Hindusthan Samachar
Banner 2 सोमवार, नवम्बर 19, 2018 | समय 00:32 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

विधानसभा चुनाव में देखो और इंतजार करो की स्थितियों में खड़ा आमजन

By HindusthanSamachar | Publish Date: Nov 10 2018 7:17PM
विधानसभा चुनाव में देखो और इंतजार करो की स्थितियों में खड़ा आमजन
टोंक, 10 नवम्बर (हि.स.)। विधानसभा चुनावों की दस्तक के साथ ही दोनों ही प्रमुख राजनैतिक दलों द्वारा अभी तक टिकटों की घोषणा नही हो पाने व नामांकन दाखिले की तिथि करीब जाने के चलते शहर का आमजन वेट एंड वॉच की स्थितियों में खड़ा है। अटकलबाजियों के बाजारों में प्रत्याशियों के चयन में पार्टी आलाकमान के नजरियों को भी खुद ही आंकलन करने में चाय-पान की चौपालों पर बैठे पंच-पटेल अपनी बुटेलिन ही जारी करने में गुरेज नहीं कर रहे है। शहर के पान की थडिय़ों से लेकर चाय की दुकानों पर बैठे चौपाली विशेषज्ञों का मानना है कि टोंक विधानसभा क्षेत्र में भाजपा की ओर से अब तक यह सीट संघ वालों के खाते में ही जाती है तथा इस जिले में संघ के पुरोधा रहे महावीर प्रसाद जैन ने जहां संघ का प्रतिनिधित्व करते हुए सात बार इस क्षेत्र से भाजपा से चुनाव लड़ कर अपना परचम लहराया। राज्य की सबसे बड़ी पंचायत में टोंक का प्रतिनिधित्व करते रहे महावीर प्रसाद जैन ने लगातार न केवल टोंक विधानसभा क्षेत्र बल्कि पूरे जिले में संघ की मजबूत टीम तैयार की थी। भाजपा के वर्तमान विधायक अजीत सिंह मेहता ने भी शहरी क्षेत्रों में ही नही बल्कि बल्कि गांव व ढाणी तक में भाजपा के परचम को मजबूत किया। लोगों का मानना है कि संघ की दृष्टि से भी अजीत सिंह मेहता एक दबंग प्रतिनिधि के रुप में है तो संघ के पुरोधा महावीर जैन की कार्यशैली बेबाक, ईमानदार, मजबूत रही है। ऐसे में संघ इस बार अपना दांव किस पर खेलेगा, उसकी चक्कलस भी इन दुकानों पर बैठे आमजन में बनी रहती है। इसी बीच संघ के ही भाजपा जिलाध्यक्ष गणेश माहुर, राजेन्द्र पराणा, नरेश बंसल की भी चर्चा खूब रहती है तो भाजयुमो के कप्तान चन्द्रवीर सिह चौहान, माली समाज के जिलाध्यक्ष कमलेश सिंगोदिया, सभापति लक्ष्मी जैन, महिला जिलाध्यक्ष बीना छामुनिया, पं.महावीर शर्मा, हेमंत लाम्बा, उपसभापति अजय सैनी भी सुर्खियां में है। इधर कांग्रेस खेमे में चर्चाएं इतनी गर्म है कि घंटाघर से बड़े कुंए और काफला बाजार की चौपालों में गर्माहट पैदा किए हुए है, पूर्व विधायक व मंत्री रही जकिया जो भाजपा के दिग्गज महावीर प्रसाद जैन से आमने सामने रहती थी जिनकी ग्रामीण इलाकों में मजबूत पकड़ को लेकर तो युवा इंका के जिलाध्यक्ष सऊद सईदी की मजबूत टीम, कुशल व्यवहार व गांव-गांव में पिछले चुनावों में गहरी पैठ, शहरी इलाके में मुस्लिम वर्ग की एक मात्र पसंद के अलावा प्रमुख व्यवसायी व दो बार चैयरमैन रहे मो.अजमल व उनके छोटे भाई मोईनुद्दीन निजाम पर चर्चा गर्मा जाती है। इधर कांग्रेस से बहुसंख्यकों पर दांव चलता है तो जिला कांग्रेस कमेटी के महामंत्री दिनेश चौरासिया का व्यक्तित्व व युवाओं का प्रतिनिधित्व करते रहने वाले सुनील बंसल, वरिष्ठ कांग्रेसजनों में मणिकांत गर्ग, आत्माराम गोयल, एडवोकेट हरिकिशन शर्मा ऐसे नाम है जो बहुसंख्यक होते हुए भी अल्पसंख्यकों में अपनी पैठ बनाएं हुए है। इधर आप पार्टी से किसान नेता रामपाल जाट तो बसपा से मोहम्मद अली दादा भाई के नामों की घोषणाओं के किसको कितना नफा नुकसान होगा, पर चकल्लस जारी है तो शिवसेना जिला प्रमुख पांचूलाल सैनी ने भी यहां से प्रचार में जुटे हुए है। हिन्दुस्थान समाचार/करनानी/संदीप
image