Hindusthan Samachar
Banner 2 सोमवार, दिसम्बर 10, 2018 | समय 03:22 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

भ्रूण लिंग जांच के मामले में पुलिस ने सात दिन में सात को दबोचा

By HindusthanSamachar | Publish Date: Dec 8 2018 8:23PM
भ्रूण लिंग जांच  के मामले में पुलिस ने सात दिन में सात को दबोचा
जयपुर,08 दिसम्बर (हि.स.) । प्रदेश में पीसीपीएनडीटी अधिनियम के तहत् भ्रूण लिंग जांच में लिप्त समाज कंटकों के विरूद्ध की जा रही सख्त कार्यवाही के अंतर्गत एक सप्ताह में ही गुजरात व पंजाब में इंटरस्टेट सहित तीन डिकॉय कार्यवाही कर भ्रूण लिंग जांच में लिप्त तीन पुरुष व चार महिलाओं को राज्य पीसीपीएनडीटी टीम ने गिरफ्तार किया है। अब तक ऐसी कार्रवाईयों में कुल 340 समाज कंटक पीसीपीएनडीटी एक्ट के अंतर्गत रंगे हाथ गिरफ्तार कर जेल पहुंचाये जा चुके हैं। अध्यक्ष राज्य समुचित प्राधिकारी पीसीपीएनडीटी एवं मिशन निदेशक एनएचएम नवीन जैन ने शनिवार को स्वास्थ्य भवन में यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि सभी डिकॉय कार्यवाही में भ्रूण लिंग जांच के कुकृत्य से जुड़े मामलो में समाजकंटकों द्वारा नये नये हथकंडे अपनाये गये और डिकाय आपरेशन टीम ने हर बार एक नई चुनौती का सामना किया। पीसीपीएनडीटी टीमों ने अपनी पैनी नजर से कामयाबी हासिल की। उन्होंने बताया कि अब तक 45 इन्टरस्टेट सहित कुल 141 डिकाय कार्यवाहियां की जा चुकी है। डिकॉय कार्यवाही एवं डॉटर्स आर.प्रीशियस जैसे प्रभावी जनजागरूकता अभियान के चलते जन्म के समय के लिंगानुपात में निरंतर सुधार हो रहा है। उन्होंने बताया कि छह दिसम्बर को जयपुर जिले के चौमूं से एक चिकित्सक, चार दिसम्बर को पंजाब जाकर तीन दलाल महिलाओं और एक दिसम्बर को गुजरात जाकर एक महिला व दो पुरूष सहित कुल सात भ्रूण लिंग जांच के दोषियों को डिकॉय कार्यवाही में रंगे हाथ गिरफ्तार करने में सफलता अर्जित की गई है। जैन ने बताया कि पीसीपीएनडीटी टीम ने वर्ष 2016 में 25 डिकाय, वर्ष 2017 में 42 एवं वर्ष 2018 में अब तक सर्वाधिक 45 सफल डिकाय आपरेशन कर आरोपियों को जेल पहुंचाया है। उन्होंने बताया कि अब तक उत्तरप्रदेश में 12, गुजरात में 16, दिल्ली में 1,हरियाणा में 4, मध्यप्रदेश में 4 एवं पंजाब में 8 सहित कुल 45 इंटरस्टेट सफल डिकाय कार्यवाही की जा चुकी हैं। इन 45 इंटरस्टेट सहित अब तक कुल 141 डिकाय आपरेशन किये गये हैं। मिशन निदेशक ने बताया कि राजस्थान पीसीपीएनडीटी टीम ने गुरुवार को जयपुर के चौमूं स्थित चौमूं जनाना एंड जनरल हास्पिटल के पंजीकृत सोनोग्राफी सेंटर पर भ्रूण लिंग परीक्षण करते डा. राजेश कुमार गरेड को गिरफ्तार करने के साथ ही काम में ली गयी सोनोग्राफी मशीन भी जब्त कर ली। मिशन निदेशक ने बताया कि पीसीपीएनडीटी टीम ने मंगलवार को पंजाब में बड़ी इंटरस्टेट डिकाय कार्रवाई करते हुए भ्रूण लिंग जांच मामले में बडे रैकेट का पर्दाफाश करते हुये सरकारी नर्स व दाई सहित तीन लोगों को गिरफ्तार किया। उन्होंने बताया कि मुखबिर के जरिए टीम को मिली सूचना की पुष्टि करने पर पता चला कि दलाल श्रीगंगानगर व पड़ोसी राज्यों में गर्भवती महिलाओं को ले जाकर भ्रूण लिंग जांच करवाते हैं। टीम ने सैंकडों किलोमीटर दूरी तय कर पंजाब में भी कोख के हत्यारों को अपनी गिरफ्त में ले लिया। जैन ने बताया कि राजस्थान पीसीपीएनडीटी टीम ने शनिवार एक दिसंबर को गुजरात के गोधरा में डिकॉय कार्यवाही करते हुए महिला दलाल कथित नर्स सोनल बेन खटवानी, आरएमपी प्रकाश चंद मखीजा एवं ड्राइवर अनवर खान को कार मारुति स्विफ्ट सहित धर दबोचा। इसी दौरान अभियुक्तों के रिश्तेदारों ने टीम पर हमला कर दिया, जिसका फायदा उठाकर अभियुक्त डॉ वसीम मंसूरी दलाल नरेंद्र वपंकज कुमार मौके से फरार हो गए उक्त घटना की प्रथम सूचना थाना मोरवा गुजरात मे दर्ज कराई गई। जिनकी तलाश की जा रही है। हिन्दुस्थान समाचार/भागीरथ/संदीप
image