Hindusthan Samachar
Banner 2 सोमवार, दिसम्बर 10, 2018 | समय 02:45 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

जीत के प्रति आश्वस्त कांग्रेस और भाजपा के उम्मीदवार

By HindusthanSamachar | Publish Date: Dec 8 2018 9:08PM
जीत के प्रति आश्वस्त कांग्रेस और भाजपा के उम्मीदवार
अजमेर,08 दिसम्बर(हि.स.)। राजस्थान की 15वीं विधानसभा चुनाव की दौड़धूप समाप्त होने के अगले दिन शनिवार को अजमेर जिले के सभी उम्मीदवार विश्राम की मुद्रा में नजर आए। उम्मीदवारों ने अपने अपने क्षेत्रों के सक्रिय कार्यकर्ताओं से मतदान का फीड बैक लिया। मतदान के दौरान कार्यकर्ताओं के अभाव अभियोग व शिकायतें सुनी और समीक्षा की। अजमेर उत्तर के प्रत्याशी वासुदेव देवनानी अपनी जीत के प्रति आश्वस्त नजर आए। देवनानी ने पूर्ण आत्मविश्वास से कहा कि उन्होंने विगत सालों में जनता की सेवा के प्रति अपनी सहज उपलब्धता, शहर के विकास के कामों में उनकी भागीदारी और जनप्रतिनिधी के रूप में ईमानदारी और अपनी निष्पक्षता को पूरी तवज्जो दी है। उन्होंने कहा कि वे वर्ष 2013 के चुनाव परिणाम में उन्हें मिले मतों के अनुसार ही इस बार भी मत पाएंगे। अजमेर दक्षिण की उम्मीदवार अनिता भदेल ने कहा कि वे कल भी आश्वस्त थी आज भी जीत के प्रति आश्वस्त हूं। पूरी विधानसभा क्षेत्र मेरा परिवार है इसलिए सभी के साथ निभाना होता है। उन्होंने कहा कि चुनावी दौड़धूप भले ही खत्म हो गई किन्तु राजनीतिक जीवन में काम दिन प्रतिदिन बढ़ता ही है घटता नहीं। हार जीत तो दो उम्मीदवारों के बीच एक एक के हिस्से में आनी ही है। उसकी चिंता की कोई जरूरत महसूस नहीं कर रही। जनता ने जो निर्णय किया है वह 11 दिसम्बर को सामने आ ही जाएगा। अजमेर उत्तर से कांग्रेस के प्रत्याशी महेन्द्रसिंह रलावता ने अजमेर की जनता द्वारा दिए गए समर्थन और शांति पूर्ण मतदान के लिए उनका आत्मविश्वास बढ़ा है। उन्होंने कहा कि जनता ने जिस तरह का समर्थन व्यक्त किया है वह मतपेटियां खुलने पर 11 दिसम्बर को दिखाई देगा। उन्होंने कहा कि वे नई उत्साह और नई उमंग के साथ जनता के बीच जाउंगा। अजमेर और आम जनता के प्रति सदैव आभारी रहूंगा। अजमेर दक्षिण से कांग्रेस प्रत्याशी हेमन्त भाटी ने भी मतदान से निवृत्त होते ही फिर से अपने कारोबार की राह ली। उन्होंने अपनी दैनिक दिनचर्चा के अनुसार कारोबारी और समाज सेवा के काम निपटाए। चुनावी दौर में सक्रिय रहे कार्यकर्ताओं से बातचीत कर स्थिति की समीक्षा की। हेमन्त भाटी ने जीत के प्रति आत्मविश्वास दर्शाया। उन्होंने क्षेत्र की जनता द्वारा उनमें भरोसा दर्शाए जाने के प्रति उनकी सराहना की। हेमन्त ने कहा कि 11 दिसम्बर को मतपेटियां खुलेंगी तो नतीजा सामने होगा ही। उधर,शहर भर में मीडिया के एक्जिटपोल को लेकर वादविवाद होता रहा। हर मोहल्ले और चौराहे , दफ्तरों में लोग चर्चा करते रहे। मीडिया को सदैव भाजपा के नरेन्द्र मोदी के पक्ष में समझने वाले कांग्रेस विचारधारा के लोग भी आज चौराहों पर मीडिया के एक्जिटपोल पर विश्वास व्यक्त कर रहे थे। लोगों को इस बात से भी हैरानी थी कि नोट बंदी और जीएसटी के कारण जो जनता सरकार बदलने को तत्पर बताई जा रही है वही जनता केंद्र में प्रधानमंत्री के तौर पर नरेन्द्र मोदी को 75 प्रतिशत से अधिक पसंद कर रही है। जबकि ये दोनों ही विषय केंद्र से जुड़े थे। इनपर राज्य सरकार का कोई दोष नहीं था। बावजूद जनता राज्य सरकार के कामकाज और विकास पर सीधी बहस करने के बजाय हवा में हो रही बातों पर ही चर्चा कर चटकारे ले रही है। हिन्दुस्थान समाचार/संतोष/संदीप
image