Hindusthan Samachar
Banner 2 सोमवार, नवम्बर 19, 2018 | समय 00:30 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

रात भर जलता रहा पेपर गोदाम, अग्निशमन की आठ गाड़ियां करती रही मशक्कत

By HindusthanSamachar | Publish Date: Nov 10 2018 7:59PM
रात भर जलता रहा पेपर गोदाम, अग्निशमन की आठ  गाड़ियां करती रही मशक्कत
पुलिस क्वार्टर समेत रेजिडेंशियल बिल्डिंग भी जली कोलकाता, 10 नवंबर (हि.स.)। कोलकाता में एक बार फिर आग लगने की बड़ी घटना घटी है। यहां उल्टाडांगा थाना इलाके के कैनल ईस्ट रोड पर स्थित दासपाड़ा शीतला मंदिर के पास एक पेपर गोदाम में शुक्रवार रात 10:15 बजे भयावह आग लग गई। इसकी भयावहता का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि सूचना मिलने के बाद एक के बाद एक अग्निशमन विभाग की आठ गाड़ियां मौके पर पहुंची लेकिन रात भर में आग पर काबू नहीं पाया जा सका। आखिरकार सुबह 5:10 पर अग्निशमन की गाड़ियों ने आग पर काबू पाया। घटना में किसी के घायल होने की सूचना नहीं है और ना ही आग लगने के कारणों के बारे में पता चल सका है, लेकिन अंदाजा लगाया जा रहा है कि संभवत: शॉर्ट सर्किट की वजह से आग लगी थी। शनिवार शाम कोलकाता पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने इस बारे में बताया कि सबसे पहले स्थानीय लोगों ने गोदाम से धुआं निकलते हुए देखा था जिसके चंद मिनटों के अंदर ही उसमें से आग की लपटें निकलने लगी थीं। तुरंत उल्टाडांगा थाने को इसकी सूचना दी गई थी। मौके पर बड़ी संख्या में पुलिस और कोलकाता पुलिस की आपदा प्रबंधन टीम भी पहुंच गई थी। जब यह स्पष्ट हो गया कि गोदाम के अंदर किसी के फंसे होने की आशंका नहीं है तो तुरंत चारों ओर से आग को बुझाने का काम शुरू किया गया। रात का समय होने की वजह से गोदाम बंद था इसलिए आग को बुझाने में थोड़ी अधिक मशक्कत भी करनी पड़ी। उधर इसमें भारी मात्रा में पेपर एकत्रित किए गए थे इसीलिए आग काफी तेजी से फैलने लगी थी। जरूरत के अनुसार एक के बाद एक अग्निशमन विभाग की 10 गाड़ियों को मौके पर बुलाया गया लेकिन आठ गाड़ियों की मदद से सात घंटे के अंदर सुबह 5:15 बजे तक आग को पूरी तरह से बुझा लिया गया था। हालांकि इस आग की वजह से पूरे इलाके के लोग रात भर परेशान रहे क्योंकि इससे निकलने वाले धुएं का गुबार पूरे क्षेत्र में भर गया था बच्चों बूढ़ों और अन्य आयु वर्ग के लोगों को सांस लेने में परेशानी होने लगी थी। पुलिस और आपदा प्रबंधन की टीम ने गोदाम के आसपास की इमारतों से लोगों को सुरक्षित निकाल कर दूसरी जगह पर शिफ्ट किया था जहां रात भर लोगों को कमोबेश जागकर गुजारना पड़ा है। जांच में पता चला है कि पेपर के अलावा लकड़ी और अन्य ज्वलनशील सामानों की मौजूदगी की वजह से आग काफी अधिक बढ़ गई थी। पूरा गोदाम जलकर खाक हो गया है। अंदाजा लगाया जा रहा है कि इससे लाखों रुपये की क्षति हुई है। आग कैसे लगी इसकी जांच के लिए कमेटी गठित की गई है। ज्ञात हो कि शुक्रवार से शनिवार रात पूरे कोलकाता में चार जगहों पर आग लगी थी। इसके बाद शनिवार को सुबह से लेकर रात तक दो और जगहों पर आग लगी है। शुक्रवार रात उल्टाडांगा में लगी उक्त भयावह आग के बाद शनिवार को भी राजधानी कोलकाता में दो अलग-अलग जगहों पर आग लग गई। पहली घटना इंटाली थाना अंतर्गत 24ए राधानाथ चौधरी रोड में स्थित तीन मंजिला पुलिस क्वार्टर की है। बताया गया है कि इस इमारत के दूसरे तल्ले पर मौजूद कमरे में दोपहर 2:30 बजे के करीब आग लग गई। हालांकि आग बहुत बड़ी नहीं थी और यहां रहने वाले पुलिसकर्मियों ने ही इस पर काबू पा लिया था लेकिन फिर भी सूचना मिलने के बाद अग्निशमन विभाग की एक गाड़ी मौके पर पहुंच गई थी। पता चला है कि एक इलेक्ट्रिक हीटर में ओवरहीटिंग की वजह से यह आग लगी थी। घटना में किसी के घायल होने की सूचना नहीं है। दूसरी घटना बेलियाघाटा थाना अंतर्गत 26ए सूरा रोड स्थित दो मंजिला इमारत की है। इसके एक कमरे में दोपहर 2:35 पर आग लग गई। सूचना मिलने के बाद अग्निशमन विभाग की गाड़ी मौके पर पहुंची और करीब आधे घंटे के अंदर आग पर काबू पा लिया। बताया गया है कि कमरे में जल रहे मोमबत्ती से यह आग लगी थी। घटना में किसी के घायल होने की सूचना नहीं है। उल्लेखनीय है कि पिछले डेढ़ महीने से ऐसा कोई भी दिन नहीं गया है जब कोलकाता में कहीं ना कहीं आग लगने की घटनाएं नहीं घटी हों। प्रत्येक दो या तीन दिनों के अंतराल पर अग्निकांड की भयावह घटनाएं भी हुई है जिसमें कम से कम चार से पांच अग्निशमन की गाड़ियों को डेढ़ से दो घंटे तक मशक्कत करनी पड़ी है। रोज हो रही इन घटनाओं ने महानगर की अग्निशमन व्यवस्था की कलई खोलकर रख दी है। हिन्दुस्थान‌ समाचार/ ओम प्रकाश/मधुप
image