Hindusthan Samachar
Banner 2 शुक्रवार, अप्रैल 19, 2019 | समय 21:47 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

विश्‍व धरोहर दिवस पर राज्य संग्रहालय में होंगे अनेक कार्यक्रम

By HindusthanSamachar | Publish Date: Apr 17 2019 8:27PM
विश्‍व धरोहर दिवस पर राज्य संग्रहालय में होंगे अनेक कार्यक्रम
भोपाल, 17 अप्रैल (हि.स.) । संस्कृति विभाग द्वारा विश्‍व धरोहर दिवस के अवसर पर गुरुवार, 18 अप्रैल को पुरातत्व, अभिलेखागार एवं संग्रहालय की ओर से राज्य संग्रहालय में विविध कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है। गुरुवार को इस विशेष अवसर पर पूरे दिन ही कार्यक्रम आयोजित किये गये हैं। सभी कार्यक्रम स्टेट म्यूजियम में होंगे। जिसमें सुबह 9 से 11 बजे तक बच्चों की चित्रकला प्रतियोगिता का आयोजन किया गया है। इसके अन्तर्गत स्कूलों से सम्पर्क कर बाल विद्यार्थियों को निमंत्रित किया जा रहा है। इसके पश्चात प्रातः 11 बजे से प्रदर्शनी दीर्घा में ग्वालियर स्टेट: ग्लास निगेटिव के छायाचित्र विषय पर केन्द्रित प्रदर्शनी का आयोजन किया जायेगा। यह प्रदर्शनी एक सप्ताह तक संग्रहालय समय में आगे भी देखी जा सकेगी। इसी दिन सुबह साढ़े 11 बजे से विख्यात पुरातत्वविद एवं भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के पूर्व संयुक्त महानिदेशक डॉ. एस. वी. ओता व्याख्यान देंगे। उनका विषय है, लद्दाख हिमालय की प्रागैतिहासिक पृष्ठभूमि-जम्मू और कश्मीर। पुरातत्व विषयों के जानकार के रूप में डॉ. ओता ने पुरातात्विक विषयों के शोध एवं खोज के लिए अनेक बार कठिन यात्राएं की हैं। इण्डियन साइंस कांग्रेस ने उनको यंग सांइटिस्ट अवार्ड से भी सम्मानित किया है। पुरातात्विक विरासत के प्रबन्धन में उनकी दक्षता है। इन्दिरा गांधी राष्ट्रीय मानव संग्रहालय के पूर्व निदेशक डॉ ओता ने लद्दाख हिमालय की अनेक शोधपरक यात्राएं की हैं। इसी दिन शाम को साढ़े 7 बजे सुप्रतिष्ठित गायिका नई दिल्ली की सुनन्दा शर्मा का गायन होगा। भारतीय शास्त्रीय संगीत परम्परा की महान गायिका स्वर्गीय गिरिजा देवी की निष्णात शिष्या सुनन्दा ने लम्बे समय उनके सान्निध्य में रहकर उप शास्त्रीय संगीत में ठुमरी, कजरी, चैती, दादरा, ख्याल आदि की गहन शिक्षा प्राप्त की है। उन्होंने देश के अनेक प्रतिष्ठित कला मंचों से अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया है। स्व. गिरिजा देवी की परम्परा को अक्षुण्ण रखने के लिए उनकी जिन प्रमुख तीन शिष्याओं का नाम लिया जाता है, उनमें सुनन्दा भी शामिल हैं। वे विश्‍व धरोहर दिवस के अवसर पर संगीत की धरोहर माने जाने वाले रागों और रचनाओं के साथ गायन के लिए विशेष रूप से निमंत्रित की गयी हैं। हिन्‍दुस्‍थान समाचार / उमेद / मुकेश
लोकप्रिय खबरें
फोटो और वीडियो गैलरी
image