Hindusthan Samachar
Banner 2 गुरुवार, अगस्त 16, 2018 | समय 12:32 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

राजस्थान की धूल भरी आंधी से एक बार फिर बिगड़ेगा मौसम

By HindusthanSamachar | Publish Date: Jun 14 2018 9:21PM
राजस्थान की धूल भरी आंधी से एक बार फिर बिगड़ेगा मौसम
कानपुर, 14 जून (हि.स.)। जून माह में लगभग हर चौथे दिन मौसम का मिजाज बदल रहा है जिससे लोगों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। लेकिन अभी भी मौसम में स्थायित्व आने के आसार नहीं हैं। मौसम विभाग के मुताबिक पश्चिमी हवाओं के चलते राजस्थान की धूल भरी आंधी एक बार फिर तबाही मचा सकती है। मानसून दक्षिण भारत से चलकर मध्य भारत तक पंहुच चुका है और लोगों को उम्मीद थी कानपुर में मानसून अपने समय यानि 18 जून के आस-पास आ जायेगा। लेकिन तेजी से चल रहीं पश्चिमी हवाओं से इस पर असर पड़ना तय है। जिससे लोगों को अभी गर्मी से छुटकारा नहीं मिल सकेगा। चन्द्रशेखर आजाद कृषि प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के मौसम वैज्ञानिक डा. अनिरूद्ध दुबे ने बताया कि राजस्थान में धूल भरी आंधी चल रही है और अब हवाओं की दिशायें बदलने से धूल भरी आंधी का रूख उत्तर भारत की ओर हो गया है। एनसीआर तक यह धूल भरी आंधी पंहुच चुकी और कानपुर में भी देर शाम तक पंहुचने की संभावना है। इस धूल भरी आंधी का कहर एक दो दिनों तक देखने को मिलेगा। धूल भरी आंधी से वायु प्रदूषण बढ़ेगा तो वहीं इनकी अधिक गति होने से आम जनमानस को नुकसान का भी सामना करना पड़ सकता है। ऐसे में मौसम के मिजाज को देखते हुये ही लोग घरों से बाहर निकलें। कहा, इस धूल भरी आंधी के थमने के बाद ही मानसून का रूख उत्तर भारत की ओर होगा। पश्चिमी हवाओं के चलते गुरूवार को अधिकतम तापमान में कमी आई और न्यूनतम तापमान में बढ़ोत्तरी आयी। वहीं मौसम विभाग द्वारा अलर्ट जारी होने से जिला प्रशासन भी चौकन्ना हो गया है और जिलाधिकारी सुरेन्द्र सिंह ने बैठक बुलाकर संबंधित विभागों को आवश्यक निर्देश दियें। डा. दुबे ने बताया कि जहां बुधवार को सुबह 10 बजे तक अधिकतम तापमान 30 डिग्री सेल्सियस रहा तो वहीं गुरूवार को 29 डिग्री रहा। इसके बाद दोपहर तक आसमान साफ होने से अधिकतम तापमान 40.6 डिग्री सेल्सियस जा पंहुचा। जो कल की अपेक्षा एक डिग्री सेल्सियस कम रहा। वहीं न्यूनतम तापमान में एक डिग्री सेल्सियस की बढ़ोत्तरी हुई और 28.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। बताया कि पश्चिमी हवाएं चल रहीं हैं, जिनकी रफ्तार 6.3 किलोमीटर प्रति घंटा रही, पर इसमें किसी भी समय बदलाव हो सकता है। सुबह की आर्द्रता में 21 फीसदी की घटोत्तरी के साथ 39 फीसदी और दोपहर की आर्द्रता में आठ फीसदी की गिरावट के साथ 25 फीसदी दर्ज की गयी। हिन्दुस्थान समाचार/अजय
image