Hindusthan Samachar
Banner 2 शनिवार, दिसम्बर 15, 2018 | समय 03:24 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

बाबतपुर एयरपोर्ट पर अब रोबोट भी संदिग्ध लावारिस बैग का करेगा जांच

By HindusthanSamachar | Publish Date: Jun 14 2018 9:19PM
बाबतपुर एयरपोर्ट पर अब रोबोट भी संदिग्ध लावारिस बैग का करेगा जांच
एयरपोर्ट अथारिटी ने सुरक्षा व्यवस्था को किया चौकस वाराणसी,14 जून (हि.स.)। बाबतपुर स्थित लाल बहादुर शास्त्री हवाई अड्डे पर एयरपोर्ट अथारिटी ने सुरक्षा व्यवस्था का चाक चौबन्द इन्तजाम किया है। एयरपोर्ट परिसर और आसपास आयेदिन बैग में संदिग्ध लावारिस वस्तुओं के मिलने की घटनाओं को देख अथारिटी ने सीआईएसएफ के बम निरोधक दस्ते में अब रोबोट को भी शामिल कर लिया है। एयरपोर्ट निदेशक अनिल कुमार राय ने गुरुवार को मीडिया को बताया कि सुरक्षा व्यवस्था में जिस रोबोट को शामिल किया गया है। वह लावारिस वस्तुओं की सूचना पर वस्तु को वहां से उठकार सुरक्षित स्थान पर ले जाएगा। जांच के बाद बैग में यदि बम या विस्फोटक पदार्थ मिला तो रोबोट उसे थ्रेट ऑब्जेक्ट कंटेंट व्हीकल में डाल देगा। इसी व्हीकल में बम को निष्क्रिय कर दिया जायेगा लेकिन इसका असर बाहर नहीं होगा। बताया कि रोबोट का सफल परीक्षण किया गया हैं। बताया भारतीय विमान पत्तन प्राधिकरण ने सीआइएसएफ के बीडीडीएस दस्ते को आरओवी (रिमोट ऑपरेटेड व्हीकल) रोबोट दिया है। यह रोबोट दिल्ली, मुंबई, हैदराबाद, कोलकाता एयरपोर्ट पर पहले से है। इसे कनाडा से एक करोड़ 60 लाख रुपये में मंगाया गया है। इस रोबोट को एयरपोर्ट टर्मिनल बिल्डिंग के अति सुरक्षित क्षेत्र में रखा गया हैं । इससे एयरपोर्ट पर आतंकी घटनाओं पर भी लगाम लगेगा। बताया रोबोट सुरक्षा की दृष्टि से बेहद कारगर है। डिप्टी कमांडेंट सुब्रत झा के अनुसार नई तकनीक से बनी इस मशीन से दस किलो वजन तक के संदिग्ध सामान व बैग को रिमोट के सहारे उठाकर बाहरी स्थान पर ले जाया जा सकता है। इस मशीन को सीआइएसएफ के बीडीडीएस (बम डिटेक्शन एंड डिस्पोजल स्क्वॉयड) जवान आपरेट करेंगे। इसके पूर्व अफसरों की मौजूदगी में रोबोट की कार्यक्षमता भी परखी गई। रोबोट में खास बात यह हैं कि पांच सौ मीटर दूर से भी रिमोट के सहारे इसे चलाया जा सकता है। इसमें एचडी कैमरे, सेंसर और माइक आदि लगे हैं। मशीन आपरेटर संदिग्ध वस्तुओं का स्कैन करने के अलावा दूर बैठे वहां की हलचल भी सुन सकता है। बैग में कोई विस्फोट है या नहीं वह भी स्कैनिंग कैमरे की मदद से मालूम हो जाएगा। हिन्दुस्थान समाचार/श्रीधर/संजय
image