Hindusthan Samachar
Banner 2 मंगलवार, सितम्बर 25, 2018 | समय 14:14 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

प्रधानमंत्री के काशी दौरे पर विपक्षी दलों की नजर, जनसभा में भीड़ से तय होगा भविष्य

By HindusthanSamachar | Publish Date: Sep 16 2018 8:33PM
प्रधानमंत्री के काशी दौरे पर विपक्षी दलों की नजर, जनसभा में भीड़ से तय होगा भविष्य
वाराणसी, 16 सितम्बर (हि.स.)। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के 17 सितम्बर से प्रस्तावित दो दिवसीय काशी दौरे पर विपक्षी दलों की भी नजर है। एससी/एसटी एक्ट पर लामबंद विपक्षी दल प्रधानमंत्री की जनसभा में उमड़ने वाली भीड़ के आकलन में जुट हुए हैं। इन दलों के नेताओं का मानना है कि प्रधानमंत्री की सभा में उमड़ी भीड़ भाजपा के लिए भी संजीवनी बनेगी। कांग्रेस के एक पदाधिकारी ने बताया कि चुनावी वर्ष में प्रधानमंत्री की सभा बेहद अहम है। इससे पूर्वांचल के आगे की राजनीति पर भी असर पड़ेगा। कांग्रेस के ही स्थानीय जिलाध्यक्ष प्रजानाथ शर्मा ने कहा कि लगातार पेट्रोल डीजल के मूल्यों में वृद्धि, महंगाई और सरकार की वादाखिलाफी से युवा नाराज है। जिलाध्यक्ष ने आरोप लगाया कि भारत रत्न महामना पं. मदन मोहन मालवीय ने जिस शैक्षणिक माहौल के लिए इस महान विवि की स्थापना की थी, भाजपा और आरएसएस के साथ खुद प्रधानमंत्री यहां सभा करके संस्था की गरिमा को गिरा रहे हैं। उन्होंने बताया कि कांग्रेस के एक प्रतिनिधि मंडल ने भी बीएचयू कुलपति से मिलकर विरोध दर्ज कराया था। बीएचयू में प्रधानमंत्री के कार्यक्रम में विरोध की सम्भावना पर जिला प्रशासन और एसपीजी भी बेहद सतर्क है। पिछले दिनों मेस में खाने को लेकर विवाद के बाद विवि में हिंसक बवाल को देख जिला प्रशासन अतिरिक्त सतर्कता बरत रहा है। बीएचयू में प्रधानमंत्री के पूर्व के दौरे में भी कुछ छात्र संगठन विरोध दर्ज करा चुके हैं। इसे देख सतर्क जिला प्रशासन ने विवि में चप्पे-चप्पे पर सुरक्षा कर्मी तैनात कर दिए हैं। पूरे परिसर में सुरक्षा की अभेद्य किलेबंदी की गई है। खुद एडीजी वाराणसी जोन, आईजी जोन इस पर नजर बनाये हुए हैं। हिन्दुस्थान समाचार/श्रीधर/सुनीत
image