Hindusthan Samachar
Banner 2 रविवार, अगस्त 19, 2018 | समय 06:10 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

बिहार के राज्यपाल ने की शिक्षा बजट बढ़ाने की वकालत

By HindusthanSamachar | Publish Date: Jun 14 2018 9:26PM
बिहार के राज्यपाल ने की शिक्षा बजट बढ़ाने की वकालत
पटना, 14 जून (हि.स.)। बिहार के राज्यपाल सह कुलाधिपति सत्यपाल मलिक ने शिक्षा पर बजटीय प्रावधान को और अधिक बढ़ाये जाने की वकालत की है। उन्होंने कहा कि कोई भी मुल्क धन-संपदा, सड़कों-पुलों, महल-अट्टालिकाओं आदि से ज्यादा अपने नागरिकों के चरित्र के बल-बूते महान और ताकतवर बनता है। नागरिकों के चरित्र का निर्माण शिक्षा के द्वारा ही होता है। उन्होंने प्रदेश में उच्च शिक्षा में सुधार लाने का संकल्प दुहराते हुए कहा कि इस दिशा में उन्होंने कई कदम उठाये है। छात्र संघों का चुनाव, सीबीसीएस पाठयक्रम लागू करने की तैयारी के साथ पढ़ाई एवं परीक्षा में गुणात्मक सुधार के लिए कदम उठाये जा रहे है। राज्यपाल-सह-कुलाधिपति गुरुवार को यहां पटना विश्वविद्यालय के शताब्दी समारोह के अवसर पर पटना विश्वविद्यालय छात्रसंघ द्वारा स्थानीय श्रीकृष्ण मेमोरियल हॉल हाॅल में आयोजित राज्य के विश्वविद्यालयों के छात्रसंघों के वर्तमान पदाधिकारियों केे एकदिवसीय सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। सम्मेलन ‘बिहार की राजनीति में छात्र नेताओं की भूमिका-सह-छात्र संवाद’ विषय पर आयोजित था। उन्होंने कहा कि बिहार के कॉलेजों की छात्राएं और प्रदेश की महिलाएं या लड़कियां अब छेड़खानी की शिकायत सीधे राजभवन में कर सकेंगी। छेड़खानी की शिकायत थाने में बाद में पहले राजभवन में होगी। इसके लिए कोई भी महिला राजभवन में 24 घंटे में कभी भी फोन कर सकती है। इसके लिए राजभवन में कुछ अधिकारियों को भी नियुक्त किया गया है। राजभवन के ये अधिकारी खुद जाकर महिला की ना सिर्फ सहाय़ता बल्कि एफआईआर वगैरह दर्ज करायेंगें। इसके लिए राजभवन में कुछ टेलिफोन लाइन्स लगाये जा रहे हैं। राज्यपाल ने कहा कि हर कक्षा में अब सीसीटीवी कैमरे लगाये जायेंगे और कॉलेज के शिक्षक भी अब हर समय राजभवन की नजर में होंगे। शिक्षकों को अब ना सिर्फ बायोमिट्रिक मशीन में हाजिरी लगानी होगी बल्कि उनकी हर कक्षा पर सीसीटीवी के माध्यम से राजभवन की नजर रहेगी। शिक्षक क्या पढा रहे हैं, पढा भी रहें हैं या नहीं, ये सब राजभवन की निगरानी में रहेगा और एक साल के अंदर इसकी व्यवस्था पूरी कर ली जाएगी। रा हर कॉलेज के छात्रों और शिक्षकों को अपनी महिला सहकर्मियों और छात्राओं का सम्मान करना होगा। हिन्दुस्थान समाचार /अरुण/
image