Hindusthan Samachar
Banner 2 गुरुवार, नवम्बर 15, 2018 | समय 18:05 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

समधी की जमीन-जायदाद हड़पने का आरोप

By HindusthanSamachar | Publish Date: Sep 16 2018 8:15PM
समधी की जमीन-जायदाद हड़पने का आरोप
जोधपुर, 16 सितम्बर (हि.स.)। बेटी की आड़ में समधी ने पंचों व रिश्तेदारों के साथ मिलकर अपने ही समधी की जमीन व जायदाद हड़पने का मामला बाप पुलिस थाने में दर्ज हुआ है। जानकारी के अनुसार लोहावट निवासी आरोपी की बेटी पिछले सात सालों से कानासर स्थित ससुराल में निवास कर रही थी। कुछ पंचों की सहायता से आरोपी ने अपने ही समधी के बेटे के साथ हुए विवाह को तोडऩे के एवज में जमीन व नकद पैसे अपनी बेटी के नाम करवा दिए। उसके बाद पुलिस की मौजूदगी में अपनी बेटी को उसकी मां से मिलाने का कहकर 10 दिन के लिए अपने घर लाया और किसी अन्य के साथ विवाह कर दिया गया। इस मामले को लेकर लोहावट निवासी एक पुलिस कांस्टेबल की भी अहम भूमिका बताई जा रही है। बाप पुलिस के अनुसार नेवा कानासर निवासी बुधाराम पुत्र रूपाराम विश्नोई निवासी ने कोर्ट के जरिए परिवाद में बताया कि उसकी शादी सात वर्ष पूर्व 11 जून 2011 को लोहावट निवासी भागीरथराम की पुत्री से हुई थी। सात वर्ष तक पत्नी के साथ निवास करने के बाद उसके ससुर ने उसके पिता से विवाह तोडऩे की धमकी दी तथा एवज में जमीन अपने नाम करवाने की मांग करने लगे। तब उसके पिता ने 15 दिसंबर 2017 को चार बीघा जमीन उसकी पत्नी के नाम करवा दी। करीब दो माह बाद फिर उसके पिता पर शादी तोडऩे का दबाव बनाने लगे तो उसकेे पिता ने इज्जत के डर से 22 फरवरी 2018 को उसकी पत्नी के नाम यूको बैंक में खाता खुलवा कर 3 लाख रुपए खाते मेंं जमा करवा दिए। उसके बाद 5 लाख की और मांग करने लगे। इतने रुपए पास नहीं होने के कारण उसके पिता ने रुपए देने से इनकार कर दिया, तब लोहावट निवासी भागीरथराम ने कथित पंच दाणुराम खिचड़ के साथ मिलकर 15 से 20 लोग षड्यंत्र के तहत बाप थाने के एक कांस्टेबल को लेकर एक मार्च 2018 को उनके घर पर लेकर आये और कहा कि उसकी बेटी को उसकी मां से मिलने के लिए घर ले जाना है तब पुलिस कांस्टेबल की मौजूदगी में 10 दिन का लिखित में लेटर लिखकर अपनी पुत्री को मायके लेकर चले गए। बुधाराम ने रिपोर्ट में बताया कि उस समय उसकी पत्नी तीन माह की गर्भवती थी। दिया हुआ समय निकलने के बाद भी पत्नी घर नहीं आईं तो उसने कई बार पत्नी से और ससुराल वालों से संपर्क करने की कोशिश की लेकिन ना तो उसकी पत्नी से बात करवाई और ना ही मिलने दिया। फोन पर साला पुलिस कांस्टेबल पूनाराम पुत्र भागीरथ राम द्वारा अन्य लोगों से फोन करवाकर जान से मारने की धमकी देने लगे। कुछ समय निकलने के बाद पता चला कि उसकी पत्नी का गर्भपात करवा कर उसकी शादी अन्यत्र जगह करवा दी गई है जिस पर रिश्तेदारों के जरिए पता किया तो पता चला कि उसकी पत्नी का विवाह नागौर जिले के मकराना में हिरणी ढाणी निवासी महेंद्र पुत्र भजनाराम विश्नोई के साथ कर दिया है। बाप पुलिस ने अदालत के आदेश पर आरोपी पत्नी व भागीरथराम पुत्र अम्मुराम, बाबूराम पुत्र अम्मुराम, पूनाराम पुत्र भागीरथ राम, दाणुराम पुत्र धोंंकलाराम सभी निवासी मूलराज नगर लोहावट, चैनाराम निवासी लोड़ता शेरगढ़ जोधपुर , मुन्नीराम निवासी भेड़ खिंवसर सहित आठ लोगों के खिलाफ धारा 312, 420, 492 व 120 बी के तहत मामला दर्ज किया है। मामले की जांच बाप थाने के एसआई इमरान खान कर रहे है। ऐसा है मामला कानासर निवासी रूपाराम पुत्र मामराज राम गोदारा व मूलराज नगर लोहावट निवासी भागीरथ राम पुत्र बाबूराम खीचड़ आपस में समधी आमने सामने (आटे-साटे) के तहत बने थे। बुधाराम पुत्र रूपाराम निवासी कानासर का विवाह भागीरथ राम पुत्र अम्मुराम निवासी मूलराज नगर लोहावट की लडक़ी के साथ 11 जून 2011 में हुआ था। वही बुधाराम की बहन की शादी बलदेवराम पुत्र भागीरथ राम खिचड़ निवासी लोहावट के साथ 29 अप्रैल 2017 को हुई थी। जिसके तहत बुधराम की बहन ने बलदेवराम के मंद बुद्धि होने व पागलों जैसी बातें करने पर कुछ ही दिनों बाद ससुराल जाने से मना कर दिया। इस पर बुधाराम के पिता रूपाराम ने 5 पंचों के साथ भागीरथ राम के घर पर जाकर संबंध विच्छेद विवाह तोडऩे का लिखित निर्णय 23 फरवरी 2018 को लिया गया जिसमें बुधाराम की बहन का छुट्ट -पल्ला (संबंध विच्छेद) हो गया जिस पर उन्हें अन्यत्र शादी करवा कर भेज दी गई थी। हिन्दुस्थान समाचार/ सतीश / ईश्वर
image