Hindusthan Samachar
Banner 2 रविवार, नवम्बर 18, 2018 | समय 11:59 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

बुद्ध की कर्मभूमि राजगीर में बनेगा भूटान मोनास्ट्री

By HindusthanSamachar | Publish Date: Nov 10 2018 8:50PM
बुद्ध की कर्मभूमि राजगीर में बनेगा भूटान मोनास्ट्री
पटना,10 नवम्बर(हि.स.)।नालंदा में भगवान बुद्ध कूमि राजगीर में भूटान मोनास्ट्री का निर्माण 300 करोड़ रुपये से कराया जाएगा। भूटान - भारत मैत्री के गोल्डन जुबली के मौके पर बनने वाले इस मोनास्ट्री के शिलान्यास समारोह की सभी आवश्यक तैयारियां पूरी कर ली गई है। भूटान के धर्मराज के सानिध्य में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भूटान मोनास्ट्री का विधिवत शिलान्यास 11 नवंबर 2018 को करेंगे। शिलान्यास बाद सोमवार से इस अवसर पर विधिवत भूटान की बौद्ध रीति से कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा। इस शिलान्यास समारोह में भूटान के धर्मराज जे खेनपो ट्रूयेल्कू जिग्मे , भूटान के गृह सचिव सोनाम तोक्यो, भूटान के कोलकाता दूतावास के काउंसलेट जनरल ढिल्ले वांगचुक, वित्त सचिव नीम दोर्जी, संस्कृति मंत्रालय के मैनेजिंग डायरेक्टर कर्मा वीजेर के अलावे कई प्रमुख लामा और हस्तियां शामिल होंगे। नौ दिवसीय इस शिलान्यास समारोह में भूटान के अलावे तिब्बत ऑस्ट्रेलिया आदि देशों के बौद्ध धर्मावलंबी शिरकत करने के लिए राजगीर पहुंच चुके हैं । इस मोनास्ट्री कैंपस में भूटान के बौद्ध मंदिरों के तर्ज पर एक मुख्य मंदिर का निर्माण कराया जाएगा। इसके अलावे लामाओं के लिए दो मंजिला आवास भवन का निर्माण के साथ वीआईपी गेस्ट हाउस आदि का भी निर्माण कराया जाएगा। मॉनेस्ट्री का निर्माण कार्य चार साल में पूरा करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। यह जानकारी भूटान टेंपल प्रोजेक्ट कंस्ट्रक्शन के निदेशक किले गेलचंद ने दी। मालूम हो कि राजगीर में जापान, थाईलैंड, कंबोडिया, श्रीलंका आदि देशों के मोनास्ट्री पहले से बने हैं। भगवान बुद्ध की कर्मभूमि और अंतर्राष्ट्रीय पर्यटन स्थल होने के नाते राजगीर आदि काल से बौद्ध धर्मावलंबियों के आकर्षण का केंद्र रहा है। यहां आज भी भगवान बुद्ध की पग ध्वनि की गुंज की अनुभूति बौद्ध धर्मावलंबी करते हैं। राजगीर का वेणुवन और गृद्धकूट पहाड़ी बौद्ध धर्मावलंबियों के लिए अति महत्वपूर्ण है। वे इसका दीदार भगवान बुद्ध के साक्षात दर्शन के समान मानते हैं। शिलान्यास समारोह स्थल पर पहुंचकर शनिवार को नालंदा डीएम ने तैयारियों का जायजा पदाधिकारियों के साथ लिया। उन्होंने मौजूद पदाधिकारियों को कई आवश्यक निर्देश भी दिया। समारोह के लिए भूटान के तर्ज पर मुख्य मंदिर जैसा मुख्य मंच तैयार किया गया है। मंच के मध्य में भगवान बुद्ध की पीतल की प्रतिमा रखी गई है। इसी मंच से भूटान के धर्मराज और मुख्यमंत्री समारोह को संबोधित करेंगे। शिलान्यास पट बनकर तैयार हो गया है। शिलान्यास पट के बगल में ही मोनास्ट्री का डेमो लगाया गया है। मुख्यमंत्री और भूटान के धर्म राज इसका निरीक्षण करेंगे । आगंतुको के लिए समारोह स्थल पर राजगीर महोत्सव से बड़ा पंडाल का निर्माण कराया गया है। मुख्य मंच के बगल में अति विशिष्ट अतिथियों के लिए अस्थाई डाइनिंग हॉल भी बनाए गए हैं। जिला प्रशासन द्वारा इस शिलान्यास समारोह के लिए सुरक्षा की कड़ी व्यवस्था की गई है। पर्याप्त संख्या में दंडाधिकारी, पुलिस पदाधिकारी और सशस्त्र व लाठी बल तैनात किए गए हैं। हिन्दुस्थान समाचार/अरुण
image