Hindusthan Samachar
Banner 2 सोमवार, नवम्बर 19, 2018 | समय 00:38 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

शिक्षा विभाग में तेज होती जा रही अधिकारी और संघ के अहम की लड़ाई

By HindusthanSamachar | Publish Date: Nov 10 2018 10:58PM
शिक्षा विभाग में तेज होती जा रही अधिकारी और संघ के अहम की लड़ाई
बेगूसराय,10नवम्बर(हि.स.)। बेगूसराय जिला में शिक्षा विभाग के दो अधिकारी तथा दो शिक्षक संघ के अहम की लड़ाई तेज होती जा रही है। मामले को लेकर अभाविप कार्यकर्ता भी सड़क पर आ गए हैं। अभाविप कार्यकर्ताओं का कहना है कि जिला शिक्षा पदाधिकारी एवं स्थापना डीपीओ की लड़ाई में कर्मचारी को बलि का बकरा बनाया जा रहा है। जिसके कारण छठ पूजा जैसे मौके पर भी शिक्षकों का वेतन भुगतान नहीं किया गया। आपसी लड़ाई में शिक्षक का वेतन रोका जा रहा है। शिक्षा माफिया के इशारे पर भ्रष्टाचार के मामले को दबाने का प्रयास किया जा रहा है। जिला शिक्षा अधिकारी नियम के विरुद्ध शिक्षक के ट्रांसफर, प्रमोशन सहित अन्य मामले में फंसे हुए हैं। मध्य विद्यालय प्रधानाध्यापक प्रमोशन मामले को भटकाने के लिए अराजक माहौल बनाया जा रहा है। इस मामले को लेकर शनिवार को अभाविप डीडीसी से प्रतिनिधि मंडल ने मुलाकात किया। राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य अजीत चौधरी, दीपक कुमार सिंह ने बताया किि जिला शिक्षा अधिकारी ने कार्यालय को अराजक माहौल एवं राजनीति का अखाड़ा बना दिया है। शिक्षा में सुधार करने के बदले अपने सुविधा के लिए राजनीति किया जा रहा है। डीईओ भ्रष्टाचार के आरोप में घिरे हुए हैं। जिसमें हो रही जांच को प्रभावित करने के लिए भ्रष्टाचार के मुद्दे को भटकाने के लिए कुछ शिक्षक नेताओं द्वारा राजनीति करवाया जा रहा है। बताते चलें कि बेगूसराय के डीईओ एवं स्थापना डीपीओ के बीच विगत दिनों से हम की लड़ाई चल रही है। इसी लड़ाई में अंदरुनी रुप से शामिल शिक्षक संघ के दोनों गुट अलग अलग अधिकारी की ओर हैं। जिसमें एक गुट प्रारंभिक शिक्षक संघ एरियर भुगतान की मांग कर रहा है। जबकि दूसरा गुट प्रारंभिक टीइटी संघ अक्टूबर का वेतन मांग रहा है। विभागीय सूत्रों के अनुसार खाता में विभिन्न मदों के जमा 26 करोड़ में से शिक्षकों को करीब छह माह का एरियर अथवा एक माह के वेतन का भुगतान किया जा सकता है। जिसमें डीईओ ने छठ से पूर्व एरियर भुगतान का आदेश दिया। जबकि डीपीओ का कहना है कि नियमानुसार इस राशि से एरियर नहीं वेतन भुगतान होना चाहिए। हिन्दुस्थान समाचार/सुरेन्द्र/अरुण
image