Hindusthan Samachar
Banner 2 बुधवार, मार्च 20, 2019 | समय 06:16 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

भगवान का भक्त से गहरा नाता : पं. पाठक

By HindusthanSamachar | Publish Date: Mar 16 2019 8:38PM
भगवान का भक्त से गहरा नाता : पं. पाठक
जगदलपुर, 16 मार्च (हि.स.)। धरमपुरा स्थित श्वेता कॉलोनी रोड पर चल रहे श्रीमद्भागवत कथा के तीसरे दिन कथावाचक पं. अभिषेक पाठक ने शिव विवाह और ध्रुव चरित्र सुनाया। उन्होंने कहा कि भगवान का भक्त से गहरा नाता है। भगवान अपने भक्त की पुकार सुनकर दौड़े चले आते हैं। बालक ध्रुव ने तपस्या के बल पर भगवान को प्रसन्न किया। बच्चों को ध्रुव चरित्र से शिक्षा लेनी चाहिए। माता पिता को भी बच्चों को ध्रुव चरित्र बताना चाहिए। भगवान की कृपा से ही सब दुख दूर होते हैं। इसलिए भगवान की भक्ति करनी चाहिए। इसके साथ ही शिव विवाह प्रसंग सुनाते हुए कथावाचक ने बताया कि जब सती के विरह में भगवान शंकर की दशा दयनीय हो गई, सती ने भी संकल्प के अनुसार राजा हिमालय के घर पर्वतराज की पुत्री होने पर पार्वती के रूप में जन्म लिया। पार्वती जब बड़ी हुईं तो हिमालय को उनकी शादी की चिंता सताने लगी। एक दिन देवर्षि नारद हिमालय के महल पहुंचे और पार्वती को देखकर उन्हें भगवान शिव के योग्य बताया। इसके बाद सारी प्रक्रिया शुरू तो हो गई, लेकिन शिव अब भी सती के विरह में ही रहे। ऐसे में शिव को पार्वती के प्रति अनुरक्त करने कामदेव को उनके पास भेजा गया, लेकिन वे भी शिव को विचलित नहीं कर सके और उनकी क्रोध की अग्नि में कामदेव भस्म हो गए। इसके बाद वे कैलाश पर्वत चले गए। तीन हजार सालों तक उन्होंने भगवान शिव को पाने के लिए तपस्या की। इसके बाद भगवान शिव का विवाह पार्वती के साथ हुआ। इस दौरान बड़ी संख्या में भक्त मौजूद थे। हिन्दुस्थान समाचार / सुधीर/केशव
लोकप्रिय खबरें
फोटो और वीडियो गैलरी
image