Hindusthan Samachar
Banner 2 मंगलवार, सितम्बर 25, 2018 | समय 14:13 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

पुष्कर सावित्री माता मंदिर में उमड़ा आस्था का सैलाब

By HindusthanSamachar | Publish Date: Sep 16 2018 8:35PM
पुष्कर सावित्री माता मंदिर में उमड़ा आस्था का सैलाब
अजमेर, 16 सितम्बर(हि.स.)। तीर्थराज पुष्कर स्थित रत्नागिरी पहाड़ी पर बिराजी जगतपिता ब्रह्मा जी की पहली पत्नी और सुहाग दात्री सावित्री माता के मंदिर पर मेला सोमवार को भरेगा लेकिन आस्था का सैलाब रविवार अल सुबह से ही उमड़ने लगा। लगभग एक लाख महिलाएं अब तक सावित्री माता मंदिर पर पहुंच चुकी हैं। रात्रि भव्य जागरण होगा। पुजारी कैलाश पाराशर और कमल पाराशर ने बताया कि मेले में भारी भीड़ अल सुबह से शुरू हो गई है प्रशासन और पुलिस की तरफ से किसी भी प्रकार की व्यवस्था नहीं होने से श्रद्धालुओं को काफी दिक्कतें रहीं। भीड़ को नितन्त्रण करने में काफी मुश्किलों का सामना का सामना करना पड़ा। दोपहर बाद जिला प्रशासन और जिला पुलिस प्रशासन को अनहोनी ना हो जाने का अंदेशा हुआ तो आननफानन में पुलिस बल भेजा गया। पुलिस प्रशासन ने तब श्रद्धालुओं को मंदिर की पहाड़ी से नीचे रोकना शुरू किया। मंदिर पहाड़ी की सीढ़ियों सहित सभी जगह पुलिसकर्मी तैनात कर दिए गए हैं। भीड़ को नियंत्रण करने और व्यवस्था बनाये रखने के लिए पुष्कर के रामु पाराशर, दीपक राजगुरु महेश पराशर, दीपक पाराशर, सुभाष सर वाडिया, कानू पराशर, गिरिराज पाराशर, सुनील पाराशर, प्रकाश कुमावत सहित युवाओं की टीम लग रखी है जो व्यवस्थाओं को संभाल रखी है। मंदिर की विशेष सजावट की गई है। रात्रि में माता सावित्री का विशेष श्रृंगार किया जाएगा रात्रि में भव्य जागरण आयोजित होगा। मंदिर परिसर में भक्तों के बैठने के लिए विशेष व्यवस्था की गई है। मेले में आने वाले श्रद्धालुओं के लिए भंडारे की व्यवस्था की गई है। मंदिर में हाजिरी लगाने के लिए महिला श्रद्धालुओं का हुजूम पहाड़ी के पैदल रास्ते से कतार में चल रहा है। आलम यह है कि की 2 से 3 किलोमीटर दूर से ही पहाड़ी के मार्ग पर लाल व गुलाबी और पीली चुनड़ी ओढ़े चल रही महिलाओं रेला दिखाई दे रहा है। जिसके चलते पूरे मार्ग में जाम के हालात बने हुए हैं। इतिहास में सावित्री मेले से पूर्व ऐसी भीड़ कभी नहीं उमड़ी ,यहां तक कि मेले के दौरान भी श्रद्धालु महिलाओं का ऐसा रैला नहीं देखा गया। हालात यह हो गए कि सावित्री पहाड़ी के रास्ते की चौड़ाई ही छोटी पड़ गई है। अनुमान के मुताबिक सावित्री मंदिर के दर्शन करने वाली महिलाओं और बाबा रामदेव जी के मेले में आने वाले श्रद्धालुओं की लगभग एक लाख लोगों की भीड़ आज पुष्कर पहुंची है। लेकिन इतनी भारी संख्या में भीड़ आने के बावजूद प्रशासनिक इंतजामों के नाम पर कुछ भी नजर नहीं आ रहा था । तेज धूप के बावजूद पहाड़ी पर जाने वाली महिलाओं को रास्ते में पीने का पानी भी नसीब नहीं हो रहा है। खास बात यह है कि मंदिर जाने और आने के साथ साथ मंदिर में प्रवेश करने के लिए भी केवल एक ही मार्ग और दरवाजा बना हुआ है जो इस भीड़ के आगे बहुत छोटा है। भारी भीड़ के चलते पूरे रास्ते में आने जाने वाली महिलाओं में जमकर धक्का मुक्की का आलम है जिससे हर समय हादसा घटित होने का अंदेशा है। पहाड़ी मार्ग में कही भी कोई लोहे की रेलिंग तक नहीं लगी है। जिससे श्रद्धालुओं को थोड़ी सी भी राहत नहीं मिल पा रही है। वहीं मंदिर के मुख्य दरवाजे में भी आने जाने वालों की भीड़ के कारण कई बार दम घुटने जैसी स्थितियां पैदा हो रही है। हिन्दुस्थान समाचार/संतोष / ईश्वर
image