Hindusthan Samachar
Banner 2 रविवार, नवम्बर 18, 2018 | समय 11:47 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

किसानों व व्यापारियों के अधिकार पढ़ेंगे कृषि के छात्र

By HindusthanSamachar | Publish Date: Nov 10 2018 8:20PM
किसानों व व्यापारियों के अधिकार पढ़ेंगे कृषि के छात्र
कानपुर, 10 नवम्बर (हि.स.)। चन्द्रशेखर आजाद कृषि प्रौद्यौगिकी विश्वविद्यालय के बीएससी कृषि के छात्र अब बीज या शोध के पेंटेंट कराये जाने, उनकी खरीद फरोख्त में किसानों के अधिकार के साथ ही व्यापारियों से जुड़े अधिकारों के बारे में भी जानकारी प्राप्त कर सकेंगे। जिसके लिए भारतीय कृषि अनुसंधान परषिद द्वारा बीएससी कृषि के पाठयक्रम में बदलाव किया गया है। चंद्रशेखर आजाद कृषि एवं प्रौद्यौगिकी विश्वविद्यालय (सीएसए) सहित देश के सभी कृषि विश्वविद्यालयों में बीएससी कृषि के पाठ्यक्रम में बदलाव किया गया है, साथ ही अनुवांशिकी एवं पादप प्रजनन विषय में इंटलेक्चुअल प्रॉपर्टी राइट्स के कोर्स को शामिल किया गया है। सीएसए के प्रोफेसर डाॅ. श्वेता व डाॅ. राजेन्द्र कुमार यादव द्वारा कोर्स की लिखी गयी पुस्तक को सीएसए सहित मेरठ, बांदा, फैजाबाद कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के पाठ्यक्रमों में शामिल कर लिया गया है। इस पुस्तक के माध्यम से छात्रों को किसानों और व्यापारियों के अधिकारों की जानकारी के साथ बीज या शोध के पेटेंट कराए जाने, उनकी खरीद फरोख्त के सम्बन्ध में भी बताया गया है। वर्तमान में बीएससी कृषि के इस नये कोर्स को मिलाकर कुल पूरे कोर्स के 13 विषय हो जाएंगे। इस नये कोर्स को इस वर्ष से लागू किया गया है। डाॅॅ. राजेन्द्र कुमार यादव ने शनिवार को बताया कि इस कोर्स के पाठ्यक्रम में आने से छात्रों में कृषि के प्रति रूचि पैदा होगी और आगे शोध करके इसी क्षेत्र में अपना कैरियर बनाने के लिए उत्सुक होंगे। बताते चलें कि सीएसए के ज्यादातर छात्र शिक्षा और शोध ग्रहण करने के बाद कृषि की जगह अन्य क्षेत्रों में नौकरी की तलाश में रहते हैं। हिन्दुस्थान समाचार/अजय/दीपक/संजय
image