Hindusthan Samachar
Banner 2 शुक्रवार, जून 22, 2018 | समय 16:21 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

फर्जी प्रमाणपत्र बना अनुदानित ट्रैक्टर लेने वाला मंत्री रामचंद्र का नावाबाजार प्रतिनिधि गिरफ्तार

By HindusthanSamachar | Publish Date: Jun 14 2018 9:04PM
फर्जी प्रमाणपत्र बना अनुदानित ट्रैक्टर लेने वाला मंत्री रामचंद्र का नावाबाजार प्रतिनिधि गिरफ्तार
रांची, 14 जून (हि.स.)। झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी के नावाबाजार (पलामू) प्रखंड प्रतिनिधि रामरेखा राम को नावाबाजार पुलिस ने गुरुवार को चनेया स्थित उसके घर से गिरफ्तार कर लिया। उसे न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। इस मामले में नावाबाजार थाना में रामरेखा राम पर प्राथमिकी दर्ज की गयी थी। पलामू जिले के नावाबाजार प्रखंड स्थित चनेया गांव निवासी भूमिहीन रामरेखा राम ने वित्तीय वर्ष 2015-16 में भूमि संरक्षण विभाग की ओर से मिलने वाले अनुदानित ट्रैक्टर का लाभ लेने के लिए आवेदन दिया था। नावाबाजार प्रखंड के हल्का तीन के कर्मचारी सत्येंद्र पांडेय का फर्जी हस्ताक्षर कर उसने 5 एकड़ 85 डिसमिल का भूमिधारण प्रमाणपत्र बना लिया और विभाग से अनुदानित ट्रैक्टर लेने में सफल रहा। इस मामले को लेकर मुख्यमंत्री जनसंवाद केंद्र में शिकायत की गई। इसके बाद जांच में स्पष्ट हुआ कि राम रेखा राम ने फर्जीवाड़ा किया है। इसके बाद स्वास्थ्य मंत्री के करीबी व मामले के आरोपी पर प्राथमिकी दर्ज करते हुए ट्रैक्टर जब्त करने का आदेश दिया गया। मुख्यमंत्री जनसंवाद के आदेश पर राजस्व कर्मचारी सत्येंद्र पांडेय ने आरोपी पर प्राथमिकी दर्ज करने लिये अगस्त 2017 में ऑनलाइन आवेदन दिया था, लेकिन तत्कालीन थाना प्रभारी ने इसमें रुची नहीं दिखायी। इसके बाद एसपी इंद्रजीत महथा से इसकी शिकायत की गई। एसपी ने इसे गंभीरता से लिया और उनकी पहल पर नावाबाजार थाने में छह अप्रैल को प्राथमिकी दर्ज की गयी। इसके साथ ही मामले का अनुसंधान भी शुरू कर दिया। जांच में आरोप साबित हुआ और मंत्री चंद्रवंशी का प्रतिनिधि रामरेखा राम दोषी पाया गया और उसकी गिरफ्तारी का आदेश जारी हुआ। चंद्रवंशी के करीबी रामरेखा राम के हिस्से में है 48 डिसमिल जमीन वित्तीय वर्ष 2015-16 में भूमि संरक्षण विभाग की ओर से किसानों को दिए जाने वाले अनुदानित ट्रैक्टर में पदाधिकारियों की लापरवाही से नावाबाजार प्रखंड क्षेत्र के चनेया गांव निवासी रामरेखा राम को ट्रैक्टर दे दिया गया। रामरेखा राम के नाम पर सिर्फ 48 डिसमिल जमीन है। बताया जाता है कि उनके पिता के हिस्से में कुल 2 एकड़ 40 डिसमिल जमीन है। रामरेखा राम पांच भाई है। इसके बाद रामरेखा के हिस्से की 48 डिसमिल जमीन की जगह 5 एकड़ 85 डिसमिल जमीन का फर्जी भूमिधारण प्रमाणपत्र जारी किया गया। हिन्दुस्थान समाचार /राजीव/प्रतीक
image