Hindusthan Samachar
Banner 2 सोमवार, नवम्बर 19, 2018 | समय 06:00 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

एेतिहासिक जन्माष्टमी झूला उत्सव की तैयारियां शुरू

By HindusthanSamachar | Publish Date: Jul 13 2018 9:57PM
एेतिहासिक जन्माष्टमी झूला उत्सव की तैयारियां शुरू
रायगढ़ 13 जुलाई (हि.स.)। कला एवं संस्कृति की नगरी रायगढ़ में एेतिहासिक जन्माष्टमी झूला उत्सव का आयोजन बड़े धूम-धाम व गरिमामयी ढंग में मनाया जाता है। इस महाउत्सव को देखने रायगढ़ जिला ही नहीं बल्कि अन्य प्रान्तों से भी हजारो की संख्या में दर्शनार्थी यहां आते है। श्याम मंडल के प्रचार मंत्री महावीर अग्रवाल एवं गुलाब डालमिया ने बताया कि कृष्ण जन्माष्टमी को लेकर श्याम मंडल की बैठक का आयोजन किया गया जिसमें 24वें इस ऐतिहासिक झूला उत्सव को लेकर विभिन्न निर्णय लिये गये। इस वर्ष के आयोजन हेतु प्रदर्शनी के उदघाटन के लिए प्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के अलावा कई अन्य अतिथियों को भी आमंत्रित किया जाएगा। इस वर्ष भी संजय काम्पलेक्स स्थित श्याम बगीची में 14 हजार वर्गफूट के विशाल वाटर प्रुफ पंडाल का निर्माण किया जाएगा। समुचे राज्य में रायगढ़ जन्माष्टमी मेले के लिए प्रसिद्ध है। यहां प्रति वर्ष भव्य मेले का आयोजन यहां किया जाता है। श्याम मंडल द्वारा यह आयोजन पिछले 23 वर्षों से किया जा रहा है । इस उत्सव में दर्शनार्थियों की संख्या प्रति वर्ष 5 लाख से भी अधिक होती है । इस वर्ष भी दिनांक 1 सितम्बर से 5 सितम्बर तक भव्य पंडाल के अन्दर नयनाभिराम अत्याधुनिक स्वचलित झाकियों का दर्शन का अनोखा लाभ श्रद्धालुओं को होगा इन झाकियां के दर्शन मात्र से संजीदगियों का एहसास होने लगेगा। विशाल पंडाल के भीतर कलकत्ता से आये विश्व प्रसिद्ध कुमार टुली से आये 15 मूर्तिकारों ने महाभारत, रामायण व अनेक धार्मिक कथाओं पर आधारित मनोहारी, सुन्दर झाकियों का निर्माण कार्य जोर-शोर से प्रारंभ कर दिया है । श्री अग्रवाल ने आगे बताया इस बार जन्माष्टमी के मेले में आयोजित इस झांकियों के दर्शन में छत्तीसगढ़ के लोक कला एवं संस्कृति पर आधारित कई झांकियों का समावेश रहेगा । जिसे निर्माण करने की दिशा में पूरे श्याम मंडल के सदस्यों का विशेष सहयोग संस्था को मिल रहा है । जन्माष्टमी मेले में चार - चांद लगाने का प्रयास कर रायगढ़ नगर सहित छत्तीसगढ़ में अपनी अनूठी छाप बरकरार रखने वाला रायगढ़ का जन्माष्टमी मेले का विशेष आकर्षण इस वर्ष देखने हेतु श्याम मंडल प्रयासरत है । जिससे जन्माष्मी मेला 2018 की स्वचलित झाकिंया अभूतपूर्व एवं श्रद्धालुओं के लिए यादगार साबित हो। हिन्दुस्थान समाचार/रमेश/गायत्री प्रसाद
image