Hindusthan Samachar
Banner 2 बुधवार, सितम्बर 26, 2018 | समय 13:04 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

सेरेब्रल मलेरिया के शिकार मासूम का हुआ सफल इलाज

By HindusthanSamachar | Publish Date: Sep 16 2018 8:23PM
सेरेब्रल मलेरिया के शिकार मासूम का हुआ सफल इलाज
भीलवाड़ा, 16 सितम्बर (हि.स.)। दिमागी ( सेरेब्रल) मलेरिया का शिकार एक मासूम जो अपनी जिंदगी और मौत से जूझ रहा था, भीलवाड़ा के शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ अतुल हेड़ा की टीम ने मासूम का इलाज कर इसे एक नई जिंदगी दी है। दिलशान पुत्र इकबाल निवासी हरियाणा हाल मुकाम बिगोद में रहने वाले इस मासूम के दिमाग में मलेरिया का बुखार चढ़ गया था। गंभीर हालत में इसे भीलवाड़ा के महात्मा गांधी चिकित्सालय में भर्ती कराया गया जहां चिकित्सकों ने उच्च स्तरीय चिकित्सा के लिए हाई सेंटर को रेफर कर दिया। इकबाल के पास इतने पैसे नही थे कि वह हाइसेन्टर पर दिलशान का इलाज करवा पाए। ऐसे में उन्होंने भीलवाड़ा के डॉक्टर हेड़ा से संपर्क किया। निजी हॉस्पिटल में अपनी सेवाएं दे रहे डॉक्टर हेड़ा की टीम ने दिमागी मलेरिया यानी सेरेब्रल मलेरिया से इस मासूम की जिंदगी को बचाया और 12 घंटे में ही दिलशान होश और हवाश में आ गया। इसके बाद परिवार के लोगों ने राहत की सांस ली। डॉक्टर हेड़ा का कहना है कि दिलशान को जिस स्थिति में चिकित्सालय में लाया गया था वह काफी गंभीर थी और और मेडिकल साइंस में इसे सेरेब्रल मलेरिया कहा जाता है जो प्राय फेल्सीपेरम मलेरिया से होता है परंतु कभी कभार वाईवैक्स मलेरिया से भी हो जाता है। यह मलेरिया की सबसे गंभीर अवस्था होती है जिसमें तुरंत इलाज प्रारंभ नही किया जाए तो मरीज की जान भी जा सकती है। इस मासूम बच्चे को भी तुरंत इलाज मिलने से इसकी जिंदगी बच पाई और अब यह खाना पीना और अपनी जिंदगी को फिर से शुरू कर पाया है। डॉक्टर हेड़ा का कहना है कि मच्छर के काटने से और कीचड़ में पनप रहे मच्छरों की वजह से मलेरिया रोग होता है इसके बचाव हेतु अपने घर के आस-पास गंदगी कीचड़ ना होने दें बच्चों को पूरी आस्तीन के कपड़े पहनाकर रात में खासतौर से बच्चों का ख्याल रखें क्योंकि मलेरिया का मच्छर रात में ही काटता है। लार्विरोधक दवा का छिड़काव क्षेत्र में जरूर करावे। हिन्दुस्थान समाचार/ मूलचन्द / ईश्वर
image