Hindusthan Samachar
Banner 2 शुक्रवार, नवम्बर 16, 2018 | समय 23:43 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

जीका वायरस के लिए मप्र में सर्वेलेंस कार्रवाई जारी

By HindusthanSamachar | Publish Date: Nov 10 2018 9:31PM
जीका वायरस के लिए मप्र में सर्वेलेंस कार्रवाई जारी
भोपाल, 10 नवम्‍बर (हि.स.)। मध्यप्रदेश जीका वायरस के प्रकरण पाये जाने को राज्य सरकार ने पूरी गंभीरता से लिया है। मुख्य सचिव बसंत प्रताप सिंह ने स्वास्थ्य विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों को इस संबंध में प्रतिदिन बैठक कर समीक्षा करने और प्रभावित क्षेत्रों में लार्वा के विनिष्टिकरण के निर्देश दिये हैं। भारत सरकार की सहायता से बना माइक्रो प्लान भारत सरकार की टीम ने भी राज्य सरकार की सहायता के लिये डॉ. रविन्द्रन की अध्यक्षता में प्रभावित क्षेत्रों का भ्रमण कर जीका वायरस की रोकथाम के लिये माइक्रो प्लान बनाया है। प्लान के अंतर्गत जीका सर्वेलेंस के लिये भोपाल में 170, विदिशा (सिरोंज) में 40 एवं सीहोर में 15 टीमों द्वारा घर-घर लार्वा सर्वे, लार्वा विनिष्ठिकरण, बुखार के रोगी तथा गर्भवती महिलाओं का चिन्हांकन और जीका वायरस की जाँच हेतु सेम्पल लिये गये हैं। इस सर्विलांस का मुख्य उद्देश्य से एडीज मच्छर के प्रजनन एवं संक्रमण को कम करना है। प्रभावित क्षेत्र प्रदेश के जीका वायरस प्रभावित क्षेत्रों क्रमश: सीहोर जिले के आष्टा ब्लॉक के गोपालपुर, चिन्नोटा एवं हमीदखेड़ी ग्राम, विदिशा जिले के सिरोंज ब्लॉक के कल्याणपुर और बीरपुर ग्राम एवं भोपाल शहर के 18 वार्ड में सघन जीका सर्वेलेंस कार्रवाई की जा रही है। सागर जिले में भी जीका वायरस का एक पॉजीटिव प्रकरण सामने आने पर वहाँ भी माइक्रो प्लान बनाकर 58 टीमों द्वारा गतिविधियाँ शुरू की जा चुकी है। जीका वायरस सामान्य बीमारी - स्वास्थ्य विभाग स्वास्थ्य विभाग के अनुसार जीका वायरस बीमारी एक सामान्य बीमारी है। इसके ट्रांसमिशन को रोकने के लिये विभाग द्वारा सघन गतिविधियाँ की जा रही हैं। रोकथाम के उपाय सभी प्रभावित क्षेत्रों में लगातार टेमीफोस से लार्वा विनिष्टिकरण के साथ ही नगरीय निकायों द्वारा फॉगिंग भी की जा रही है। साथ ही गर्भवती महिलाओं पर खास निगरानी रखकर उनकी सोनोग्राफी कर आवश्यक परामर्श दिया जा रहा है। जरूरी दवा पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध जीका वायरस के लार्वा विनिष्टिकरण हेतु प्रदेश में पर्याप्त मात्रा में टेमीफोस एवं वयस्क मच्छर के नियंत्रण के लिये साइफिनोथ्रीम और पायरीथ्रीम पर्याप्त मात्रा में स्वास्थ्य विभाग के पास उपलब्ध है। प्रदेश में जीका वायरस बीमारी की जाँच के लिए अभी तक भेजे गये 204 सेम्पल में से 85 पॉजीटिव पाये गये हैं। भोपाल जिले से भेजे गये 60 सेम्पल में से 29 पॉजीटिव आये हैं और इनमें से 5 गर्भवती महिलाओं के हैं। जीका वायरस से प्रभावित इन 5 महिलाओं पर खास निगरानी रखी जा रही है। अभी तक की जानकारी के अनुसार भोपाल में कोई नया क्षेत्र प्रभावित होना नहीं पाया गया है। हिन्‍दुस्‍थान समाचार/राजू
image