Hindusthan Samachar
Banner 2 सोमवार, दिसम्बर 10, 2018 | समय 12:49 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

राजनीतिक दलों के झूठे चुनावी घोषणा पत्रों पर अंकुश लगाये चुनाव आयोग

By HindusthanSamachar | Publish Date: Dec 8 2018 9:23PM
राजनीतिक दलों के झूठे चुनावी घोषणा पत्रों पर अंकुश लगाये चुनाव आयोग
कानपुर, 08 दिसम्बर (हि.स.)। जनता का मत प्राप्त करने के लिए हर पार्टियां चुनावी घोषणा पत्र जारी करती हैं। लेकिन चुनाव बाद घोषणा पत्र को पूरा नहीं किया जाता। इससे जनता अपने को छला हुआ महसूस करती है। ऐसे में चुनाव आयोग को चाहिये कि राजनीतिक दलों के झूठे चुनावी घोषणा पत्रों पर अंकुश लगाये। यह बातें शनिवार को प्रांतीय व्यापार मंडल की बैठक में व्यापारियों ने एक सुर में कही। प्रान्तीय व्यापार मण्डल की संगठनात्मक बैठक शनिवार को गया प्रसाद लेन स्थित कार्यालय में हुई। जिसमें संगठन से जुड़े व्यापारियों ने चुनाव आयोग से राजनीतिक दलों द्वारा चुनाव घोषणा पत्र में किये जाने वाले ऊंचे एवं लोकलुभावन दावों पर रोक लगाने की मांग की। संगठन की ओर से यहां जारी विज्ञप्ति के अनुसार प्रान्तीय व्यापार मण्डल ने अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव और चुनाव घोषणा पत्र की मर्यादा को बरकरार रखने के लिए निर्वाचन आयोग से घोषणा पत्रों में झूठे वादों पर रोक लगाने के वास्ते राजनीतिक दलों को निर्देश देने का आग्रह किया है। मुख्य चुनाव आयुक्त को भर में प्रान्तीय व्यापार मण्डल ने मांग की है कि चुनाव आयोग राजनैतिक दलों को निर्देश जारी करे कि चुनाव घोषणा पत्र में केवल उन्ही मुद्दों अथवा वादों को शामिल किया जाए, जिन्हें पूरा करने में वे सक्षम हैं। प्रदेश अध्यक्ष अभिमन्यु गुप्ता ने यह भी मांग की है कि अपने चुनाव घोषणा पत्र में कही गयी बातों के प्रति राजनैतिक दलों की जिम्मेदारी तय की जानी चाहिये। अगले चुनाव से पहले राजनैतिक दल घोषणा पत्र में किये गए वादों पर उन्होंने क्या किया इसका लेखा जोखा भी सार्वजनिक करें, ऐसी व्यवस्था होनी चाहिये। चुनाव घोषणा पत्र वास्तव में लोगों को भ्रमित करने एवं लम्बे चौड़े वादों का दस्तावेज भर रह गया है। इससे लोकतंत्र की मूल भावना को ठेस पहुंचती है। अभिमन्यु ने कहा कि भाजपा सरकार ने चुनाव के वक्त वादे किए थे कि कालाधन आएगा, 2 करोड़ नौकरियां प्रति वर्ष दी जाएंगी। किसानों की आय दोगुनी होगी, महंगाई रुकेगी, पेट्रोल डीजल के दाम 50 रुपये होंगे, पर इन सभी वादों पर सरकार झूठी साबित हुई और इससे सबसे ज्यादा प्रभावित व्यापारी वर्ग ही है। इस दौरान अरविंद गुप्ता, अभिलाष द्विवेदी, विनय कुमार, मो. शाहरुख, मो. शादाब, मुकेश कनौजिया आदि मौजूद रहे। हिन्दुस्थान समाचार/अजय/संजय
image