Hindusthan Samachar
Banner 2 रविवार, दिसम्बर 16, 2018 | समय 07:19 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

प्रयागराज मेरी जन्मभूमि व कर्मभूमि: केशरीनाथ

By HindusthanSamachar | Publish Date: Dec 8 2018 9:02PM
प्रयागराज मेरी जन्मभूमि व कर्मभूमि: केशरीनाथ
राज्यपाल ने मेधावी छात्र-छात्राओं को किया सम्मानित प्रयागराज, 08 दिसम्बर (हि.स.)। यह मेरे लिए गर्व की बात है कि मुझे इस विश्वविद्यालय के प्रथम दीक्षांत समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में शामिल होने का अवसर मिला। प्रयागराज मेरी जन्मभूमि तथा कर्मभूमि दोनों है। यह दीक्षांत समारोह एक स्मरणीय अवसर है। मैं विद्यार्थियों से विशेष रूप से यह कहना चाहता हूं कि विश्वविद्यालय की उपाधि प्राप्त करना ही शिक्षा की पूर्णता नहीं है। उक्त विचार पश्चिम बंगाल के राज्यपाल पं.केशरी नाथ त्रिपाठी ने शनिवार को सरस्वती हाईटेक सिटी स्थित नवनिर्मित परिसर में इलाहाबाद राज्य विश्वविद्यालय के प्रथम दीक्षान्त समारोह में बतौर मुख्य अतिथि व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि शिक्षा का उद्देश्य मात्र पुस्तकीय ज्ञान प्राप्त करना नहीं है। इसका मुख्य उद्देश्य मनुष्य का चारित्रिक निर्माण, उसमें मानवीयता के लक्षणों की पुष्टि, ज्ञान के माध्यम से उसके व्यक्तित्व का विकास हो, ताकि वह समाज के लिए उपयोगी सिद्ध हो सके। शिक्षा उसकी अंतर्निहित क्षमताओं को विकसित करने का माध्यम है। राज्यपाल राम नाईक ने दिवंगत पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी को याद करते हुए कहा कि उनके द्वारा चलाये गये कार्यक्रम सर्व शिक्षा अभियान आज सफल होता हुआ दिख रहा है। इसी के साथ ही वर्तमान प्रधानमंत्री द्वारा चलाये गये अभियान बेटी पढ़ाओं, बेटी बचाओ की तारीफ करते हुये कहा कि आज देश एवं प्रदेश की सरकारों के सहयोग के कारण बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ अभियान सफल होता दिख रहा है। इसी के साथ उन्होंने सभी उपस्थित छात्र-छात्राओं को पदक प्राप्त करने की शुभकामनायें देते हुए उनके उज्जवल भविष्य की कामना की। इस अवसर पर उन्होंने मेधावी छात्र आदित्य शेखर को सर्वाधिक अंक प्राप्त करने पर उसे चांसलर गोल्ड प्रदान कर सम्मानित किया। इसके अलावा विभिन्न पाठ्यक्रमों में टॉप करने वाले 28 छात्र-छात्राओं को स्वर्ण पदक प्रदान किया। इनमें 16 छात्रायें एवं 12 छात्र शामिल थे। इसके अलावा 32 छात्र-छात्राओं को रजत पदक व 31 छात्र-छात्राओं को कांस्य पदक प्रदान कर उनको सम्मानित किया। दीक्षांत समारोह में विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित उ.प्र के उपमुख्यमंत्री डा.दिनेश शर्मा ने कहा कि प्रयागराज की धरती अपनी शिक्षा के लिए पूरे विश्व में जानी जाती है और प्रयागराज में स्थित इलाहाबाद राज्य विश्वविद्यालय का यह अन्तिम दीक्षांत समारोह है, क्योंकि आने वाले समय में इस राज्य विश्वविद्यालय को प्रयागराज राज्य विश्वविद्यालय के नाम से जाना जायेगा। इसके लिए हमारी सरकार लगातार प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार में शिक्षा का स्तर बढ़ने का जिक्र करते हुए कहा कि माध्यमिक शिक्षा परिषद की परिक्षाओं को नकल विहीन कराने में सफलता प्राप्त की है अब आगे हमारा फोकस इलाहाबाद राज्य विश्वविद्यालय की परीक्षाओं को सीसीटीवी कैमरे की नजर में कराने के लिए प्रयासरत है, जिससे परीक्षाओं में होने वाली नकल की पद्धति को रोका जा सके। हिन्दुस्थान समाचार/विद्या कान्त/संजय
image