Hindusthan Samachar
Banner 2 बुधवार, सितम्बर 26, 2018 | समय 19:47 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

काशी कोतवाल के स्वर्ण रजत पंचबदन प्रतिमा की निकली वार्षिक शोभायात्रा

By HindusthanSamachar | Publish Date: Jul 14 2018 12:32PM
काशी कोतवाल के स्वर्ण रजत पंचबदन प्रतिमा की निकली वार्षिक शोभायात्रा
वाराणसी,14 जुलाई (हि.स.)। काशी कोतवाल बाबा कालभैरव के रजत पंचबदन प्रतिमा की 65वीं बार भव्य वार्षिक शोभायात्रा स्वर्णकार क्षत्रिय कमेटी के तत्वावधान में शनिवार की सुबह निकाली गयी। चौखम्भा स्थित काठ की हवेली से गाजे बाजे के बीच फूलों से सुसज्जित रथ पर बाबा की स्वर्ण रजत प्रतिमा को विराजमान कराया गया। परम्परा निभाते हुए बसन्त सिंह और उनके परिजनों ने रथ को खींचा। रथयात्रा मेले पर निकलने वाली इस शोभायात्रा में विजय बाल्मिकी द्वारा मंचित कृष्ण लीला बरसाने की फूलों की होली,छोटे-छोटे ग्वाल,गैया आकर्षण का केन्द्र रही। रथ पर सवार बाबा कालभैरव,मां काली के स्वरूप ने प्रसाद देने के साथ लोगों को आर्शीवाद भी दिया। इस दौरान सड़क किनारे खड़े हजारों श्रद्धालुओं ने जिसमें महिलाएंं और बच्चे भी शामिल थे। शोभायात्रा पर लगातार पुष्प वर्षा करते रहे। शोभायात्रा प्रात:काल आठ बजे बीबी हटिया,जतनबर,दूधकटरा,विश्वेश्वरगंज,महामृत्युंजय दारानगर,मध्यमेश्वर,मैदागिन,बुलानाला,चौक,ठठेरी बाजार,सोराकुआं,गोलघर,भुतही इमली होते हुए कालभैरव मंदिर पहुंची। इसमें 11 घोड़ों पर भगवान राम,लक्ष्मण,भरत,शत्रुघ्न व हनुमान के प्रतीक के साथ सैकड़ों भक्त पुलिस घुड़सवार तासा बाजा भी शामिल हुए। शोभायात्रा के आगे विशाल डमरू दल जहां डमरू नृत्य कर रहा था। वहीं शंखध्वनि दल शंख बजाते हुए चल रहा था। शोभायात्रा के स्वागत के लिए जगह-जगह तोरण द्वार बना था। कुल चालीस स्थानों पर शोभायात्रा का स्वागत लोगों ने किया। कालभैरव मंदिर में सायंकाल वैदिक आचार्य पं.लक्ष्मीकान्त दीक्षित के अगुवार्इ् में 11 भूदेव बसन्त पूजा करेंगे । देर शाम 11 बजे महाआरती के साथ कार्यक्रम का समापन होगा। शोभायात्रा में काशी सुमेरूपीठाधीश्वर शंकराचार्य स्वामी नरेन्द्रानन्द्र सरस्वती, कमेटी के अध्यक्ष मुरली मनोहर सिंह आदि शामिल रहे। हिन्दुस्थान समाचार/श्रीधर/संजय
image