Hindusthan Samachar
Banner 2 रविवार, नवम्बर 18, 2018 | समय 06:47 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

उपेंद्र कुशवाहा से माफी मांगे नीतीश:हम

By HindusthanSamachar | Publish Date: Nov 10 2018 8:40PM
उपेंद्र कुशवाहा से माफी मांगे नीतीश:हम
आरा,10 नवम्बर(हि.स.)।हिन्दुस्तानी अवाम मोर्चा के राष्ट्रीय प्रवक्ता डॉ दानिश रिजवान ने राष्ट्रीय लोक समता पार्टी अध्यक्ष और केंद्रीय राज्य मंत्री उपेन्द्र कुशवाहा को कथित तौर पर नीच कहे जाने को लेकर कड़ा एतराज़ ज़ाहिर किया है। यहां एक विशेष भेंट में कहा कि बिहार की सत्ता को हाथ से जाते हुए देख बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के मुँह केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा को कथित तौर पर नीच कहे जाने की बात शोभा नहीं देती । इसके लिए तुरंत मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को माफी माँगनी चाहिए। डॉ.दानिश ने कहा कि जब से केंद्र में मोदी जी की सरकार आयी है तब से राजनीतिक मर्यादाएं तार तार हो रही है । विवादित बोल के कारण जिस तरीक़े से नेताओं को ऊँची जगह मिल रही है, उससे एक पर एक स्तरहीन बयानबाजी की शुरुआत हुई ,जिसका नतीजा है कि केंद्रीय मंत्रियों तक को कथित नीच जैसे शब्द सुनने पड़ रहे हैं । इस तरह की परंपरा की शुरुआत मोदी सरकार में बोली जा रही है। जो भारत की स्वस्थ राजनीति के लिए अशुभ संकेत है।उन्होंने कहा कि इस तरह की भाषाओं पर रोक लगनी चाहिए। उन्होंने कहा कि जब कुशवाहा समाज के लोगों ने उपेंद्र कुशवाहा को नीच कहे जाने को लेकर पटना की सड़कों पर प्रदर्शन किया तो नीतीश कुमार की पुलिस ने उनकी जमकर पिटाई की । इस पिटाई का हिसाब आने वाले चुनाव में कुशवाहा समाज के लोग नीतीश कुमार से जरूर लेंगे। डॉ दानिश ने कहा कि माननीय मुख्यमंत्री तानाशाह हो गए हैं । अपने ख़िलाफ़ किसी भी तरह की बात को सुनना नहीं चाहते । जब भी कोई उनके ख़िलाफ़ बोलता है, उसके ऊपर में लाठी चलाकर दमन करते हैं। यह लोकतंत्र के लिए कहीं से ठीक नहीं। नीतीश कुमार के इस तरह की बयान से यह साफ है कि केंद्रीय राज्य मंत्री उपेंद्र कुशवाहा को भाजपा के इशारे पर वे बयान दे रहे हैं। इससे साफ जाहिर होता है कि उपेंद्र कुशवाहा के कद को छोटा करने का यह खेल खेला जा रहा है। आगामी चुनाव में उपेंद्र कुशवाहा की पार्टी को सीट शेयरिंग में कम से कम सीट कैसे दी जाए इसी का सब खेल खेला जा रहा है। डॉ दानिश ने कहा कि केंद्रीय राज्य मंत्री उपेंद्र कुशवाहा ने समय रहते कोई ठोस निर्णय लेते हुए अपना सही कदम नहीं उठाया तो भाजपा और नीतीश कुमार मिलकर इनकी राजनीति को ब्रेक लगा देंगे। उन्होंने खुलकर रालोसपा और उपेंद्र कुशवाहा के पक्ष में उतरने से नए सियासी तापमान के बढ़ने के संकेत मिलने लगे हैं।हालांकि उपेंद्र कुशवाहा को अब भी उम्मीद है कि उन्हें सम्मानजनक सीटे मिल जाएगी।हम के ताजा बयान भले ही उन्हें महागठबंधन की तरफ खिंचने का संकेत देता हो लेकिन उपेंद्र कुशवाहा की एन डी ए में रहकर अधिक सीटें हासिल करने को ले प्रेसर पॉलिटिक्स जारी है। हिन्दुस्थान समाचार/डॉ. सुरेन्द्र/अरुण
image