Hindusthan Samachar
Banner 2 रविवार, दिसम्बर 16, 2018 | समय 07:39 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

राष्ट्रीय लोक अदालत में 933 वादों का निस्तारण

By HindusthanSamachar | Publish Date: Dec 8 2018 8:31PM
राष्ट्रीय लोक अदालत में 933 वादों का निस्तारण
हमीरपुर, 08 दिसम्बर (हि.स.)। उत्तर प्रदेश के हमीरपुर में शनिवार को राष्ट्रीय लोक अदालत में 933 वादों का निस्तारण करने के साथ ही फैमिली कोर्ट के लम्बित मामलों का समाधान भी आपसी सुलह समझौते के आधार पर किया गया। पारिवारिक कलह को भुलाकर दो महिलाओं ने राष्ट्रीय लोक अदालत में पत्नी धर्म का पालन करने का भी निर्णय लिया। हमीरपुर स्थित दीवानी न्यायालय परिसर पर जनपद न्यायाधीश प्रदीप कुमार कंसल के निर्देश पर शनिवार को जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के तत्वाधान में राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया गया। प्रभारी जिला जज शमशुल हक ने मां सरस्वती के चित्र पर पुष्प अर्पित कर दीप प्रज्ज्वलित कर लोक अदालत का शुभारंभ किया। राष्ट्रीय लोक अदालत में जिले के सभी बैंकों के अधिकारियों व कर्मचारियों ने बैंक वसूली के मामलों का प्रीलिटिगेशन के आधार पर निस्तारण कराया। इसके अलावा भारत संचार निगम लिमिटेड व जनपद के समस्त राजस्व विभाग ने भी वादों का निस्तारण आपसी सुलह समझौते के आधार पर किया। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव विष्णुदेव सिंह ने शनिवार को शाम बताया कि लोक अदालत में 933 वादों का निस्तारण किया गया है। इसके अलावा फैमिली कोर्ट में लम्बित मुकदमों में पारिवारिक कलह को भुलाकर श्रीमती भागी पुत्री परीक्षत निवासी राठ व श्रीमती उर्मिला पुत्री शिवप्रसाद निवासी बिजेला राठ ने अपने पत्नी धर्म का पालन करने का निर्णय लिया और दोनों ही अपने पति के घर चली गयी है। राष्ट्रीय लोक अदालत में विशेष न्यायाधीश राधेश्याम यादव, विजय पाल सिंह, शैलोज चन्द्रा, ब्रह्मतेज चतुर्वेदी, महेशानंद झा, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट वीरेन्द्र सिंह, सिविल जज (जू.डि.) शैलेन्द्र नाथ, आतिफ सिद्दीकी आदि न्यायिक अधिकारियों के अलावा इलाहाबाद बैंक के एलडीएम सुनील कुमार यादव व इन्श्योरेन्स कम्पनी के अधिवक्ता मौजूद रहे। हिन्दुस्थान समाचार/ पंकज/संजय
image