Hindusthan Samachar
Banner 2 गुरुवार, नवम्बर 15, 2018 | समय 18:47 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

दरार की मरम्मत को लेकर विक्रमशिला सेतु पर 18 दिनों तक वाहनों की आवाजाही रहेगी बंद

By HindusthanSamachar | Publish Date: Sep 16 2018 8:17PM
दरार की मरम्मत को लेकर विक्रमशिला सेतु पर 18 दिनों तक वाहनों की आवाजाही रहेगी बंद
भागलपुर, 16 सितंबर (हि.स.)। बिहार के भागलपुर में विक्रमशिला सेतु के पाया में आयी दरार की मरम्मत को लेकर सेतु पर 28 सितंबर से 18 दिनों तक वाहनों की आवाजाही बंद रहेगी। कुल मिलाकर ये 18 दिन शहरवासियों के लिए परेशानी वाला साबित हो सकता है। शहर पर कई तरह के संकट उत्पन्न हो सकते हैं। नवगछिया इलाके से हर सुबह शहर में आनेवाले दूध, सब्जी व केला लदी साइकिल व अन्य छोटे वाहनों का पार करना मुश्किल होगा। इस कारण शहर में दूध, सब्जी व केला का तात्कालिक संकट उत्पन्न हो सकता है। दूसरी ओर दरार को ठीक करने की तैयारी चल रही है। 28 सितंबर से स्पेंडेड स्पेन के दोनों एक्सपेंशन ज्वाइंट को तोड़ने का काम होगा। इसके लिए कई राज्यों से कामगार बुलाये गये हैं। इस दौरान मायागंज स्थित सुधा दूध के केंद्र के लिए भी दूध की सप्लाई पर असर पड़ेगा। नवगछिया के विभिन्न क्षेत्रों से प्रतिदिन एक लाख लीटर दूध विभिन्न टैंकरों के माध्यम से पहुंचता है। प्रतिदिन इसमें 50 से 60 हजार लीटर दूध केवल नवगछिया क्षेत्र से आता है। इस दौरान भागलपुर को दूध का संकट झेलना पड़ सकता है। पुल के बंद रहने से दूध, सब्जी, फल आदि का संकट हो सकता है, जिसका असर इन सामग्री की कीमतों पर पड़ेगा। इसके अलावा नवगछिया इलाके में प्रतिदिन शहर से जानेवाले सरकारी कर्मियों के लिए मुश्किल भरा काम हो सकता है। नवगछिया इलाके से प्रतिदिन शहर आकर काम करनेवाले कर्मियों को भी बड़ी दिक्कत हो सकती है। टीएमबीयू द्वारा आयोजित परीक्षा में छात्रों को आने में दिक्कत होगी। स्कूली बच्चों को भी स्कूल आने में दिक्कत होगी। सेतु के मरम्मत के कारण त्योहारी मौसम से पहले भागलपुर के मुख्य बाजार पर ग्रहण लगने वाला है। विक्रमशिला पुल की मरम्मत को लेकर 28 से 15 अक्तूबर तक पूरी तरह से यातायात बाधित कर दिया जायेगा। थोक कारोबारियों को दुर्गा पूजा में कारोबार की चिंता बढ़ गयी है। नवगछिया, बिहपुर समेत कोसी क्षेत्र से रोजाना पांच करोड़ का कारोबार प्रभावित होगा। जानकारों के मुताबिक पांच फीसदी महंगाई तय है। गुड्स ट्रांसपोटर्स एसोसिएशन का मानना है कि विक्रमशिला पुल से ही भागलपुर बाजार के लिए प्रतिदिन 200 ट्रक आते हैं। इसमें कपड़ा, लोहे के सामान, रेडिमेड, बरतन, खाद, बीज, मोटर पार्ट्स, ऑटो पार्टस, दवा, कंज्यूमर आइटम रहते हैं। इससे 50 फीसदी कारोबार प्रभावित होगा। यदि इसके लिए दूसरे रूट का इस्तेमाल किया गया तो जाने व आने में ढुलाई खर्च दोगुनी हो जायेगी। दक्षिणी भारत, झारखंड, कोलकाता व देश के विभिन्न हिस्सों में जाने के लिए विक्रमशिला पुल होकर ही ट्रक गुजरते हैं। इससे महंगाई बढ़नी तय है। विक्रमशिला सेतु के मरम्मत के दौरान 18 दिनों तक पुल होकर दो पहिया वाहन भी नहीं चल पायेंगे। ऐसे में रोजाना नवगछिया अनुमंडल से भागलपुर आकर पढ़ाई करने वाले छात्रों को मुश्किलों का सामना करना पड़ेगा। वहीं स्कूल, कॉलेज, कचहरी व अन्य कार्यालय में कार्यरत कामगारों को रोजाना आने जाने में फजीहत होगी। कई स्कूल बस छात्रों को स्कूल तक लाने के लिए शहर से नवगछिया की ओर जाती है। वहीं नवगछिया अनुमंडल के विभिन्न सरकारी स्कूलों में पढ़ाने वाले दो सौ से अधिक शिक्षक भागलपुर से आवाजाही करते हैं। शिक्षकों पुल को पुल के मरम्मत होने तक नवगछिया में रह कर स्कूल की ड्यूटी करनी होगी। इससे मायागंज अस्पताल के इमरजेंसी में इलाज के लिए आने वाले मरीजों को संकट बढ़ जायेगा। नवगछिया, कटिहार, पूर्णिया, सहरसा, अररिया, किशनगंज समेत कई जिले के रोगी मायागंज अस्पताल में इमरजेंसी की सुविधा के लिए आते हैं। इनमें ज्यादातर मरीजों की स्थिति नाजुक ही रहती है। ऐसे में अब गंगा पार मरीजों को बेहतर इलाज के लिए पटना या सिलीगुड़ी का रुख करना होगा। बताते चलें कि विक्रमशिला सेतु के पाया संख्या तीन और चार के बीच आर्टि(जोड़बंदी) में स्पेंडेड स्पेन (फैला हुआ स्पेन) है, जिसमें आयी दरार को ठीक करने की तैयारी चल रही है। पहले से सेतु की मरम्मत करा रही मुंबई की कार्य एजेंसी रोहरा रीबिल्ड ही यह काम करेगी। इसके लिए ट्रैफिक ब्लॉक भी मिल गया है। 28 सितंबर यानी पहले दिन से स्पेंडेड स्पेन के दोनों एक्सपेंशन ज्वाइंट को तोड़ने का काम होगा। इपोक्सी से दरार साटने का काम होगा। इस काम के लिए कम से कम तीन से चार दिन लगेगा। इसके बाद कार्बन प्लेट लगायी जायेगी। कार्बन प्लेट लगाने के लिए स्पेंडेड स्पेन को हाइड्रोलिक जैक से उठाया जायेगा। यह काम 15 अक्टूबर तक पूरा हो सकेगा। इसके लिए बिहार, पश्चिम बंगाल, ओड़िशा, यूपी आदि जगहों से प्रशिक्षित कामगारों को लाया है और ये सभी सप्ताह भर पहले से ही पाये के स्पेन में दरार पर काम कर रही है। ट्रैफिक ब्लॉक 28 सितंबर से 15 अक्टूबर के लिए मिला है। हिन्दुस्थान समाचार/बिजय /चंदा/शंकर
image