Hindusthan Samachar
Banner 2 रविवार, नवम्बर 18, 2018 | समय 11:47 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

गया के छठ घाट दंडाधिकारियों के साथ हुई समीक्षा बैठक

By HindusthanSamachar | Publish Date: Nov 10 2018 10:45PM
गया के छठ घाट दंडाधिकारियों के साथ हुई समीक्षा बैठक
गया, 10 नवंबर(हि.स)।जिलाधिकारी अभिषेक सिंह की अध्यक्षता में छठ पर्व को लेकर समाहरणालय सभाकक्ष में बैठक की गयी। जिलाधिकारी ने छट घाटों के लिए प्रतिनियुक्त दंडाधिकारियों से घाट भ्रमण की जानकारी प्राप्त की। संबंधित दंडाधिकारी द्वारा बताया गया कि केंदुई घाट पर जेसीबी से गड्ढा खोदा जा चुका है, बैरिकेटिंग की जा रही है, चेंजिंग रूम तैयार हो चुका है, लाइट सिस्टम एवं पी ए सिस्टम रविवार तक लगवाने का निर्देश जिलाधिकारी ने संबंधित दंडाधिकारी को दिया। जिलाधिकारी ने कहा कि किस स्थल पर और कहाँ कहाँ वाहन पार्किंग किया जाना है ? उन स्थानों को रविवार तक चिह्नित कर लें। उन्होंने दंडाधिकारियों को निर्देश दिया कि सभी घाटों पर पर्याप्त रोशनी, पी एस सिस्टम एवं पीएचइडी के द्वारा जगह जगह पर पानी टैंकर की व्यवस्था करवाना सुनिश्चित करें। संबंधित दंडाधिकारी ने बताया कि झारखंड महादेव घाट पर जेसीबी के द्वारा गड्ढे खोदे जा चुके हैं, झरना भी लगवाई जा चुकी है। देवघाट के बारे में बताया गया कि वहाँ सफाई की जा रही है। देवघाट में बह रहे नाले के पानी को बंद करवा दिया गया है। जिलाधिकारी ने दंडाधिकारियों को निर्देश दिया कि जेसीबी के द्वारा जिन घाटों पर गड्ढे खोदे जा रहे हैं, उन गड्ढों में उतरने के लिए बालू से ही स्लोपिंग बनवा दें ताकि छठ व्रतियों के लिए नदी के पानी में जाना आसान रहे। उन्होंने छट घाट के दंडाधिकारियों को सख्त निर्देश दिया कि वे सभी घाटों पर कल तक पी एस सिस्टम लगवाना सुनिश्चित करें। बैठक में सूर्यकुंड के संबंध में बताया गया कि वहाँ बैरिकेडिंग के लिए चारो ओर रस्सी लगवाया जा चुका है। जिलाधिकारी ने कहा कि वहाँ के पत्थर पर काई लगा हुआ है, केमिकल से पत्थर के काई को छुड़वाया जाए साथ ही वहाँ कल से एसडीआरएफ की टीम को प्रतिनियुक्त करने का निर्देश दिया गया। उन्होंने संबंधित पदाधिकारी को निर्देश दिया कि घाट जाने वाले रास्ते में अगर कहीं गड्ढे हैं तो उस गड्ढे को भरवा दें ताकि छठव्रतियों को कोई कठिनाई न हो सके। उन्होंने निदेशित किया कि घाट जाने के रास्ते में पर्याप्त रोशनी एवं सफाई की व्यवस्था करवायी जाए। सरयू तालाब के लिए प्रतिनियुक्त दंडाधिकारी को निर्देश दिया गया कि जिस क्षेत्र का प्रयोग नहीं होना है उस क्षेत्र में पूर्णतः बैरिकेडिंग करवा दिया जाए। साथ ही जिन घाटों पर बैरीकेटिंग की जा रही है वहाँ के बैरीकेटिंग की गुणवत्ता की जांच करवाना सुनिश्चित करें। उन्होंने सभी घाट दंडाधिकारियों को सख्त निर्देश दिया कि विधि व्यवस्था के कार्य में लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। उन्होंने दंडाधिकारियों को कहा कि छट घाटों पर ऐसी व्यवस्था बनाये रखा जाए कि वहाँ पटाखे नहीं छूटने पाये।बैठक में सभी संबंधित पदाधिकारी उपस्थित थे हिन्दुस्थान समाचार/पंकज/अरुण
image