Hindusthan Samachar
Banner 2 शुक्रवार, दिसम्बर 14, 2018 | समय 06:22 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

नाशिक में प्याज उत्पादक किसान ने की आत्महत्या

By HindusthanSamachar | Publish Date: Dec 8 2018 8:29PM
नाशिक में प्याज उत्पादक किसान ने की आत्महत्या
मुंबई, 08 दिसम्बर (हि स )। प्याज का उचित दाम न मिल पाने से एक किसान ने नाशिक में हताश होकर मौत को गले लगा लिया। प्याज उत्पादक किसानों को मंडियों में न्यूनतम समर्थन मूल्य तक नहीं मिल पा रहा है। हाल ही में एक किसान ने हताश होकर प्याज के लिए जो रकम बाजार से मिली थी, उसे प्रधानमंत्री राहत कोष में जमा करा दिया। लेकिन पीएमओ की कागजी कार्रवाई पूरी हुई भी नहीं कि नाशिक के ही एक किसान ने मौत को गले लगा लिया। बता दें कि इस साल प्याज का उत्पादन बेहतर रहा है। लेकिन प्याज उत्पादक किसानों को प्याज की लागत भी नहीं मिल पा रही है। सरकार ने प्याज का न्यूनतम समर्थन मूल्य 8 रुपए प्रति किलो तय किया है। किसानों को अन्य फसलों की तरह योजना का लाभ लेने के लिए मंडियों में रजिस्ट्रेशन कराना होगा। पुणे में 600 रुपए से भी कम एक टन के लिए बेची जा रही है। नाशिक में हाल ही में एक से दो रुपए किलो की दर पर किसानों को अपनी प्याज बेचनी पड़ी थी। प्याज की लागत वसूल न हो पाने से कई किसानों के सामने आर्थिक संकट खड़ा हो गया है। इसके अलावा महाराष्ट्र में गुजरात और राजस्थान से भी बड़े पैमाने पर प्याज का आयात होने से प्याज की कीमतें कम हो रही हैं। सूत्रों के अनुसार, नाशिक में 44 वर्षीय प्याज उत्पादक किसान ने शनिवार को फांसी का फंदा लगा कर मौत को गले लगा लिया। नाशिक के कांदा चाल में किसान की आत्महत्या किए जाने की घटना के बावजूद सरकार की ओर से किसानों को अब तक एमएसपी का लाभ नहीं दिलवाया जा रहा है। नाशिक के सटाणा तालुका में स्थित भडाणे गांव के किसान तात्याभाऊ खैरनार पर बैंक का भारी कर्ज हो गया था। लेकिन प्याज का दाम गिर जाने से वह परेशान हो गया। हिन्दुस्थान समाचार / राधेश्याम / राजबहादुर
image