Hindusthan Samachar
Banner 2 बुधवार, दिसम्बर 12, 2018 | समय 15:03 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

पिछली सरकारों की तुलना में झारखंड में रेलवे के क्षेत्र में छह गुना बढ़ा निवेश:पीयूष

By HindusthanSamachar | Publish Date: Oct 13 2018 10:58PM
पिछली सरकारों की तुलना में झारखंड में रेलवे के क्षेत्र में छह गुना  बढ़ा निवेश:पीयूष
रांची,13 अक्ट्बर(हि•स.)। केंद्रीय रेलवे व कोयला मंत्री पीयूष गोयल ने बताया कि पिछली सरकारों की तुलना में झारखंड में रेलवे के क्षेत्र में छह गुना निवेश बढ़ा है। 2014 तक जहां झारखंड में सालाना में केवल 450 करोड़ का काम होता था, वह बढ़कर 2100 करोड़ पहुंच गया है। इसका असर दिखने लगा है। रेल लाइन बनाने में काम में तेजी आ गई है। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी जी द्वारा चालू किए गए ज्यादातर प्रोजेक्ट जल्द ही पूरे हो जाएंगे। झारखंड की जनता को काफी लाभ होगा। इसके अलावा पीयूष गोयल ने झरिया के विस्थापितों के लिए तेजी से घर बनाने का निर्देश अधिकारियों को दिया। गोयल ने रांची में खेल यूनिवर्सिटी में हो रहे कार्यों के लिए मुख्यमंत्री रघुवर दास को विशेष तौर पर बधाई देते हुए कहा कि झारखंड के बच्चों में काफी क्षमता है। इन्हें थोड़ा सा प्रोत्साहन मिलेगा मिला तो वे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर झारखंड का ही नहीं पूरे देश का नाम रोशन करेंगे। इसके साथ ही खेल यूनिवर्सिटी मैं बच्चों की क्षमता बढ़ाने को लेकर भी चर्चा हुई। मौके पर मुख्यमंत्री रघुवर दास ने धनबाद-चंद्रपुरा के लिए वैकल्पिक रेल मार्ग की का काम तेजी से शुरू करें। राज्य सरकार की तरफ से जो भी सहयोग होगा, उसे प्राथमिकता के तौर पर किया जाएगा। साथ ही कोडरमा-रांची रेल लाइन का काम भी जल्द से जल्द पूरा करने को कहा। ये बातें मुख्यमंत्री रघुवर दास ने केंद्रीय रेलवे व कोयला मंत्री पीयूष गोयल एवं अधिकारियों के साथ मुख्यमंत्री आवास पर हुई बैठक में कही। उन्होंने कहा कि झारखंड से रेलवे को जितना राजस्व मिलता है उसी के अनुरूप झारखंड को रेलवे की झारखंड को सुविधा भी मिलना अपेक्षित है। राज्य सरकार फॉरेस्ट क्लीयरेंस समेत अन्य मुद्दों पर लगातार समीक्षा कर रही है और केंद्रीय मंत्री श्री पीयूष गोयल से भी काफी अच्छा सहयोग मिल रहा है। मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कोयले की ढुलाई में रंगदारी और गुंडागर्दी के मामले पर अंकुश लगाने के लिए सुझाव दिया कि जिन कोल माइन्स में संभव हो वहां रेल लाइन बिछाकर कोयले की ढुलाई की जाए। इससे रंगदारी काफी अंकुश लगेगा। जहां सुविधा नहीं है, वहां कनवेयर के माध्यम से कोयले को रेलवे साइट तक लाया जाए। इस पर केंद्रीय मंत्री अपनी सहमति जताई जताते हुए अधिकारियों को त्वरित कार्रवाई करने का निर्देश दिया। बैठक में झारखंड के मुख्य सचिव सुधीर त्रिपाठी मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव सुनील कुमार वर्णवाल खान सचिव विनय चौबे पीसीसीएफ संजय कुमार समेत रेलवे और कोयला मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी व राज्य सरकार के अन्य अधिकारी उपस्थित थे। हिन्दुस्थान समाचार/विकास/विनय
image