Hindusthan Samachar
Banner 2 शुक्रवार, दिसम्बर 14, 2018 | समय 06:38 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

श्रीराम विवाह उत्सव में नाचे श्रद्धालु

By HindusthanSamachar | Publish Date: Dec 8 2018 8:54PM
श्रीराम विवाह उत्सव में नाचे श्रद्धालु
गुना, 08 दिसम्बर (हि.स.)। श्री पंचमुखी हनुमान मंदिर पर चल रही श्रीराम कथा के दौरान शनिवार को मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम और माता सीता का विवाह उत्सव के रुप में मनाया गया। स्वयंवर में भगवान शिवजी का धनुष तोडक़र श्रीराम ने सीता जी वरण किया। इस दौरान श्रद्धालु खुशी से नाच उठे। दृश्य इतना मनमोहक बना कि कथा स्थल जनकपुरी में तब्दील होता दिखा। उल्लेखनीय है कि कथा का वाचन दोपहर 2 से शाम 5 बजे तक कथा वाचक श्री अरविंद जी महाराज के श्री मुख से किया जा रहा है। एक साथ भोजन करने का लें संकल्प अरविंद जी महाराज ने कथा का वाचन करते हुए कहा कि परिवार में एक दूसरे से चर्चा करने का समय ही नही मिल रहा हैं, बच्चों का समय पढाई और मोबाइल ने लील लिया हैं, वही बडेड़ अपने में व्यस्त हैं। इसके चलते परिवार में संवादहीनता होती जा रही है। जो बेहद गंभीर स्थिति है। इन हालातों को चलते व्यक्ति अपनों से ही नहीं, बल्कि खुद अपने से ही दूर होता जा रहा है। महाराज श्री ने कहा कि वर्तमान में परिवार के अंदर जो समस्याएं पैदा हो रहीं ह, उनका सामना नियम बना कर ही किया जा सकता हैं सभी संकल्प ले कि एक समय का भोजन परिवार जन एक साथ बैठ कर करेंगे। इससे परिवार में लोग आश्चर्यजनक परिवर्तन महसूूस करेंगे। अपना राग न अलापे शनिवार की कथा का शुभारंभ पचंमुखी हनुमान मंदिर के महंत सियारामदास, राजेश अग्रवाल सहित अन्य श्रद्वालुओं ने व्यास गादी का पूजन करके किया । अरविंद जी महाराज ने अपने रामकथा वाचन में कहा कि महापुरूषों के पास जब भी सत्संग का अवसर मिले, उनकी सुनने का प्रयास करें अपना राग न अलापे । आपने कहा कि मीरा ने रैदास और सूरदास ने वल्लभाचार्य के चरणों में बैठकर ज्ञान प्राप्त किया था। उन्होने कहा कि आज समाज संस्कार और मर्यादा में कमी आती जा रही हैं जो चिन्ता का विषय हैं भगवत कथा से दोनों ही आते हैं। हिन्दुस्थान समाचार / अभिषेक
image