Hindusthan Samachar
Banner 2 शुक्रवार, नवम्बर 16, 2018 | समय 23:36 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

छठ घाटों की साफ-सफाई को लेकर नहीं खुली प्रबंधन की नींद, व्रती चिंतित

By HindusthanSamachar | Publish Date: Nov 10 2018 7:14PM
छठ घाटों की साफ-सफाई को लेकर नहीं खुली प्रबंधन की नींद, व्रती चिंतित
बोकारो, 10 नवम्बर (हि.स.)। बोकारोवासी आस्था के महापर्व छठ की तैयारियों में लगे हैं। शहर के सभी बाजारों में छठ सामग्रियों की खरीदारी अपने चरम पर है, लेकिन सबसे दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति यह है कि छठ घाट की साफ-सफाई के प्रति अब तक बोकारो इस्पात प्रबंधन गंभीर नहीं हो सका है या दूसरे शब्दों में कहें तो एक तरह से आस्था के इस महापर्व के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। स्थानीय टू टैंक गार्डन के सरोवर की साफ-सफाई अब तक नहीं की जा सकी है, जबकि रविवार को छठ महापर्व का शुभारंभ नहाय-खाय के साथ होने जा रहा है। घाट पर व्रती स्नान कर इसकी शुरुआत करेंगे, लेकिन घाट तथा पानी में चारों तरफ फैली गंदगी के कारण उन्हें भारी परेशानी झेलनी पड़ेगी। फिलहाल घाट की सफाई के लिए लोगों को काफी परेशानी झेलनी पड़ रही है। इस तरह की दिक्कत पहले उन्हें नहीं देखनी पड़ती थी, परंतु इस बार बीएसएल प्रबंधन की उदासीनता से वे खासे चिंतित व खफा दिख रहे हैं। वे खुद यथासंभव साफ-सफाई में जुटे हैं, लेकिन टू टैंक के पानी की साफ सफाई नहीं होना काफी चिंताजनक है। हालांकि, इस गंदगी के पीछे आम जनता भी जिम्मेदार है। लगातार जागरुकता अभियान के बावजूद जलाशयों की साफ-सफाई के प्रति लोग गंभीर नहीं हैं। इस दिशा में हम लोगों को भी जागरूक होना पड़ेगा। बहरहाल, टू टैंक गार्डेन की साफ-सफाई के प्रति बोकारो इस्पात प्रबंधन की तंद्रा कब खुलती है, यह देखना बाकी है। हिन्दुस्थान समाचार/दीपक/वंदना/वीरेन्द्र
image