Hindusthan Samachar
Banner 2 रविवार, जुलाई 22, 2018 | समय 17:56 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

नकल भर्ती गिरोह को एसओजी ने लिया सात के लिए लिया रिमांड पर

By HindusthanSamachar | Publish Date: Jul 13 2018 11:08PM
नकल भर्ती गिरोह को एसओजी ने लिया सात के लिए लिया रिमांड पर
सभी आरोपी कोर्ट में किए पेश, अन्य कोचिंग सेंटरों पर भी पुलिस की नजर जोधपुर, 13 जुलाई (हिस)। नकल गिरोह प्रकरण की जांच एसओजी की तरफ से शुरू कर दी गई है। गुरूवार को जेल भेजे गए नकल गिरोह को शुक्रवार को एसओजी ने जेल से प्रोडक्शन वारंट पर गिरफ्तार कर अदालत में पेश किया। जहां से सभी 11 आरोपियों को न्यायलय की तरफ से 7 दिन की अभिरक्षा में भेज दिया गया है। सनद रहे कि जोधपुर रेंज व ग्रामीण पुलिस ने संयुक्त रूप से कार्रवाई कर बुधवार को नकल भर्ती गिरोह का भंडाफोड़ किया था। पुलिस ने इस मामले में जालोरी गेट स्थित अनुपम क्लासेज के संचालक भीखाराम जाणी तथा उसके सहयोगी अरूण पंवार व सुरेश विश्नोई के साथ ही हिंगोली भोपालगढ़ निवासी रामदीन पुत्र मानाराम बेनिवाल, न्यू आईजी स्टूडियो खेमे का कुआं निवासी रमेश प्रजापत पुत्र रूपाराम, सरदार गढिया, थाना गोगामेढ़ी जिला हनुमानगढ़ निवासी रघुवीरसिंह पुत्र निहालसिंह, कानावास का पाना डांगियावास निवासी भंवरलाल पुत्र गोकुलराम विश्नोई, कूदसू, थाना पांचू, जिला बीकानेर निवासी हरिनारायण पुत्र हनुमानराम, रसीदा डांगियावास निवासी मालाराम पुत्र भानाराम विश्नोई, सरनाडा की ढाणी निवासी मनीष पुत्र भीरमाराम, पचपदरा बाड़मेर निवासी निर्मल पालीवाल पुत्र जेठाराम को गिरफ्तार किया था। पुलिस ने इन सभी आरोपियों को गुरुवार को अदालत में पेश किया जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया। इस प्रकरण की जांच एसओजी के निरीक्षक शंकरलाल को सौंपी गई है। इस मामले को लेकर जोधपुर कमिश्नरेट व रेंज पुलिस के बीच मतभेद शुरू हो गए थे। कमिश्नरेट कार्रवाई की वैद्यता को संदिग्ध बता रहा है तो रेंज पुलिस उसे पूरी तरह वैध बताया। कमिश्नरेट पुलिस का कहना है कि उनके क्षेत्राधिकार में घुसकर रेंज व ग्रामीण पुलिस ने कार्रवाई की है। अगर उनके पास एेसे किसी गिरोह की सूचना थी तो वे उन्हें सूचना दे सकते थे लेकिन उन्होंने यह कार्रवाई गुप्त तरीके से उनसे छिपाते हुए की। एसओजी करेंगी कुछ और गिरफ्तारियां व दस्तावेजों की बरामदगी: बताया गया है कि इस मामले में कुछ और गिरफ्तारी संभव है। साथ ही पुलिस उन कोचिंग सेंटरों पर नजर रख रही है जो शर्तियां नौकरी लगवाने की गारंटी लेते है। पुलिस को अंदेशा है इस गिरोह ने करीब पचास से अधिक परीक्षार्थियों से रुपए लिए है। पुलिस को आरोपियों के कब्जे से ऐसे परीक्षा केन्द्रों की सूची भी मिली है, जहां मिलीभगत से अभ्यर्थियों को नकल कराने की साजिश थी। साथ ही कई एेसे युवकों की जानकारी भी हाथ लगी है जो फर्जी अभ्यर्थी बनने वाले थे। हिन्दुस्थान समाचार/ सतीश/ ईश्वर
image