Hindusthan Samachar
Banner 2 मंगलवार, अक्तूबर 16, 2018 | समय 20:30 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

श्रीलक्ष्मी वेंकटेश्वर मंदिर का दिव्य श्रीमद् भागवत भक्ति महोत्सव 15 से 21 जून तक

By HindusthanSamachar | Publish Date: Jun 14 2018 9:12PM
श्रीलक्ष्मी वेंकटेश्वर मंदिर का दिव्य श्रीमद् भागवत भक्ति महोत्सव 15 से 21 जून तक
22 से 24 जून तक श्रीलक्ष्मी वेंकटेश्वर मंदिर का एकादश वार्षिकोत्सव सह कल्याणोत्सव का आयोजन रांची, 14 जून : श्रीलक्ष्मी वेंकटेश्वर मंदिर संचालन समिति की ओर से दिव्य श्रीमद् भागवत भक्ति महोत्सव का आयोजन 15 से 21 जून तक किया गया है। श्रीलक्ष्मी वेंकटेश्वर मंदिर के निकट विशाल भगवान दास सत्संग हॉल का निर्माण कराया गया है। इस हॉल के उद्घाटन के लिए श्रीमद्भावगत कथा का आयोजन किया गया है। महोत्सव में वृंदावन से पधारे जगद्गुरु रामानुजाचार्य श्रीस्वामी अनिरूद्धाचार्यजी महाराज कथा का श्रवण करायेंगे। उनके साथ विद्वानों की टोली भी आयी है। इासमें मुख्य रूप से श्रीस्वामी माधवनारायणाचार्यजी, गोविंदाचार्यजी, कपिल मुनि, अजित नारायण, भागवताचार्य, श्री मुकेश शास्त्री आदि हैं। कथा प्रतिदिन दोपहर तीन से शाम छह बजे तक चलेगी। दिव्य श्रीमद्भागवत कथा भक्ति महोत्सव के मुख्य यजमान अशोक कुमार-राजदेवी राजगड़िया होंगे। गुरुवार को आयोजित प्रेसवार्ता में यह जानकारी समिति के कार्यकारी अध्यक्ष रामअवतार नारसरिया ने दी। उन्होंने बताया कि शुक्रवार सुबह नौ बजे श्रीमद्भागवत महापुराण का पूजन श्रीलक्ष्मी वेंकेटश्वर मंदिर में शुरू होगा। शास्त्रोक्त मंत्रोचारण के बीच श्रीमद्भागवत महापुरण को भगवानदास सत्संग हॉल में कथा स्थल पर ले जायेंगे। इसके बाद विधि-विधान से दैनिक पूजन शुरू होगा। दिव्य श्रीमद्भागवत कथा के शुभारंभ के साथ ही भगवानदास सत्संग हॉल को श्रीस्वामी अनिरूद्धाचार्यजी महाराज द्वारा बैकुंठवासी श्रीगुरुदेव जगदगुरु रामानुजाचार्य, श्रीस्वामी भगवानदासाचार्य जी महाराज को समर्पित कर दिया जायेगा। महोत्सव के बाद 22 से 24 जून तक श्रीलक्ष्मी वेंकटेश्वर मंदिर का एकादश वार्षिकोत्सव सह कल्याणोत्सव के आयोजन होगा। 22 जून की शाम चार बजे से कलश स्थापना और यजमान संकल्प होगा। 23 जून की सुबह आठ बजे से श्रीसूदर्शन होमम और दोपहर दो बजे से जगतनियन्ता भगवान श्रीलक्ष्मी वेंकटेश्वर जगत जननी महालक्ष्मी के साथ नगर भ्रमण के लिये निकलेंगे। 24 जून की सुबह आठ बजे से सर्वशक्तिमान भगवान श्रीतिरूपति बालाजी का सौभाग्यदायिनि जगतजननी महालक्ष्मी और श्रीभूदेवीजी के साथ शुभ कल्याणोत्सव (शास्त्रोक्त विधि से मंगल-विवाह) सम्पन्न होगा। श्रीसुदर्शन होमम और कल्याणोत्सव सम्पन्न कराने के लिये कांचीपुरम से विद्वानों का दल वरदराज भगवान मंदिर के मुख्य अर्चक श्री वत्स भट्टर के नेतृत्व में रांची आयेगा। भगवान जगतजननी के साथ पालकी पर विराजमान होकर नगर भ्रमण के लिये निकलेंगे। पालकी उठाने के लिये विशेषज्ञों का दल कांचीपुरम से आ रहा है। सभी मांगलिक कार्यों की साक्षी के लिए दक्षिण का वाद्ययंत्र नादेश्वरम का दल भी रांची आ रहा है। सभी कार्यक्रमों की सफलता के लिये विभिन्न उपसमितियों का गठन किया गया है। हिन्दुस्थान समाचार /राजीव
image