Hindusthan Samachar
Banner 2 सोमवार, दिसम्बर 10, 2018 | समय 11:30 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

राज्यपाल ने हस्तलिपि संरक्षण केंद्र का किया उद्घाटन

By HindusthanSamachar | Publish Date: Dec 8 2018 9:05PM
राज्यपाल ने हस्तलिपि संरक्षण केंद्र का किया उद्घाटन
गुवाहाटी, 08 दिसम्बर (हि.स.)। गुवाहाटी के जालुकबारी स्थित कृष्णकांत हैंडिक सरकारी संस्कृत कॉलेज में केंद्र सरकार की नेशनल मिशन फॉर मनुस्क्रिप्ट और हेरिटेज कंजर्वेशन सोसायटी,असम के संयुक्त तत्वावधान में हस्तलिपि संरक्षण केंद्र का शनिवार को उद्घाटन किया गया। संरक्षण केंद्र का उद्घाटन राज्यपाल प्रो. जगदीश मुखी ने किया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप हिस्सा लेते हुए राज्यपाल ने कहा कि असम में अनेक सत्रों तथा नामघरों(पूजा स्थल) तथा निजी घरों में साचीपात तथा विभिन्न पौराणिक पोथियों को वैज्ञानिक रूप में संरक्षित करने के क्षेत्र में यह एक महान कदम है। साचीपात की पोथी तथा अन्य पुरानी पोथियां देश तथा जाति की ऐतिहासिक व संस्कृति वाहक होती हैं। उल्लेखनीय है कि साचीपात पर लिखी गयी पोथी को साचीपात की पोथी कहा जाता है। असम के सत्र(मठ) समूहों में साचीपात की पोथी को संरक्षित करके रखा गया है। राज्यापल ने राज्य के विभिन्न स्थानों में अनेक पुरानी पोथी व साचीपात की पोथी को वैज्ञानिक रूप में संरक्षित करने के लिए लोगों को जागरूक होने का आह्वान किया। इस कार्यक्रम में राज्य सरकार के शिक्षा मंत्री सिद्धार्थ भट्टाचार्य ने कहा कि पुरानी पोथी तथा साचीपात की पोथी को संरक्षित करने के लिए संस्कृत कॉलेज के इस संरक्षण केंद्र को सरकार की तरफ से सभी प्रकार की सहायता प्रदान किया जाएगा। इससे विद्यार्थियों को काफी लाभ मिलेगा। कार्यक्रम में शिक्षक, शिक्षार्थी समेत अन्य कई गणमान्य व्यक्ति उपस्थित रहे। पुरानी पोथी व साचीपात की पोथियों को वैज्ञानिक पद्धति से संरक्षित करने के लिए अत्याधुनिक सामग्री का भी उपयोग किया गया है, जिससे प्राचीन व मूल्यवान पोथी समूहों को भविष्य के लिए संरक्षित कर रखा जाएगा। संरक्षण के अभाव में ऐसे ग्रंथों के नष्ट होने संभावना रहती है। हिन्दुस्थान समाचार/देबोजनी/अरविंद/प्रभात/आकाश
image