थाना प्रभारी डुमरी तीर्थराज तिवारी, एएसआई भगवानदास गौड़, अवर निरीक्षक करन प्रधान, मदन शर्मा, रामप्रवेश पासवान व भारी संख्या में पुलिस जवान सहित ग्रामीण उपस्थित थे । हिन्दुस्थान समाचार/हरिओम/राजीव
लोकप्रिय खबरें
फोटो और वीडियो गैलरी
image